Mera Mobile Tatha Anya Kahaniyan

Ansuya Tyagi

Availability: In stock

Seller: KGPBOOKS

Qty:
225.00 203 + Free Shipping


  • Year: 2012

  • Binding: Hardback

  • Publisher: Parmeshwari Prakashan

  • ISBN No: 9789380048406

दक्षिण अफ्रीका में रेल यात्रा के समय गांधी जी रस्किन का उपन्यास ‘अनटू द लास्ट’ पढ़ रहे थे। अंगूर के बाग में काम करने वाले मजदूरों के एक छोटे से कथा प्रसंग की चर्चा ‘सर्मन ऑफ़ द माउंट’ के आधार पर रस्किन ने अपने उपन्यास में की है। इस प्रसंग ने बापू को द्रवित किया। किस्सा यह है कि अंगूर के बाग में कुछ मजदूर काम के लिए बुलाए गए थे, कुछ मजदूरों को सुबह ही काम पर रख लिया गया व कुछ को तीन घंटे बाद बुलाया गया। लेकिन शाम को जब बाग के मालिक ने मजदूरी बांटी तो सबको एक बराबर पैसे दिए। पहले काम पर लगे मजदूरों को यह बात खटकी तब मालिक ने समझाया कि भले ही ये मजदूर देर से काम पर लगे, किंतु मजदूरी की आशा में ये सुबह से ही खड़े थे, मैंने इन्हें देर से काम पर लगाया, पर आखिर इनका हक तो बराबर का है।
पारुल को यह प्रसंग याद आ गया और उसने सोचा, जब चंद्रकला मेरे यहां काम करती है तब इसके दुःख में मुझे भी भागीदार बनना चाहिए। यदि मैं अपने एक महीने की ट्यूशन की आधी कमाई इसे देकर इसके नुकसान की भरपाई कर देती हूं तब यह कितनी प्रसन्न हो जाएगी। मुझे तो अधिक अंतर नहीं पड़ेगा, क्योंकि जिम्मेदारियां तो सब समाप्त हो गई हैं, वैसे भी आशीष और उसे कितना चाहिए, उनका तो अब थोड़े में ही गुजारा चल जाता है। 
-(इसी संग्रह की कहानी ‘थोड़ी सी खुशी’ से)

Ansuya Tyagi

डॉ. अनुसूया त्यागी
जन्म-स्थान : कोटा, राजस्थान
शिक्षा : प्रारंभिक शिक्षा कोटा में
एम.बी.बी.एस., रवीन्द्रनाथ मेडिकल कॉलेज, उदयपुर; एम.एस. ग्यानेकोलॉजी एवं आब्सटेट्रिक, सवाई मानसिंह मेडिकल कॉलेज, जयपुर
पिछले 35 वर्ष से देश के विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं में स्वास्थ्य संबंधी लेख एवं कहानियाँ प्रकाशित
लेखन के अतिरिक्त चित्रकला एवं पाककला में भी रुचि, सामाजिक कार्यों व सेवा-कार्यों में भी समय-समय पर हिस्सा लेकर अपना योगदान देती रही हैं
राजस्थान में कोटा, दिल्ली में हिंदूराव अस्पताल तथा स्वामी दयानंद अस्पताल में राजकीय सेवा के पश्चात् गाजियाबाद (उ.प्र.) में स्वयं का नरसिंग होम संचालित कर रही हैं।
ऑल इंडिया डॉक्टर्स मेडिकल एसोसिएशन, गाजियाबाद शाखा की अध्यक्ष एवं ग्यानेकोलॉजी एवं आब्सटेट्रिक्स, गाजियाबाद 
की अध्यक्ष रह चुकी हैं।
ऑल इंडिया त्यागी समाज एवं ऑल इंडिया ब्राह्मण समाज द्वारा सम्मानित
प्रकाशित कृतियाँ
‘रिश्तों का बोझ’, ‘उम्मीदों का कलश’, ‘किसके लिए’ (कहानी-संग्रह),  ‘लेबर रूम’ (डॉक्टरी जीवन के संस्मरण)

Scroll