Antyoday Purush : Shanta Kumar

Satish Dhar

Availability: In stock

Seller: KGPBOOKS

Qty:
195 + Free Shipping


  • Year: 2007

  • Binding: Hardback

  • Publisher: Arya Prakashan Mandal

  • ISBN No: 9788189982003

अन्त्योदय पुरुष : शान्ता कुमार
शान्ता कुमार स्वच्छ छवि की भारतीय राजनीतिक परंपरा के राजनेता हैं। राजनीति के साथ-साथ शान्ता कुमार कई महत्त्वपूर्ण एवं चर्चित साहित्यिक पुस्तकों के रचयिता भी हैं ।
‘अन्त्योदय पुरुष : शान्ता कुमार' ऐसी पुस्तक है, जिसमें शान्ता कुमार के घर-परिवार से लेकर अभिन्न मित्रों के गरिमापूर्ण रिश्तों की सांद्रता है । पुस्तक शान्ता कुमार के जीवन-संघर्षों के कई अनछुए प्रसंगों को समेटे हुए है । शान्ता कुमार के ओजस्वी वक्तव्यों से परिपूर्ण साहित्यिक सभाओं अथवा अन्य कार्यक्रमों में की गई बेबाक टिप्पणियाँ इस महान् व्यक्तित्व की बहुमुखी प्रतिभा को दर्शाती है ।
हिमाचल प्रदेश के इस महान् सपूत ने अपनी प्रखर सोच से देश के सामाजिक, आर्थिक और राजनीतिक चिंतन को नई दिशा प्रदान की है। पुस्तक में राजनीति के चलते राष्ट्रीय स्तर पर शान्ता कुमार द्वारा प्रारंभ की गई लोक-हितकारी योजनाओं की बानगी भी देखने को मिलती है। यह कृति सृजनात्मकता की छौन्क के साथ-साथ राजनीतिक इतिहास का भी दस्तावेज है ।
पुस्तक में लेखक द्वारा लिया गया साक्षात्कार शान्ता कुमार के व्यक्तित्व के कई कोने-अंतरों को खोलने में सक्षम रहा है। पुस्तक की प्रांजल व लयात्मक भाषा पाठको को अंत तक बॉंधे रखने में सक्षम है ।

Satish Dhar

सतीश धर
जन्म : 23 अगस्त, 1951 को श्रीनगर (कश्मीर) ।
शिक्षा : शुरू की पढाई हिमाचल के विभिन्न स्थानों पर हुई । डी०ए०वी० कॉलेज, होशियारपुर (पंजाब) से स्नातक तथा हिमाचल विश्वविद्यालय से हिंदी से स्नातकोत्तर परीक्षा पास करने के बाद जालंधर के हिंदी समाचार-पत्र 'मिलाप' और 'पंजाब केसरी' में कार्य किया।
चार वर्ष श्रम ब्यूरो, शिमला में हिंदी अनुवादक के पद पर नौकरी करने के पश्चात वर्ष 1980 में हिमाचल प्रदेश लोक संपर्क विभाग के साप्ताहिक पत्र 'गिरिराज' में  उप-संपादक के पद पर नियुक्ति।
जिला लोक संपर्क अधिकारी के पद पर सिरमौर तथा कांराड़ा जिला में कार्य किया ।
वर्ष 2000 में भारत सरकार के खाद्य-मंत्रालय में प्रतिनियुक्ति पर दिल्ली में अपने कार्यकाल के स्थान इस पुस्तक की प्रेरणा 'शान्ता कुमार' के साथ तीन वर्ष कार्य करने का सौभाग्य प्राप्त हुआ ।
प्रकाशित कूतिर्यों : 'कल की बात' (कांव्य-संग्रह), 'भारत और भारतीय संस्कृति' (संपादित), 'कौन जाने तेरा स्वभाव' (शोध पुस्तक)

Scroll