Filter selection

Author
Price

375

  • grid
  • Comprehensive English-Hindi Dictionary_495
    495 446

    Item Code: #KGP-32

    Availability: In stock

    COMPREHENSIVE ENGLISH-HINDI DICTIONARY

     The present comprehensive English-Hindi Dictionary stands as the crowning work of the four decade long effort of the well known Hindi linguist-cuin-lexicographer Dr. Bhola Nath Tiwari and Dr. Amar Nath Kapoor, a distinguished scholar of English language studies.

     The main merit of the present dictionary is its practical and explanatory character. The editors have illustrated the proper and contextual usage of each and every word, phrase, idiom and expression through sentences and this goes to make the lexicon a work of tremendous relevance for the entire gamut of bilingual activity being undertaken in the country at almost all levels of our social system, educational institutions and government departments.

     Basically meant for the average Indian reader who goes to a dictionary to find correct spelling, correct usage and the most common present meaning of all the live words of English usage, the chief function of die present dictionary is to present not only comprehensiveness, accuracy and simplicity but also to record usage as pan of a perfect language.

     Simple form and the most pragmatic approach as far as the spelling and pronunciation of words is concerned has been adopted wit‘: 2 view to make the average educated Indian use English—both written and spoken word—in such a way that the listener or the reader is able to under- stand and appreciate what is being said in its correct parlance.

  • Natyachintan Aur Rangdarshan Antarsambandh
    Girish Rastogi
    475 356

    Item Code: #KGP-707

    Availability: In stock

    इस पुस्तक में व्यापक, आधुनिकतम और गहन विश्वदृष्टि उल्लेखनीय है। इस अर्थ में बर्तोल्त ब्रेख्त का नाट्यचिंतन और रंगदर्शन बहुत गंभीर है। पश्चिमी नाट्यचिंतन के साथ-साथ यह भारतीय नाटककार और रंगमंच को भी परखती चलती है। लेखिका प्राचीन नाटककारों को नई दृष्टि से देखती है तो साहित्य और रंगमंच के साथ ही आलोचना को भी नए ढंग से देखती है।
    कई मानों में नाटक का साहित्य और रंगमंच से जो रिश्मा टूटता-बनता रहा और प्रश्न पर प्रश्न उठते रहे चिंतन और रंगदर्शन के अंतर्संबंध बनते-बदलते रहे। यह पुस्तक उन सबसे साक्षात्कार कराती है-चाहे संस्मरणों के जरिए, चाहे पत्र के जरिए या द्वंद्वात्मकत संवेदना के जरिए। कुछ महत्वपूर्ण नाटककारों का विशद अध्ययन-चिंतन भी यह स्थापित करता है कि मंचनां से ही नाट्यचिंतन और रंगदर्शन की अंतरंगता विकसित होती जाती है, क्योंकि नाटक और रंगमंच एक जीवित माध्यम हैं, अन्यथा वह कुंठित हो जाती है। दर्शक, पाठक, आलोचक सभी को उत्सुक करने वाली है यह पुस्तक।
  • Vaigyanikon Ke Saras Prasang
    Shuk Deo Prasad
    180 153

    Item Code: #KGP-9150

    Availability: In stock

    ये प्रसंग साक्षी हैं कि सत्य की खोज में जीवन होम करने वाले वैज्ञानिक समाज के अंतरंग प्राणी, मानवीय मूल्यों के पोषक और संकल्पनिष्ठ ईमानदार इंसान हैं। 
    विज्ञान-विभूतियों के जीवन से चुने हुए रंग-बिरंगे, खुशबूदार फूलों का यह बेशकीमती गुलदश्ता निश्चय ही अपनी सुरभि से आपके जीवन में नए उत्साह का संचार एवं स्वस्थ दृष्टिकोण का निर्माण करेगा । 
    हमारे चारों ओर प्रेरणा-पुरुष बिखरे पड़े हैं । प्रश्न है इनसे कुछ सीखने का, ग्रहण करने का । विज्ञानं विभूतियों के ये 'सरस प्रसंग' हास-परिहास के साथ पाठकों के जीवन में आशा और नवीन उत्साह का भी संचार करेंगे, ऐसी आशा है । 
  • Mahatma Gandhi : Mere Pitamah : 1 (Paperback)
    Sumitra Gandhi Kulkarni
    195

