Aadhunik Vigyan Yog

Kanval Nayan Kapoor

Availability: In stock

Seller: KGPBOOKS

Qty:
150.00 135 + Free Shipping


  • Year: 2006

  • Binding: Hardback

  • Publisher: Himachal Pustak Bhandar

  • ISBN No: 978-81-88123-30-8

हर युग में विज्ञान जन्मा, उन्नत हुआ, लाभकारी हुआ-मानव-सभ्यता को ऐश्वर्य, सुख-समृद्धि जुटाने में, परंतु इसके साथ ही वह भी सामान्य मानव की भांति काल द्वारा प्रभावित हुआ, जीर्ण-शीर्ण हुआ और जन्म देने वाली तत्कालीन सभ्यता के साथ मिट गया, दफन हो गया।
वर्तमान युग में विज्ञान का जन्म कब तथा किन स्थितियों में हुआ, कह पाना कठिन है, परंतु इतना अवश्य कहा जा सकता है कि इसका जन्म वैदिक काल से जुड़ा है, सिंधु घाटी की सभ्यता से जुड़ा है।
आज विज्ञान की नवीनतम उपलब्धियों से सारा संसार चकित है। वैज्ञानिक अनुसंधानों और आविष्कारों की होड़ मची है। चंद्रमा पर पहुंचने से लेकर मंगल, शुक्र ग्रह आदि पर पहुंचने पर क्रम जारी है। अंतरिक्ष में उपग्रह स्थापित किए जा रहे हैं।
प्रस्तुत पुस्तक में इन्हीं वैज्ञानिक आविष्कारों की प्रारंभ से लेकर अब तक की जानकारी दी गई है तथा इस क्षेत्र में वैज्ञानिकों के योगदान और उपलब्धियों पर सरल एवं रोचक शैली में प्रकाश डाला गया है। विज्ञान में रुचि रखने वाले पाठकों के लिए यह पुस्तक निस्संदेह उपयोगी सिद्ध होगी।

Kanval Nayan Kapoor


Scroll