Manto Zinda Hai

Narendra Mohan

Availability: In stock

Seller: KGPBOOKS

Qty:
350.00 315 + Free Shipping


  • Year: 2012

  • Binding: Hardback

  • Publisher: Kitabghar Prakashan

  • ISBN No: 9789381467985

मंटो जिन्दा है
सआदत हसन मंटो उर्दू साहित्य का एक बड़ा लेखक होने के साथ-साथ, भाषाओं और देशों की सीमाओं को लाँघ लेखकों- पाठकों की विश्व बिरादरी का हिस्सा बन चुका है । गोर्की, चेखव और मोपासाँ जैसे कथाकारों के साथ विश्व के कथा-शीर्ष पर खड़ा मंटो एक अद्वितीय कथाकार तो है ही, एक अजब और आजाद शख्सीयत भी है । फीनिक्स पक्षी की तरह वह उड़ानें भरता रहा, अपनी ही राख से पुनर्जीवित होता रहा, जिन्दगी और लेखन के मोर्चों पर जीता-मरता रहा और भारतीय उपमहाद्वीप की साइकी में उतर गया । जाहिर हैं, ऐसे लेखक को 'पाकिस्तानी' या 'हिंदुस्तानी' कठघरों में रखकर नहीं देखा जा सकता । मंटो जैसे कालजयी लेखक की जिन्दगी को 'मंटो जिन्दा है' में जीवंतता, गतिशीलता और संपूर्णता से पकडा गया है ।
'मंटो जिन्दा है' ऐसी जीवनकथा है जो वृतांत होते हुए भी, वृतांत को बाहर-भीतर से काटती-तोड़ती पाठकीय चेतना को झकझोरती जाती है । मंटो की जिन्दगी के कई केंद्रीय मोटिफ, प्रतीक और पेटॉफर पाठक को स्पन्दित करने लगते है और यह महसूस करता है जैसे वह मंटो को अपनी परिस्थिति, समय और साहित्य के साथ जीने लगा हो । लेखक ने जैसे मंटो को जिन्दा महसूस किया है, पाठक भी किताब पढ़ते हुए वैसी ही हरारत महसूस करने लगता है ।
मंटो की जिन्दगी ययां टुकडों में नहीं, संपूर्ण जीवनानुभव और समग्र कला-आनुभव के रूप से आकार लेती गई है और एक कला-फार्म में ढलती गई है । इस चुनौतीपूर्ण कार्य का नरेन्द्र मोहन ने आत्मीयता और दायित्व से ही नहीं, निस्संगता और साहस से पूरा किया है । उपलब्ध स्रोतों की गहरी पश्चात करते हुए लेखक घटनाओँ और प्रसंगों की भीतरी तहों में दाखिल हुआ है और इस प्रकार मंटो के जीवन-आख्यान और कथा-पिथक को बडी कलात्मकता से डी-कोड किया है ।
वृतांत और प्रयोग के निराले संयोजन में बँधी यह मंटो- कथा मंटो को उसके विविध रंगों और छवियों के साथ उसके प्रशंसकों-पाठकों के रू-ब-रू खडा कर देती है ।

Narendra Mohan

डॉ. नरेन्द्र मोहन कवि, नाटककार और आलोचक के रूप में सुविख्यात नरेन्द्र मोहन का जन्म 30 जुलाई, 1935 को लाहौर (अब पाकिस्तान) में हुआ । अपनी कविताओं (कविता-संग्रह) इस हादसे में (1975), सामना होने पर (1979), एक अग्निकांड जगहें बदलता (1983), हथेली पर अंगारे की तरह (1990), संकट दृश्य का नहीं (1993), एक सुलगती ख़ामोशी (1997), एक खिड़की खुली है अभी (2005), नीले घोड़े का सवार (2008), रंग आकाश में शब्द (2012) द्वारा वे नए अंदाज़ में कविता की परिकल्पना करते रहे हैं तथा नई संवेदना और प्रश्नाकुलता को विकसित करने में उनकी खास भूमिका रही है । अपने नाटकों : कहै कबीर सुनो भाई साधो (1988), सींगधारी (1988), कलंदर (1991), नौ मैंस लैंड (1994), अभंगगाथा (2000), मि० जिन्ना (2005), हद हो गई, यारो (2005), मंच अंधेरे में (2010) में वे हर बार नई वस्तु और दृष्टि को तलाश करते दिखते है । नई रंगत मेँ ढली उनकी डायरी साथ-साथ मेरा साया ने इस विधा को नए मायने दिए हैं । इसी क्रम से आई हैं - साये से डायरी (2010) और फ्रेम से बाहर आती तस्वीरें (संस्मरण 2010) । नरेन्द्र मोहन ने अपनी आलोचना पुस्तकों और संपादन-कार्यों द्वारा जो विमर्श खड़े किए है, उनके द्वारा सृजन और चिंतन के नए आधारों की खोज संभव हुई है । लंबी कविता का विमर्श उन्हीं की देन है । विभाजनं : भारतीय भाषाओं की कहानियां खंड एक व दो और मंटो की कहानियां उनकी संपादन प्रतिभा के परिचायक हैं । आठ खंडों में नरेंद्र मोहन रचनावली प्रकाशित हो चुकी है । उनके नाटक और कविताएं विभिन्न भारतीय भाषाओं और अंग्रेजी में भी अनुदित हो चुकी हैं । वे कई राष्ट्रीय और प्रादेशिक पुरस्कारों से सम्मानित साहित्यकार हैं ।

Scroll