    Item Code: #KGP-295

    Availability: In stock

    महात्मा गांधी : मेरे पितामह (1)
    (व्यक्तित्व और परिवार)
    एक नहीं अनेक गांधी हैं--गांधी के  अकेले एक व्यक्तित्व से समाए हुए ।
    गत पूरी एक शताब्दी गांधी की शताब्दी थी । इतना महान् व्यक्तित्व संभवत: विश्व में कोई दूसरा नहीँ था । उनके अवसान के पश्चात उनका विशाल स्वरूप धुँधलाया नहीं, बल्कि और प्रखर, और अधिक प्रासंगिक होकर उभरा । अतीत के गांधी की अपेक्षा आज का गांधी अधिक व्यापक एव विराट, है ।  हिंसा की आग में झुलसते, आज के इस भयाक्रांत वानावरण में गांधी की आवश्यकता अधिक गहराई से अनुभव की जा रही है ।
    यों तो अब तक बहुत कुछ लिखा जा चुका है गांधी जी पर, उनके जीवन-दर्शन पर, परंतु बहन सुमित्रा जी ने अपने पितामह का जिस रूप में रेखांकित किया है, वह उन सबसे भिन्न है । बापू के जीवन की पारदर्शिता उसमें झलके बिना नहीं रहती । सुपित्रा जी ने नि:स्पृह एवं निष्पक्ष भाव स सारी स्थितियों का गहन विवेचन किया है । अपने पितामह को भी क्षमा नहीं किया ।
    इस संपूर्ण कृति में हरिलाल भाई वाला प्रसंग सबसे करुण एवं दारुण है--दिल की दहला देने वाला । तब बापू मात्र बापू न रहकर एक संवेदनशून्य पिता की भूमिका में दीखते हैं । हरिलाल भाई सारा गरल चुपचाप पी जाते हैं, पर किसी से कोई शिकायत नहीं । इतना प्रखर, मेधावी, आज्ञाकारी सुपुत्र पिता की उपेक्षा का शिकार बनकर अपनी आहुति दे टेना है । तब गांधी से बडा गांधी लगता है वह--एक निपट मानव के रूप में । अपनी परदादी माँ 'पुतली माँ' पर भी सुपित्रा जी न विस्तार स लिखकर 'गांधी-परिवार' की इस पुण्य-गाथा को एक युग-गाथा का नया आयाम प्रदान किया है । संयुक्त परिवार में पद्म-पत्रवत् रहने की उनकी तपश्चर्या कितनी प्रेरक थी ! इस कृति में ऐसा बहुत कुछ  जो गंभीरता के साथ सोचने के लिए विवश करता है ।  सुमित्रा जी की यह रचना इसलिए अनेक अर्थों में अद्वितीय बन गई है ।
    --हिमाशु जोशी
    13 अगस्त, 2009
  • Dus Pratinidhi Kahaniyan : Sudha Om Dhingra
    Sudha Om Dhingra
    250 200

    Item Code: #KGP-9378

    Availability: In stock

    दस प्रतिनिधि कहानियाँ सुधा ओम ढींगरा
    ‘दस प्रतिनिधि कहानियाँ’ सीरीज़ किताबघर प्रकाशन की एक महत्त्वाकांक्षी कथा-योजना है, जिसमें हिंदी कथा-जगत् के सभी शीर्षस्थ कथाकारों को प्रस्तुत किया जा रहा है।
    इस सीरीज़ में सम्मिलित कहानीकारों की चयनित कहानियों से यह अपेक्षा की गई है कि वे पाठकों, समीक्षकों तथा संपादकों के लिए मील का पत्थर रही हों तथा ये ऐसी कहानियाँ भी हों, जिनकी वजह से  स्वयं लेखक को भी कथाकार होने का अहसास बना रहा हो। भूमिका-स्वरूप लेखक या संपादक का एक वक्तव्य भी इस सीरीज़ के लिए आमंत्रित किया गया है जिसमें प्रस्तुत कहानियों को प्रतिनिधित्व सौंपने की बात पर चर्चा करना अपेक्षित रहा है।
    किताबघर प्रकाशन गौरवान्वित है कि इस सीरीज़ के लिए अग्रज कथाकारों का उसे सहज सहयोग मिला है। इस सीरीज़ की अत्यंत महत्त्वपूर्ण कथाकार सुधा ओम ढींगरा ने प्रस्तुत संकलन में अपनी जिन दस कहानियों को प्रस्तुत किया है, वे हैं: ‘पासवर्ड’, ‘टाॅरनेडो’, ‘बेघर सच’, ‘कमरा नंबर 103’, ‘सूरज क्यों निकलता है?’, ‘क्षितिज से परे...’, ‘वह कोई और थी...’, ‘विकल्प’, ‘अनुगूँज’ तथा ‘काश! ऐसा होता...’।
    हमें विश्वास है कि इस सीरीज़ के माध्यम से पाठक सुविख्यात कथाकार सुधा ओम ढींगरा की प्रतिनिधि कहानियों को एक ही जिल्द में पाकर सुखद संतोष का अनुभव करेंगे।
  • Har Baar Musaphir Hota Hoon
    Pratap Sehgal
    280 252

