Mere Saakshatkaar : Mridula Garg

Mridula Garg

Availability: In stock

Seller: KGPBOOKS

Qty:
225.00 203 + Free Shipping


  • Year: 2012

  • Binding: Hardback

  • Publisher: Kitabghar Prakashan

  • ISBN No: 9789381467442

Mridula Garg

मृदुला गर्ग
जन्म : 25 अक्तूबर, 1938

1960 में उन्होंने दिल्ली स्कूल ऑफ़ इकोनोमिक्स से अर्थशास्त्र में एम०ए० किया और तीन साल कॉलेज में अध्यापन किया । पहली कहानी 'रुकावट' 'सारिका' पत्रिका में 1971 में छपी । पहला उपन्यास 'उसके हिस्से की धूप' 1975 में प्रकाशित हुआ और उसे मध्य प्रदेश साहित्य परिषद से 'महाराज वीरसिंह अ०भा० पुरस्कार' प्राप्त हुआ । अब तक छह उपन्यास प्रकाशित हुए है । पाँच अन्य उपन्यास हैं :  'वंशज' , 'चित्तकोबरा', 'अनित्य', ‘मैं और मैं' तथा 'कठगुलाब' । 'कठगुलाब' को वर्ष 2004 का 'व्यास सम्मान' प्राप्त हुआ ।
करीब 11 संग्रहों में अस्सी कहानियां प्रकाशित हो चुकी हैं । 1973-2003 तक की संपूर्ण कहानियां संगति-विसंगति' नाम से दो खंडों में संगृहीत हैं । इसके अलावा चार नाटक ('एक और अजनबी', 'जादू का कालीन', 'तीन कैदें' व 'साम-दाम-दंड-भेद') तथा तीन निबंध-संग्रह ('रंग-ढंग', 'चुकते नहीं सवाल', 'कुछ अटके कुछ भटके') प्रकाशित हुए है । नाटक 'जादू का कालीन' को 'सेठ गोविन्ददास पुरस्कार' प्राप्त हुआ है ।
'चित्तकोबरा' उपन्यास का जर्मन अनुवाद 1987 में जर्मनी में प्रकाशित हुआ व अंग्रेजी अनुवाद 1990 में । 'कठगुलाब' उपन्यास का अंग्रेजी अनुवाद 'कंट्री ऑफ़ गुडबाइज़' 2003 में प्रकाशित हुआ व जापानी से अनुवाद हो रहा है । अनेक कहानियां भारतीय भाषाओं तथा चैक, जर्मनी, अंग्रेजी, जापानी में अनूदित हैं । अंग्रेजी में अनूदित कहानियों का संग्रह 'डैफ़ोडिल्स ऑन फायर' नाम से प्रकाशित है ।
1988-89 में उन्हें दिल्ली हिंदी अकादमी ने 'साहित्यकार सम्मान', 1999 में उत्तर प्रदेश हिंदी संस्थान ने 'साहित्य भूषण' और 2001 में न्यूयॉर्क ह्यूमन राइट्स वाच ने 'हैलमन हैमट ग्रांट' प्रदान किया ।
2003 से वे 'इंडिया टुडे" (हिंदी) में पाक्षिक स्तंभ ‘कटाक्ष' लिख रही है । 2003-2006 तक के लेख 'कर लेंगे सब हज़म' नाम से 2007 में पुस्तकाकार प्रकाशित हुए हैं ।

Scroll