Narsi Mehta

Hari Krishna Devsare

Availability: In stock

Seller: KGPBOOKS

Qty:
150 + Free Shipping


  • Year: 2009

  • Binding: Hardback

  • Publisher: Amarsatya Prakashan

  • ISBN No: 978-81-88466-35-1

नरसी मेहता अपने समय के एक परम भागवत गृहस्थ संत थे। गुजरात की पवित्र भूमि का यह परम सौभाग्य था कि वहां ऐसे भगवान् के प्रेमी संत ने जन्म लिया। उनकी भगवत्भक्ति ने सिर्फ गुजरात ही नहीं, अपितु समस्त भारत को प्रभावित किया। महात्मा गांधी को नरसी मेहता का निम्न पद बहुत प्रिय था, क्योंकि इसमें वैष्णव होने की जो व्याख्या की गई है, वह मानव-प्रेम का सच्चा संदेश देती है। आज लोग नरसी मेहता के इस पद से बहुत परिचित हैं-
वैष्णवजन तो तेने कहिए, जे पीड पराई जाणे रे,
पर दुःखे उपकार करे तोय, मन अभिमान न आणे रे।
सकल लोक मां सहुन वंदे, निंदा न करे केनी रे,
वाच काछ मन निश्चल राखे, धन धन जननी तेनी रे।
समदृष्टि ने तृष्णा त्यागी, पर स्त्री जेने मात रे,
जिव्हा थकी असत्य न बोले, परधन नव झाले हाथ रे।
मोहमाया व्यापे नहिं जेने, दृढ़ वैराग्य जेना मन मां रे,
राम नाम शंुताली लागी, सकल तीरथ तेना मन मां रे।
वण लोभी ने कपट रहित छे, काम क्रोध निवार्या रे,
भणे ‘नरसैयो’ तेनुं दरसन करतां, कुल इकोतेरे तर्या रे।

Hari Krishna Devsare

डॉ.  हरिकृष्ण देवसरे हिंदी के सुपरिचित लेखक हैं। हिंदी बाल-साहित्य पर हिंदी में प्रथम शोध प्रबंध प्रस्तुत कर बाल-साहित्य पर शोध की परंपरा का सूत्रपात करने में डॉ. देवसरे का बाल-साहित्य समीक्षा के क्षेत्र में प्रशंस्य योगदान है। मौलिक लेखक के रूप में डॉ.  देवसरे की बाल-साहित्य संबंधी तीन सौ पुस्तकें प्रकाशित हो चुकी हैं। इसके अतिरिक्त उन्होंने विविध विधाओं में भी पर्याप्त साहित्य लिखा है। ‘खाली हाथ’ (उपन्यास), ‘अगर ठान लीजिए’ (चरित्र-विकास) आदि उनकी कुछ उल्लेखनीय पुस्तकें हैं। उसी क्रम में उनकी ये पुस्तकें हैं--‘अथ नदी कथा’ और ‘पर्वतगाथा’। शोधपरक लेखन डॉ. देवसरे की विशेषता है। मीडिया के लिए भी डॉ. देवसरे की सेवाएँ उल्लेखनीय हैं। लगभग चैबीस वर्ष तक आकाशवाणी में विभिन्न पदों पर कार्य करने के अतिरिक्त आपने दूरदर्शन के लिए दस से अधिक धारावाहिकों, बीस वृत्तचित्रों एवं दस टेलीफिल्मों का लेखन, निर्देशन एवं निर्माण भी किया।
डॉ.  देवसरे कई संस्थाओं से सम्मानित और पुरस्कृत हुए हैं। आपको ‘बच्चों में विज्ञान लोकप्रियकरण’ के लिए राष्ट्रीय विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी संचार परिषद, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा एक लाख रुपये के पुरस्कार से सम्मानित किया गया। उत्तर प्रदेश हिंदी संस्थान ने ‘बाल-साहित्य भारती’ पुरस्कार से सम्मानित किया और हिंदी अकादमी, दिल्ली ने ‘साहित्यकार सम्मान’ दिया। आपको पद्मा बिनानी फाउंडेशन की बाल- साहित्य के उन्नयन को समर्पित संस्था ‘वात्सल्य’ द्वारा एक लाख रुपये के ‘प्रथम वात्सल्य पुरस्कार’ द्वारा सम्मानित किया गया। 

स्मृति शेष : 14 नवंबर, 2013

Scroll