Gitanjali : Rabindranath Thakur

Rabindra Nath Thakur

Availability: In stock

Seller: KGPBOOKS

Qty:
300.00 270 + Free Shipping


  • Year: 2011

  • Binding: Hardback

  • Publisher: Kitabghar Prakashan

  • ISBN No: 978-81-7016-755-6

Rabindra Nath Thakur

रवीन्द्रनाथ ठाकुर
जन्म : 7 मई, 1861
पिता : महर्षि देवेन्द्रनाथ ठाकुर

'भानुसिंहेर पदावली' ('भानु' का अर्थ सूर्य अर्थात रवि) नाम से भी 9 बरस की उम्र में पहली कविता ० अठारह वर्ष की उम्र में आध्यात्मिक अनुभूतियां ० 9 दिसंबर, 1883 को विवाह ० 41 बरस की उम्र में विधुर ० कुशल जमींदार का जीवन ० 21 दिसंबर, 1901 को शांतिनिकेतन में पाँच विद्यार्थियों का स्कूल खोला, जो आज अंतर्राष्टीय विश्वविद्यालय है ० नवंबर, 1907 में  प्रिय पुत्र शमीन्द्र की मृत्यु ० 'जन गण मन' राष्ट्रगान 1911 में लिखा ० बाँग्लादेश का राष्ट्रगान भी रवीन्द्रनाथ ने ही लिखा है ० दो देशों का राष्ट्रगान लिखने वाले कवि ० 27 मई, 1912 को इंग्लैंड की यात्रा के समय 'गीतांजलि का अंग्रेजी अनुवाद ले गए ० विलियम बटलर यीटूस । गीतांजलि पर मुग्ध ० 19 नवंबर, 1912 को नोबेल पुरस्कार 'गीतांजलि' पर ० 6 मार्च, 1915 को शांतिनकेतन में गांधी से मुलाकात ० 13 अप्रैल, 1919 को जलियांवाला बाग कांड के विरोध में 'नाईटहुड' की उपाधि लौटाई ० चित्रकार, अभिनेता, कवि, उपन्यासकार, निबंधकार, नाटककार रवीन्द्रनाथ जादू भी जानते थे ०

7 अगस्त, 1941 को कोलकाता में 80 वर्ष की उम्र में देहांत।

Scroll