    Item Code: #KGP-611

    Availability: In stock

    हर बार मुसाफिर होता हूं' के यात्रा-वृत्तांत निरे वृतांत नहीं हैं। निरे वृतांत कभी भी यात्रा-साहित्य का हिस्सा नहीं बन सकते। यह यात्रा-वृतांत कभी इतिहास की गलियों से गुज़रते हुए आपको अतीत के किसी पन्ने से जोड़ देते हैं तो कभी भूगोल में प्रवेश करते हुए आपको उसी जगह ले जाकर खड़ा कर देते हैं, जिस जगह का जिक्र लेखक कर रहा है। कभी आप उस जगह के लोक के रीति-रिवाजों से रू-ब-रू होते हैं, कभी वहां के सांस्कृतिक घटकों का तो कभी वहीं की प्राकृतिक संपदा और सौंदर्य का हिस्सा बन जाते हैं।
    विविध विधाओं में लेखन करने वाले लेखक प्रताप सहगल एक घुमंतू जीव भी हैं, यह जानकारी इन यात्रा-वृतांतों को पढ़कर पुख्ता होती है। वन वृत्तातों में कहीं कविता, कहीं नाटक और कहीं कथा का रंग मिलने लगना कोई अजूबा नहीं बल्कि इसे लेखक का शैल्पिक वैशिष्टय ही मानना चाहिए।
    ये यात्रा-वृत्तात इसलिए भी विशिष्ट हो जाते है कि लेखक वर्णित स्थान, समय और वहीं समाहित सामाजिक-सांस्कृतिक परिवेश का रूपांकन किनारे या किसी सिरे पर खडा होकर नहीं करता। यह सीधे-सीधे स्थान, समय और परिवेश में दाखिल होकर उसका हिस्सा बनकर जीता है और खुद की भी वहीं शामिल कर लेता है। अपने इन्हीं अनुभवों को पाठक के साथ साझा करने की इच्छा ही लेखक को शब्द का सहारा लेने के लिए विवश करती है। और इसी बहाने और तमाम सार्थक यात्रा-वृत्तांतों की तरह से यह यात्रा-वृत्तांत भी हिंदी के वृहद यात्रा-साहित्य के द्वार पर दस्तक देते हुए आपके हाथ में है।
  • Sapnon Ko Saakaar Kiya
    Vishv Nath Gupta
    120 108

    Item Code: #KGP-578

    Availability: In stock

    इस पुस्तक में ऐसे व्यक्तियों की सच्ची कहानियां हैं, जिन्होंने अपने जीवन में ऐसे काम किए, जिनसे आम आदमी को लाभ हुआ था, जिनसे आम आदमी को प्रेरणा मिल सकती है । इन व्यक्तियों ने अपने लक्ष्य की प्राप्ति में कठियाइयों का भी सामना किया, लेकिन उनका डटकर मुकाबला किया । इनमे से अधिकांश के पास सीमित साधन थे, फिर भी लक्ष्य प्राप्ति के मार्ग में उनके कदम रुके नहीं, बल्कि आगे ही बढ़ते गए । अंत में उन्होंने अपना लक्ष्य प्राप्त किया । साथ ही अपने सपनों को भी साकार किया । 
    जिन व्यक्तयों की ये जीवनियां हैं, उनके बारे में किशोर पाठक बहुत कम जानते होंगे । इनमे से कुछ को तो वे केवल उनके नाम या काम से ही जानते होंगे । लेकिन जब वे उनके बारे में पढ़ेंगे तो न केवल उन्होंने नई जानकारी मिलेगी, बल्कि कुछ वैसे ही लोकहितकारी काम करने की प्रेरणा भी मिलेगी । यही पुस्तक का उद्देश्य है । 
    —विश्वनाथ गुप्त 
  • Rajneeti Ki Shatranj
    Shanta Kumar
    375 338

