Krantikari

Roshan Premyogi

Availability: In stock

Seller: KGPBOOKS

Qty:
260.00 234 + Free Shipping


  • Year: 2011

  • Binding: Hardback

  • Publisher: Parmeshwari Prakashan

  • ISBN No: 9788188121977

क्रांतिकारी
दलित परिवार में जन्म लेने के कारण सामाजिक अस्पृश्यता और उत्पीड़न का दंश मैंने भी सहा है, इसलिए ‘क्रांतिकारी’ को पढ़ते हुए यह सवाल मेरे मन में कई बार उठा कि जिस तरह इस उपन्यास में चंद्रशेखर और केवलानंद जैसे सचेत सवर्ण लड़के दलित रामकरन के साथ खड़े हैं, मेरे साथ क्यों नहीं खड़े हुए ?
चंद्रशेखर मुख्य पात्र है, जो चाहता है कि इलाके के गाँवों में दलितों का जीवन-स्तर ऊँचा उठे, वे संगठित हों और बराबरी पर आने के लिए लड़ें। दलितों की लड़ाई में वह अपना एक हाथ गँवा बैठता है। अंत में उसके विचारों की विजय होती है। विजय इस तरह कि दो मेधावी युवा अपने-अपने गाँव यह सोचकर आए थे कि वे यहीं पर रोजगार करेंगे और अपने साथ दलित समाज का भी जीवन-स्तर ऊँचा उठाएँगे। उनकी राह में क्षेत्रीय विधायक काँटा बोते हैं, इसलिए कि यदि रामकरन जैसे हरिजन दलितों के सर्वमान्य नेता बन जाएँगे तो हम सवर्णों का वोट बैंक टूट जाएगा। उधर चंद्रशेखर और रामकरन मिलकर दलितों को यह अहसास कराते हैं कि यदि संगठित और शिक्षित बनोगे तो कोई भी तुम्हारा उत्पीड़न नहीं कर पाएगा।
ईशावस्या, माला और संध्या जैसे स्त्री-पात्रों को उपन्यास में महत्त्व नहीं मिला है, लेकिन सबकी कमी पूरी कर देती हैं सुन्नरी देवी। उनका संघर्ष समूची दलित स्त्री जाति का संघर्ष है। वे किसी देवी की तरह समाजियों का नेतृत्व सँभालती हैं। दरअसल दलित क्रांति की मशक्कत तीन युवा मिलकर करते हैं, लेकिन जब क्रांति होती है तो वे युवा पीछे रह जाते हैं और सुन्नरी देवी विजय का परचम लहरा देती हैं।  

Roshan Premyogi

रोशन प्रेमयोगी

कृतियाँ-
उपन्यास : चिड़ियाघर ०  हैलो माँ ०  अयोध्या ०  क्रांतिकारी
निबंध-संग्रह : भारतीय राष्ट्रवाद : संगठित विश्वास का संकट
कहानियाँ : टैटू सेंटर ०  बुद्धू ०  तीसरी बेटी ०  काँवरिया ऑफ्टर होमवर्क ०  दहलीज पर आत्मनिर्णय आदि
पुरस्कार/सम्मान : बालकृष्ण शर्मा ‘नवीन’ स्मृति युवा पुरस्कार ०  प्रतापनारायण मिश्र स्मृति कथाकार सम्मान ०  सर्जना पुरस्कार ०  कथक अकादमी, लखनऊ से सांस्कृतिक पत्रकारिता पुरस्कार ०  ‘हंस’ पत्रिका द्वारा ‘बुद्धू’ कहानी पर अमृतलाल नागर कहानी पुरस्कार ०  सदी के अभिनेता अमिताभ बच्चन द्वारा पत्रकारिता पर प्रशंसा-पत्र ० श्री शक्ति महाविद्यालय द्वारा पत्रकारिता पर पुरस्कार

Scroll