Himalaya Gaatha-5 (Lokvarta)

Sudarshan Vashishath

Availability: In stock

Seller: KGPBOOKS

Qty:
600.00 480 + Free Shipping


  • Year: 2017

  • Binding: Hardback

  • Publisher: Suhani Books

  • ISBN No: 978-81-904232-7-4

हिमालय गाथा-5 (लोकवार्ता)
अदभुत है लोक वाड्मय। यह जितना गहन है, उतना ही तर्कशील और विवेकशील है । इसके रचयिता वे अनाम रचनाकार रहे हैं, जिन्होंने कभी अपने नाम नहीं दिए । लोक की रचना जितनी मारक रही है, उतनी ही काव्यमयी । हालाँकि उन रचयिताओं ने कहीँ से छंदविधान नहीं सीखा, किसी काव्यशास्त्र की शिक्षा नहीं ली । सबसे बडी बात यह कि राजाओं के निरंकुश शासन के समय भी उन्होंने बड़ी से बडी बात अपने ढंग से निडर होकर कही । वे काल और स्थिति के अनुसार नए-नए छंद रचते रहे । लोक की रचना में अपनी परंपरा के वहन के साथ समाज- सुधार की एक धारा भी निखार बहती रही । अपनी संस्कृति का संरक्षण, अपने संस्कारों का समादर इनका अभीष्ट रहा ।
हमारी लोकवार्ता लोकगीत, लोकसंगीत, लोकनाट्य, लोकोक्ति-मुहावरे, लोककथा और लोकगाथा के रूप में सुरक्षित रही है। यह मात्र मनोरंजन का साधन न होकर संस्कृति के संवाहक और संरक्षक के रूप में अधिक जानी गई । समाज के विश्वास, आस्थाएँ, धारणाएं और समस्त क्रियाकलाप लोकवार्ता में परोक्ष रूप से छिपे रहते हैं, जो हमारी थाती को बुढ़िया की गठडी की भाँति सिरहाने रखे रहते हैं।
लेकिन आज हमारी यह संपदा लुप्त होने के कगार पर है । भौतिकवाद, बाजारवाद और समाज के बदलते परिवेश और मूल्यों ने पुरानी परंपराओं को धराशायी कर दिया । लोकगायकों, वादकों ने अपना कर्म छोड़ दिया । आज न किसी के पास कथा या गाथा सुनने का समय है और न सुनने का । दादी-नानी दूरदर्शन में सास-बहू की कहानी देखती हैं । हम अपनी भाषा, वेशभूषा से विमुख हुए । ऐसे अपसंस्कृति के कुसमय में इस दुर्लभ साहित्य का संग्रहण आवश्यक हो जाता है ।
कथाकार सुदर्शन वशिष्ठ ने इस अमूल्य थाती का संग्रह कर एक अति महत्त्वपूर्ण काम किया है, जिसके लिए कल का इंतजार नहीं किया जा सकता था । लोकवार्ता की मात्र प्रस्तुति न देकर उसका सांस्कृतिक और मनोवैज्ञानिक विश्लेषण विषय को और भी गहनता प्रदान करता है । 'हिमालय गाथा' के पाँचवें खंड में दी गई दुर्लभ सामग्री हमारी परंपराओं के अध्ययन के लिए एक मील का पत्यर साबित होगी, ऐसा विश्वास है ।

Sudarshan Vashishath

सुदर्शन वशिष्ठ
जन्म  : 24 सितंबर, 1949, पालमपुर (हि०प्र०) के एक गाँव में
प्रकाशान : 'अंतरालों में घटता समय’, 'सेमल के फूल', 'पिंजरा', 'हरे-हरे   पतों का घर', 'संता  पुराण', 'कतरनें' (कहानी-संग्रह); चुनिंदा कहानियों के तीन संग्रह प्रकाशित; 'आतंक', 'सुबह की नींद’ (उपन्यास) 'युग परिवर्तन, 'अनकहा' (काव्य-संकलन); 'अर्द्धरात्रि का सूर्य’ , 'नदी और रेत’ (नाटक); 'व्यास की धारा', 'कैलास पर चाँदनी', 'पर्वत से पर्वत तक', 'रंग बदलते पर्वत', 'पर्वत मंथन', 'हिमाचल', 'हिमाचल की लोककथाएँ', 'ब्राह्यणत्व : एक उपाधि', 'पुराण गाथा', 'देव संस्कृति' (संस्कृति शोध तथा यात्रा) 'हिमाचल संदर्भ कोष' (आठ खंडों में शीघ्र प्रकाशित)
दो काव्य-संकलन, चार कहानी-संग्रहों का संपादन । तीन पत्रिकाओं  तथा चार दर्जन से ऊपर सरकारी पुस्तकों का संपादन देश की वर्तमान तथा विगत शीर्षस्थ पत्र-पत्रिकाओँ में रचनाएँ प्रकाशित
जम्मू अकादमी, हिमाचल अकादमी, साहित्य कला परिषद दिल्ली सहित कई स्वैच्छिक संस्थाओं द्वारा साहित्य-सेवा के लिए सम्मानित

Scroll