    Item Code: #KGP-107

    Availability: In stock

    राजनीति की शतरंज
    मुख्यमंत्री-पद छोड़ने के बाद मेरा मन भरा हुआ था । ढाई साल की छोटी-सी अवधि में इतनी घटनाएं घटी थीं, इतने मीठे-कड़वे अनुभव प्राप्त किए थे कि वह एक अधूरे सफर की पूरी कहानी बन गई थी  ।
    लंबी सोच के बाद मैंने निर्णय किया कि मुझे पुस्तक लिखनी चाहिए । ढ़ाई साल में मैंने मूल्यवान अनुभव प्राप्त किए । एक असाधारण संघर्ष से गुजारा । कुछ अच्छे काम किए । गलतियां कीं । वे सारे अनुभव मेरे निजी नहीं हैं । वे समाज की संपत्ति हैं । एक राजनीतिक व्यक्ति उन्हें अपने तक रख सकता था, परंतु एक लेखक ऐसा नहीं कर सकता था । लेखक को ऐसा करने का अधिकार भी नहीं है ।
    इस पुस्तक को पाठक एक राजनीतिक व्यक्ति के संस्मरण ही न समझे । एक लेखक जीवन के लंबे  सफर में संयोग से या भूल से सत्ता की राजनीति की संकरी गली में चला गया था । वहीं जो देखा, पाया, खोया व अनुभव किया, वह उसके अंतर में उमड़ता-घुमड़ता रहा । मेरा लेखक उस सबको छिपा कर या दबाकर रख ही नहीं सकता था। मेरे ये संस्मरण-ये अनुभव समाज के हैं और मैं समाज को ही इन्हें अर्पित कर रहा हूँ।
  • Saakshi
    Bhairppa
    295 266

    Item Code: #KGP-875

    Availability: In stock

    यह उपन्यास 1986 की सर्वश्रेष्ठ कन्नड़ कृति के रूप में स्वीकृत होकर 'ग्रंथलोक' पुरस्कार से सम्मानित।
  • Pratiraksha Aur Saamrik Neeti
    Narendra Mohan
    495 446

    Item Code: #KGP-899

    Availability: In stock

    प्रतिरक्षा व सामरिक नीति
    भारत आज एक परमाणु शक्ति सम्पन्न देश है । भारत की मंशा अपनी परमाणु शक्ति  उपयोग शांतिपूर्ण कार्यों व आत्मरक्षा के लिए है । किसी भी देश की प्रतिरक्षा व सामरिक नीति वर्तमान और भावी खतरों के आयामों के निरंतर विश्लेषण पर आधारित होती है और भारत को भी इन्हीं आधारों को दृष्टिगत रखते हुए अपने को तैयार रखना होगा । निश्चित रूप से भारत के समक्ष पग-पग पर चुनौतियाँ हैं, लेकिन अपनी संकल्पशक्ति से विद्यमान  सभी चुनौतियों का सामना दृढ़ता व आत्मविश्वास से करेंगे । 
    –अटल बिहारी वाजपेयी 

