Dus Pratinidhi Kahaniyan : Mridula Garg (Paperback)

Mridula Garg

Availability: In stock

Seller: KGPBOOKS

Qty:
120 + 40.00


  • Year: 2013

  • Binding: Paperback

  • Publisher: Kitabghar Prakashan

  • ISBN No: 978-81-89859-38-1

दस प्रतिनिधि कहानियाँ : मृदुला गर्ग
'दस प्रतिनिधि कहानियाँ' सीरीज़ किताबघर प्रकाशन की एक महत्त्वाकांक्षी कथा-योजना है, जिसमें हिन्दी कथा-जगत् के सभी शीर्षस्थ कथाकारों को प्रस्तुत किया जा रहा है ।
इस सीरीज़ में सम्मिलित कहानीकारों से यह अपेक्षा की गई है कि वे अपने संपूर्ण कथा-दौर से उन दस कहानियों का चयन करें, जो पाठको, समीक्षकों तथा संपादकों के लिए मील का पत्थर रही हों तथा ये ऐसी कहानियाँ भी हों, जिनकी वजह से उन्हें स्वयं को भी कहानीकार होने का अहसास बना रहा हो। भूमिका-स्वरूप कथाकार का एक वक्तव्य भी इस सीरीज़ के लिए आमंत्रित किया गया है, जिसमें प्रस्तुत कहानियों को प्रतिनिधित्व सौंपने की बात पर चर्चा करना अपेक्षित रहा है ।
किताबघर प्रकाशन गौरवान्वित है कि इस सीरीज़ के लिए सभी कथाकारों का उसे सहज सहयोग मिला है। इस सीरीज़ के महत्त्वपूर्ण कथाकार मृदुला गर्ग  ने प्रस्तुत संकलन में अपनी जिन दस कहानियों को प्रस्तुत किया है, वे हैं : 'ग्लेशियर से', 'टोपी' , 'शहर के नाम', 'उधार की हवा', 'वह मैं ही थी', 'उर्फ सैम', 'मंजूर-नामंजूर', 'इक्कीसवीं सदी का पेड़', 'वो दूसरी' तथा 'जूते का जोड़', 'गोभी का तोड़' ।
हमें विश्वास है कि इस सीरीज़ के माध्यम से पाठक सुविख्यात लेखक मृदुला गर्ग की प्रतिनिधि कहानियों को एक ही जिल्द में पाकर सुखद पाठकीय संतोष का अनुभव करेंगें ।

Mridula Garg

मृदुला गर्ग
जन्म : 25 अक्तूबर, 1938

1960 में उन्होंने दिल्ली स्कूल ऑफ़ इकोनोमिक्स से अर्थशास्त्र में एम०ए० किया और तीन साल कॉलेज में अध्यापन किया । पहली कहानी 'रुकावट' 'सारिका' पत्रिका में 1971 में छपी । पहला उपन्यास 'उसके हिस्से की धूप' 1975 में प्रकाशित हुआ और उसे मध्य प्रदेश साहित्य परिषद से 'महाराज वीरसिंह अ०भा० पुरस्कार' प्राप्त हुआ । अब तक छह उपन्यास प्रकाशित हुए है । पाँच अन्य उपन्यास हैं :  'वंशज' , 'चित्तकोबरा', 'अनित्य', ‘मैं और मैं' तथा 'कठगुलाब' । 'कठगुलाब' को वर्ष 2004 का 'व्यास सम्मान' प्राप्त हुआ ।
करीब 11 संग्रहों में अस्सी कहानियां प्रकाशित हो चुकी हैं । 1973-2003 तक की संपूर्ण कहानियां संगति-विसंगति' नाम से दो खंडों में संगृहीत हैं । इसके अलावा चार नाटक ('एक और अजनबी', 'जादू का कालीन', 'तीन कैदें' व 'साम-दाम-दंड-भेद') तथा तीन निबंध-संग्रह ('रंग-ढंग', 'चुकते नहीं सवाल', 'कुछ अटके कुछ भटके') प्रकाशित हुए है । नाटक 'जादू का कालीन' को 'सेठ गोविन्ददास पुरस्कार' प्राप्त हुआ है ।
'चित्तकोबरा' उपन्यास का जर्मन अनुवाद 1987 में जर्मनी में प्रकाशित हुआ व अंग्रेजी अनुवाद 1990 में । 'कठगुलाब' उपन्यास का अंग्रेजी अनुवाद 'कंट्री ऑफ़ गुडबाइज़' 2003 में प्रकाशित हुआ व जापानी से अनुवाद हो रहा है । अनेक कहानियां भारतीय भाषाओं तथा चैक, जर्मनी, अंग्रेजी, जापानी में अनूदित हैं । अंग्रेजी में अनूदित कहानियों का संग्रह 'डैफ़ोडिल्स ऑन फायर' नाम से प्रकाशित है ।
1988-89 में उन्हें दिल्ली हिंदी अकादमी ने 'साहित्यकार सम्मान', 1999 में उत्तर प्रदेश हिंदी संस्थान ने 'साहित्य भूषण' और 2001 में न्यूयॉर्क ह्यूमन राइट्स वाच ने 'हैलमन हैमट ग्रांट' प्रदान किया ।
2003 से वे 'इंडिया टुडे" (हिंदी) में पाक्षिक स्तंभ ‘कटाक्ष' लिख रही है । 2003-2006 तक के लेख 'कर लेंगे सब हज़म' नाम से 2007 में पुस्तकाकार प्रकाशित हुए हैं ।

Scroll