1128 Mein Crime 27

C. J. Thomas

Availability: In stock

Seller: KGPBOOKS

Qty:
100.00 90 + Free Shipping


  • Year: 2008

  • Binding: Hardback

  • Publisher: Parmeshwari Prakashan

  • ISBN No: 9788190554701

1128 में क्राइम 27
'1128 में क्राइम 27' थॉमस का दूसरा नाटक है । उसकी समस्या सार्वदेशीय है । उन्होंने मौत को एक विशेष प्रतीकात्मक ढंग से प्रस्तुत करने का सफल प्रयास किया है । नाटक में जिंदगी और मृत्यु के प्रति उनका दृष्टिकोण स्पष्ट झलकता है । कभी-कभी ऐसा लगता है कि वह सिनिक है, क्योंकि उनका यह नाटक सिनिसिज्म की सृष्टि है।... 
तत्कालीन रंगमंच पर जमी हुई हास्य रूढियों के प्रति विद्रोह, प्रबोधन की शक्ति पर विश्वास रखकर संसार का उद्धार करने की मूर्खता आदि पर भी उन्होंने अपना दृष्टिकोण प्रस्तुत किया है। असली जिंदगी और जीवन की व्याख्या करने वाले नाटक टेकनीक के वैभवों क द्वारा उनकी असली भिन्नताओं को उसी तरह रहने देकर रंगमंच पर प्रस्तुत करने का उनका कौशल आश्चर्यजनक ही है। जिंदगी मिथ्या है, यह दार्शनिक आशय दर्द-भरी हँसी के साथ वे मंच पर प्रस्तुत करते हैं। नाटक चलाने वाला और नाटक की व्याख्या करने वाला गुरु एक तरफ़, नाटक खेलने वाले, नेपथ्य, प्रोप्टर, स्टेज मैनेजर आदि का एक ढेर दूसरी तरफ, अखबार का दफ्तर, संपादक, चक्की आदि का एक ढेर तीसरी तरफ।  इन सबके सम्मुख गुरु के लिए जब चाहे तब इशारा कर सकने वाला एक प्रेक्षक समूह । इस प्रकार नाटक और जिंदगी को उनके असली रूप में अपने-अपने व्यक्तित्व से युक्त एक ही स्टेज पर एक साथ इस नाटक में प्रस्तुत करता है । नाटकीय प्रभाव एवं आंतरिक संघर्षों की दृष्टि से यह नाटक अत्यंत सफल है।

C. J. Thomas

सी०जे ० थॉमस
सी०जे० थॉमस मलयालम भाषा के सुप्रसिद्ध रचनाकार हैं। आपका जन्म एर्नाकुलम जिले में हुआ। आप एक माननीय याकोबा ईसाई पुरोहित के पुत्र थे। प्राथमिक शिक्षा गांव से ही हुई । पिता आपको  पुरोहित बनाना चाहते थे, लेकिन सी०जे० के स्वतंत्र व्यक्तित्व एवं चिंतन-प्रक्रिया ने उन्हें प्रसिद्ध नाटककार एवं लेखक बना दिया । उनका जीवन संघर्षपूर्ण था । रोसी थॉमस के साथ आपका विवाह अपने आप में  एक प्रसिद्ध घटना थी । रोसी मलयालम के प्रसिद्ध आलोचक एवं विद्वान एम०पी० पॉल की बेटी है । सी०जे० थॉमस के साथ आपकी जिंदगी का सही चित्रण 'इवन एंडे प्रिय सी०जे०' (यह मेरे प्रिय सी०जे०) नामक आपके ग्रंथ में मिलता है । 'वह फिर आ रहा है', 'भूत', 'वह आदमी तू ही है', 'शलोमी', 'कंजूस की शादी', '1128 में क्राइम 27’ आदि सी०जे० थॉमस की मौलिक नाट्यकृत्तियाँ हैं । 'आंटिगणी', 'राजा इडिपस', 'लिस्सिस्ट्राटा' आपकी मलयालम में अनूदित नाट्यकृतियाँ है । नवंबर, 1918 में जन्मे थॉमस की मृत्यु 42 वर्ष की आयु में कैंसर के कारण जून, 1960 में हुई।

Scroll