  • Samkalin Sahitya Samachar June, 2019
    Mahesh Darpan
    0

    Item Code: #KGP-MGZN 2019

    Availability: In stock

  • Bindu-Bindu Vichar
    Atal Bihari Vajpayee
    400 300

    Item Code: #KGP-9022

    Availability: In stock

    बिन्दु-बिन्दु विचार
    राष्ट्रीय एकता के सुदृढ़ बनाने के लिए आवश्यक है कि हम राष्ट्र की स्पष्ट कल्पना लेकर चलें । राष्ट्र कुछ संप्रदायों अथवा जनसमूहों का समुच्चय मात्र नहीं, अपितु एक जीवमान इकाई है, जिसे जोड- तोड़कर नहीं बनाया जा सकता । इसका अपना व्यक्तित्व होता है, जो उसकी प्रकृति के आधार पर कालक्रम का परिणाम है । उसके घटकों में राष्ट्रीयता की यह अनुभूति, मातृभूमि के प्रति भक्ति, उसके जन के प्रति आत्मीयता और उसके संस्कृति के प्रति गौरव के भाव में प्रकट होती है । इसी आधार पर अपने-पराये का, शत्रु-मित्र का, अच्छे-बुरे का और योग्य-अयोग्य का निर्णय होता है । जीवन की इन निष्ठाओँ तथा मूल्यों के चारों ओर विकसित इतिहास राष्ट्रीयत्व की भावना घनी- भूत करता हुआ उसे बल प्रदान करता है । उसी से व्यक्ति को त्याग और समर्पण की] पराक्रम और पुरुषार्थ की, सेवा और बलिदान की प्रेरणा मिलती है । -इसी पुस्तक से

  • Raai Or Parvat
    Rangey Raghav
    250 225

    Item Code: #KGP-63

    Availability: In stock


  • Agyey : Kavi-Karm Ka Sankat
    Krishna Dutt Paliwal
    565 509

    Item Code: #KGP-710

    Availability: In stock

    अज्ञेय: कवि-कर्म का संकट
    प्रोफेसर कृष्णदत्त पालीवाल उत्तर-आधुनिकतावादी और उत्तर-संरचनावादी विमर्शों को हिंदी में स्थापित करने वाले आलोचकों में अग्रणी हैं।
    लगभग चार दशकों से बौद्धिक-सांस्कृतिक विमर्शों में उनकी हिस्सेदारी का एक अविस्मरणीय संदर्भ है। वे सर्वेश्वरदयाल सक्सेना, भवानी भाई, गिरिजा- कुमार माथुर, मनोहर श्याम जोशी, निर्मल वर्मा के साथ-साथ मैथिलीशरण गुप्त और अज्ञेय से निरंतर संवाद करते रहे हैं। उनका विचार है कि यह समय आलोचना की परंपरागत पद्धतियों से हटकर नए विमर्शों में अर्थ-उत्पादन की बहुलार्थक प्रक्रिया से जुड़ने का है। आज ये विमर्श न केवल निर्णायक होने लगे हैं, बल्कि नई बौद्धिक चुनौतियों से जुड़कर वर्तमान की माँग हैं। पुराना आधुनिकतावाद का ‘आलोचना’ पद अब अपनी प्रामाणिकता खोकर संदिग्ध हो गया है। विनिर्मितिवादी पाठ-प्रविधियों ने हिंदी में ‘नव्य समीक्षा’ से हमेशा के लिए हाथ जोड़ लिए हैं।                     

    अज्ञेय के कवि-कर्म के संकट पर विमर्श करते हुए उनका ‘टेक्स्ट’ ही सामने रहा है--किसी पुरानी थियरी के चक्कर में लेखक नहीं पड़ा। उनके ‘पाठ’ की पढ़त में ध्यान रखा है कि पाठ स्वायत्त एवं आत्मनिर्भर नहीं होता। अर्थग्रहण की प्रक्रिया अंतहीन है। उसे किसी विचारधारा की प्रतिबद्धता के नाम पर जेल में नहीं डाला जा सकता। यहाँ एक पाठक-मन ने ‘पाठ’ से अपनी तरह की अर्थ-मीमांसा करने का अरमान रखा है। मूलतः यह पुस्तक ‘पाठकवादी आलोचना’ (रीडर ओरिएंटिड क्रिटिसिज्म) का साहित्यिक प्रवाह है, जिसमें प्रतिमानों-मूल्यों को ऊपर से थोपने का प्रयास नहीं है। यहाँ तो ‘पाठ’ को ‘पाठक’ ही अर्थ देता रहा है। 
    बीसवीं शताब्दी की बीज अवधारणा है--स्वाधीनता। अज्ञेय इसी अवधारणा को धारण करने वाले हिंदी के आधुनिक सृजन और चिंतन क्षेत्र में शीर्ष सर्जक रहे हैं। उन जैसा स्वाधीन और विद्रोही चिंतक किसी साहित्य को मुश्किल से ही नसीब हो पाता है। अज्ञेय अपनी परंपरा, भाषा, संस्कृति, समय और बोध को नया मोड़ देने वाले अनथक रचनाकार हैं। नई काव्य-प्रवृत्तियों की पैरवी करते हुए उन्होंने अनेक नवीन स्थापनाएँ की हैं, जिन पर आज भी विवाद-संवाद का सिलसिला जारी है। अज्ञेय ने जो लिखा वह आज भी हमारे कवि-कर्म की चुनौती है तथा रचना-तर्क को समझने की स्थिति।
  • Gulloo Aur Ek Satrangi : 1 (Paperback)
    Shrinivas Vats
    115

