Aids : Tathya Evam Bhrantiyan

Shuk Deo Prasad

Availability: In stock

Seller: KGPBOOKS

Qty:
100.00 90 + Free Shipping


  • Year: 2009

  • Binding: Hardback

  • Publisher: Bhartiya Prakashan Sansthan

  • ISBN No: 978-81-88122-35-6

एड्स कोई छुआछूत की बीमारी नहीं है कि रोगी का पारिवारिक या कि सामाजिक बहिष्कार किया जाय जैसा कि पहले कुष्ठ रोगियों प्रति किया जाता था। वैसे कुष्ठ भी अब असाध्य नहीं रहा। इस सामाजिक नजरिए में बदलाव की जरूरत है। एड्स रोगी को घृणा नहीं आपका स्नेह चाहिए। एक साथ रहने, उठने-बैठने, भोजन करने, सामूहिक स्नान गृह/शौचालय में जाने, वस्त्रों के संप्रयोग से एड्स नहीं फैलता और न ही एक दफ्तर में साथ काम करने से या कि भीड़ भरे स्थानों में, रेल-बस में साथ-साथ सफल करने से। अतः आप एच.आई.वी. संक्रमित/एड्स ग्रस्त व्यक्ति के साथ सहभागिता कर सकते हैं। ऐसी सामाजिकता से उसकी अपनी जिंदगी के प्रति रुझान बढ़ जाएगी।
एड्स के अधिकांश मामले यौन संसर्ग के देखे गए हैं। फिर दूषित रक्ताधान, साझे ब्लेडों, सुइयों/सिरिंजों के इस्तेमाल से भी संक्रमण होता है अर्थात् शारीरिक द्रव, यौनिक द्रव इसके प्रसार के कारण हें। इन बातों को ध्यान में रखकर और इनसे परहेज करके आप रोगी के साथ मजे से गुजर-बसर कर सकते हैं। एड्स के बारे में बहुत सी भ्रांत धारणाएं समाज में व्याप्त हैं। उन भ्रांतियों का निवारण और तथ्यों की सटीक जानकारी देना ही पुस्तक का मंतव्य है। एड्स के प्रति आम आदमी की भाषा में जागरूकता जगाने के ही उद्देश्य से पुस्तक लिखी गई है।

Shuk Deo Prasad

शुकदेव प्रसाद
जन्म: 24 अक्तूबर, 1954 को बस्ती जिले (अब सिद्धार्थ नगर) के एक शिक्षक परिवार में।
शिक्षा: प्रारंभिक शिक्षा गृह जनपद में तथा उच्च शिक्षा इलाहाबाद विश्वविद्यालय में। एम.एस-सी. (वनस्पति विज्ञान), एम.ए. (हिंदी), एम.ए. (अर्थशास्त्र) तथा एम.ए. (प्राचीन भारतीय इतिहास), साहित्य महोपाध्याय (मानद डाक्टरेट)।
लेखन/संपादन: हिंदी विज्ञान लेखन में प्रारंभ से रुचि। अब तक देश की विभिन्न पत्रा-पत्रिकाओं में विज्ञान- संबंधी 4000 से अधिक लेखों एवं शताधिक पुस्तकों का प्रणयन। ‘विज्ञान भारती’, ‘विज्ञान वैचारिकी’ एवं ‘पर्यावरण दर्शन’ पत्रिकाओं का कुशल संपादन।
पुरस्कार: उत्कृष्ट लेखन के लिए--साइंटिस्ट आफ टुमारो एवार्ड, उ.प्र. हिंदी संस्थान पुरस्कार, विक्रम साराभाई पुरस्कार, राष्ट्रीय बाल साहित्य पुरस्कार, डा. होमी भाभा पुरस्कार, सोवियत लैंड नेहरू पुरस्कार, विज्ञान और प्रौद्योगिकी पुरस्कार, कौटिल्य पुरस्कार, साहित्य महोपाध्याय (डाक्टरेट की मानद उपाधि हिंदी साहित्य सम्मेलन, प्रयाग, 1990), जगपति चतुर्वेदी बाल विज्ञान लेखन सम्मान, चमेली देवी महेन्द्र स्मृति पुरस्कार, राजभाषा पुरस्कार, डा. आत्माराम पुरस्कार, डा. संपूर्णानंद पुरस्कार, अनुशंसा पुरस्कार, विज्ञान वाचस्पति, सर्जना पुरस्कार, अवध भूषण, भारतीय साहित्य सुधा-रत्न, राष्ट्रीय ज्ञान-विज्ञान पुरस्कार तथा डा. सी.वी. रमन तकनीकी लेखन पुरस्कार।
संप्रति: शुकदेव प्रसाद शांति एवं विज्ञान प्रतिष्ठान, इलाहाबाद के अध्यक्ष/स्वच्छंद विज्ञान लेखक। ‘शुकदेव प्रसाद आन करंट साइंस’ के संपादक।

Scroll