Shiksha Evam Itihas : Parivartan Ki Chunotiyan

Jagmohan Singh Rajput

Availability: In stock

Seller: KGPBOOKS

Qty:
250.00 225 + Free Shipping


  • Year: 2017

  • Binding: Hardback

  • Publisher: Kitabghar Prakashan

  • ISBN No: 978-81-7016-762-4

शिक्षा एवं इतिहास : परिवर्तन की चुनौतियाँ 
प्रगति और विकास बीसवीं सदी में उपनिवेशवाद दस चंगुल  से मुक्त हुए देशों की राष्ट्रीय नीतियों के आवश्यक अंग बने । जनमानस ने इनमें जीवन की गुणवत्ता सुधारने के सुनहरे सपने देखे । बीसवीं शताब्दी में विश्वस्तर पर यह पहली बार सर्वमान्य हुआ कि शिक्षा सभी का मूलभूत मानवीय अधिकार  है तथा शिक्षा की व्यापकता तथा सर्वसुलभता ही मानव को प्रगति तथा विकास के मार्ग पर चलने के लिए तैयार कर सकती है । वस्तुतः शिक्षा ही उस मार्ग का निर्धारण करने में सर्वाधिक सहायता करती है । ये लक्ष्य शिक्षा द्वारा प्राप्त किया जाना तभी संभव हो सकता है जब शिक्षा स्वयं को सतत परिवर्तनशीलता तथा प्रगतिशीलता की लय में ढाल ले । साथ ही शिक्षा अपने पूर्ण परिवेश में समाज तथा राष्ट्र की संभावनाओं, अपेक्षाओं तथा आकांक्षाओं में लगातार हो रहे परिवर्तनों का समावेश करते हुए व्यक्ति के बहुमुखी विकास में सहायक होने में सक्षम बन सके । 

Jagmohan Singh Rajput

जगमोहन सिंह राजपूत
उत्तर प्रदेश के हरदोई जिले में सन् 1943 में जन्मे 
प्रो०  जगमोहन सिंह राजपूत ने प्रयाग विश्वविद्यालय से भौतिकी में शोध-उपाधि अर्जित कर सन् 2002 में शिक्षा 
में डी० लिट्०  की मानद उपाधि प्राप्त की। उनके भौतिकी के शोधपत्रों ने उन्हें सन् 1974 में प्रोफेसर-पद पर नियुक्ति दिलाई। भारत सरकार में संयुक्त शिक्षा सलाहकार (1989-94), राष्ट्रीय अध्यापक शिक्षा परिषद्, एन० सी०  टी० ई०  के अध्यक्ष (1994-99) व एन० सी० ई० आर० टी०  के निदेशक (1999-2004) पदों पर रहे प्रो०  राजपूत अपने कार्यों के लिए सराहे गए तथा आलोचनाओं से कभी दूर नहीं रहे। बी० एड०  पत्राचार के पाठ्यक्रमों को नियंत्रित करने तथा दो वर्षीय बी० एड०  पाठ्यक्रमों को प्रारंभ कर उन्होंने अध्यापक शिक्षा में महत्त्वपूर्ण योगदान दिया। स्कूल शिक्षा के पाठ्यक्रम परिवर्तन के लिए जो दृढ़ता तथा आत्मविश्वास उन्होंने पाँच वर्षों में अपने विरोधियों को निरुत्तर करने में दिखाया उसकी सराहना विरोधियों ने भी की। अनुशासन, समयपालन तथा कार्य में गुणवत्ता लाने के सजग पक्षधर प्रो०  राजपूत ने अनेक विषयों पर शोध कराए और पुस्तकें लिखी हैं। इनमें कविताओं की पुस्तक भी शामिल है। इधर के वर्षों में उन्होंने हिंदी तथा अंग्रेजी में सैकड़ों लेख लिखने के साथ-साथ अंतर्राष्ट्रीय शोध पत्रिकाओं में शोधपत्र लिखे तथा अतिथि संपादक रहे। श्रेष्ठ शोध तथा नवाचार के लिए यूनेस्को ने उन्हें सन् 2004 में जॉन एमोस कोमेनियस पदक के लिए चुना। वे मूल्यों की शिक्षा, सामाजिक सद्भाव तथा शिक्षा में सभी धर्मों के मूलभूत तत्त्वों की जानकारी के पक्षधर हैं।

Scroll