    Item Code: #KGP-7059

    Availability: In stock

    गुल्लू कर्णपुर गांव के किसान विजयपाल का बेटा है। उसका असली नाम गुलशन है, पर सब उसे प्यार से ‘गुल्लू’ ही कहते हैं। उसकी उम्र है लगभग बारह साल। उसकी एक छोटी बहन है राधा। उसकी उम्र आठ साल है। परंतु वह स्कूल नहीं जाती। कारण, उनके गांव में कोई स्कूल नहीं है। उनकी मां को मरे आठ साल हो गए। राधा को जन्म देने के बाद मां चल बसी थी।
    गुल्लू की मां की मृत्यु के बाद उनके पिता ने पास के गांव की सविता नामक एक महिला से पुनः विवाह कर लिया। सौतेली मां घर में आई तो गुल्लू खुश था। उसे भरोसा था कि उसे और उसकी छोटी बहन को मां का प्यार मिल जाएगा। पर सौतेली मां बहुत कठोर स्वभाव की थी। शुरू में कुछ दिन तो ठीक रहा, पर बाद में उसने बच्चों को पीटना शुरू कर दिया। बात-बात में भला-बुरा कहती। यद्यपि किसान के सामने वह लाड़-प्यार का नाटक करती, पर उसके खेत में जाते ही वह बच्चों को डांटना शुरू कर देती।

    -इसी पुस्तक से
  • Hamare Jeevan Moolya-1
    Dhram Pal Shastri
    50

    Item Code: #KGP-1145

    Availability: In stock


  • Bistar Aur Aakaash
    Ramakant
    50 45

    Item Code: #KGP-2094

    Availability: In stock

    बिस्तर और आकाश
    रमाकांत को निम्नमध्यवर्ग के जीवन का चितेरा कहा जाता रहा है । उनकी रचनाओं में शहरी निम्नमध्यवर्ग को जितना स्थान मिला, उतना और किसी के साहित्य में दुर्लभ है ।
    समस्या नई बस्तियों में बसने आये कमजोर आय वर्ग के लोगों की हो या कस्बों से नौकरी के सिलसिले में आये लोगों की-रमाकांत ने अपनी रचनाओं में उनकी आर्थिक, मानसिक, सामाजिक स्थितियों-परिस्थितियों का बारीकी से चित्रण किया है ।
    आकस्मिक मृत्यु से पूर्व के कई वर्ष रमाकांत ने स्वतंत्र लेखन में गुजारे, और इस दौर में साम्यवाद के पतन और असफलता के कारणों की पड़ताल कर एक बृहद उपन्यास लिखा ।
    संभवत: उस बडे प्रयोजन में जुट जाने के चलते इन तीन लघु उपन्यासों को पुस्तक रूप में प्रकाशित नहीं किया जा सका । बहरहाल, बिस्तर और आकाश, मैं, अकेले में, और एक विपरीत कथा शीर्षक ये आकार से छोटे लेकिन कथा में बडे तीन उपन्यास पाठको को अपने जाने-माने रचनाकार की मकम्मल मौजूदगी का अहसास करवाएँगे ।
  • Do Naatak
    Jaivardhan
    200 180

    Item Code: #KGP-862

    Availability: In stock


  • Yatrayen (Paperback)
    Himanshu Joshi
    60

    Item Code: #KGP-7066

    Availability: In stock

    यात्राएँ
    कहानियों, उपन्यासों की तरह हिमांशु जोशी के यात्रा-वृत्तांतों  की भी अपनी विशेषता है। पढ़ते-पढ़ते पाठक को कहीं लगने लगता है कि इन यात्राओं में लेखक के साथ-साथ वह भी यात्रा कर रहा है । लेखक जिस तरह से इन सबको देख रहा है, जिस तरह की अनुभूति उसे हो रही है, कुछ-कुछ वैसी ही उसे भी होने लगती है । सरलता, सहजता, स्वाभाविकता हिमांशु जोशी की रचनाओं के सहज, स्वाभाविक गुण हैं । संभवत: ये ही मूल गुण किसी रचना को जीवंत बनाने में सफल होते है ।
    इन यात्राओं से कश्मीर के बर्फीले दुर्गम सीमा-क्षेत्र शामिल हैं तो पूर्व में बाँग्लादेश और भारत को विभाजित करती सुदूर हरित वंगा या इच्छामती के कूल-कगार भी । कहीं कन्याकुमारी तथा केरल की मनोरम हरित दुश्यावलियाँ हैं तो कुमाऊँ के पर्वतीय प्रदेश की अनेक अज्ञात, अछूती मनोरम झाँकियाँ भी। मॉरिशस का नीलवर्णी निर्मल स्वच्छ सागर है कहीं तो उत्तरी ध्रुव प्रदेश की हिमशीतल सफेद हवाएँ भी अपने अस्तित्व का अहसास जताने लगती है । हिमांशु जोशी संभवत: वह हिंदी के पहले लेखक है, जिन्होंने विश्वविख्यात नाटककार हैनरिक इब्सन के घर सीयन की साहित्यिक यात्रा की थी । उसी तरह नोबेल पुरस्कार से सम्मानित नार्वेजियन लेखक सीगरी उनसत तथा ब्यौर्नसन के घरों की तीर्थयात्राएँ भी।
    ये यात्रा-विवरण मात्र यात्रा के विवरण ही नहीं, कहीं इनमें  इतिहास भी है, भूगोल के साथ-साथ साहित्य भी । कला एवं संस्कृति की मार्मिक छुअन भी। इसीलिए ये वृतांत कहीं  दस्तावेज भी बन गए हैँ-जीए हुए अतीत के। पाठको को इनसे एक संपूर्ण जीवन का अहसास होने लगता है। एक साथ वह बहुत कुछ ग्रहण करने में सफल होता है-शायद यह भी इन वृत्तात्तों की एक सबसे बडी सफलता है ।
  • Abdul Majeed Ka Chhura
    Krishna Kumar
    180 162

    Item Code: #KGP-1925

    Availability: In stock

    अब्दुल मजीद का छुरा
    हम पुस्तक में कृष्ण कुमार के चुने हुए यात्रा-संस्मरण और रिपोर्ताज शामिल है । इन निबंधों में उनकी सुपरिचित गद्य शैली का एक अलग, बहुत आकर्षक रूप देखने को मिलता । कहानियों और शिक्षा संबंधी लेखों में  अभिव्यक्त होने वाली उनकी विशिष्ट निगाह यात्रा व लचीले फलक पर पाठक के साथ बहुत आत्मीय और उत्साह भरा रिश्ता बनाने में समर्थ होती हैं ।
    कृष्ण कुमार की अपनी रुचियों और दृष्टिक्षमता के अलावा पिछले र्टा-ढ़ाई दशकों के देश-विदेश के अनेक जीवन्त संदर्भों की पहचान भी इन निबंधों में समाई है । बिहार आंदोलन के सिलसिले में लिखे गए तीन रिपोर्ताज आपात्काल के ठीक पूर्व की स्थिति का विहंगम जायजा लेते हैं ।  एकदम हाल में लिखा गया  नर्मदा का संस्मरण भी यहाँ  शामिल किया गया है ।
  • Kahani Samgra : Govind Mishra (1st Part)
    Govind Mishra
    750 675

    Item Code: #KGP-1581

    Availability: In stock


  • Anton Chekhov Ki Kahaniyan
    Pramila Gupta
    300 225

    Item Code: #KGP-ACKK HB

    Availability: In stock

    अंतोन चेखव (1860-1904) की गणना न केवल रूसी साहित्य में अपितु विश्व साहित्य के शीर्ष कथाकारों में होती है। अपने छोटे से जीवन में उन्होंने रूसी भाषा में चार नाटक व अगणित कालजयी कहानियाँ लिखीं। उनकी कहानियाँ व नाटक साहित्य संपूर्ण विश्व के समालोचकों व समीक्षकों की दृष्टि में अप्रतिम हैं। वे पेशे से चिकित्सक थे। प्रारंभ में उन्होंने पढ़ाई का खर्चा निकालने के लिए लिखना शुरू किया। बाद में वे पूर्ण रूप से साहित्य को समर्पित हो गए। उनका कहना था कि चिकित्सा उनकी धर्मपत्नी है तो साहित्य उनकी प्रेमिका। उनके साहित्य में तत्कालीन सामाजिक व्यवस्था एवं आमजन की पीड़ा का सजीव चित्रण पाठकों को अभिभूत कर देता है।

    हिंदी साहित्यप्रेमी अंतोन चेखव के विपुल साहित्य का रसास्वादन करने के लिए सदैव लालायित रहते हैं। उनके साहित्य का हिंदी भाषा में आनंद लेने का एकमात्र विकल्प अनुवाद है। अनुवादक उनके साहित्य को हिंदी पाठकों तक पहुँचाने का यथासंभव प्रयास कर रहे हैं। अंतोन चेखव के समग्र साहित्य को भाषांतरित कर पाना दुष्कर कार्य है। चुनिंदा कहानियों का हिंदी अनुवाद करने का विनम्र प्रयास किया है। चेखव के विशद साहित्य में से कुछ कहानियों का चयन करना सरल नहीं। उनकी प्रत्येक कहानी विशिष्ट है। अतः स्वरुचि के आधार पर कहानियाँ चयनित की हैं। आशान्वित हूँ कि सुधी पाठकों को ये कहानियाँ पसंद आएँगी।

  • Bengal Shaili Ki Chitrakala
    Dr. Jagdish Chandrikesh
    400 360

    Item Code: #KGP-9044

    Availability: In stock

    भारत दो चित्रकला शैलियों में बंगाल चित्रकला शैली को एक विशिष्ट स्थान प्राप्त है । उसका यह वेश्मिष्ट्रय विगत शती के बंगाल रिनेसां' अर्थात् माक्षतीय नवजागरण से उसकं संबद्ध होने के कारण भी है । बंगाल शैली देशज निजत्व को पल्लवित और विकसित करनेवाली शैली तो थी ही लेकिन, उसमें ऐसे विरोधाभास भी थे जिससे उसकं समसामयिक मूल्यद्देकन ने दो परस्पर विरोधी अभिमत सामने आये। जहा इस शेली के समर्थक कहय-समीक्षकों ने भावनात्मक लगाव रखते हुए इसे अतिश्योक्तिपूर्ण महत्व दिया यहीं दूसरी और अन्य कला-समीक्षकों ने वस्तुनिष्ठ और दिष्टलेषणमृत्मक मूल्यग्रेकन कर इसकी अनेकानेक कमियों व खामियों को भी उजागर जिया, साथ ही कुछ गंभीर आरोप भी लगाये और इसकी उपलब्धियों के सामने ग्रहन-चिहन खडे किये। आज यह शैली इतिहास का विषय बन चुकी है अत: इस अध्ययन में प्रस्तुत है उसका सर्वागीण सष्टमुक विवेचन, जो अनेक अनछुए पहलुओं को उजागर यता है ।
  • Postmortem
    Ajeet Kaur
    160 144

    Item Code: #KGP-2048

    Availability: In stock


  • Akbar-Beerbal Ki Praamaanik Kahaniyan (Paperback)
    Hari Krishna Devsare
    150

    Item Code: #KGP-7064

    Availability: In stock

    अकबर-बीरबल की प्रामाणिक कहानियां 
    अकबर-बीरबल की इन कहानियों में केवल मनोरंजक, हाजिरजवाबी और चतुराई की घटनाएं नहीं हैं, बल्कि इनमें भारतीय इतिहास की दो महान् विभूतियों के व्यक्तित्व के विविध गुणों और विशेषताओं के भी दर्शन होते हैं । इन कहानियों में विद्वानों-गुणी  ज़नों का आदर है, कुशल प्रशासन है, न्याय की तराजू पर किए गए फैसले और सामान्य जनता के कल्याण हेतु कार्यों जैसे पहलू भी उजागर होते हैं ।
    यों तो अकबर-बीरबल के किस्सों में काफी मिलावट हुई है, फिर भी उससे बचकर कुछ ऐसी चुनिंदा कहानियां ही यहाँ प्रस्तुत हैं, जो इतिहास की इन दोनों महान् विभूतियों की गरिमामयी छवि प्रस्तुत कर सकें । आशा है, पाठक इन्हें रुचिकर पाएंगे ।
    –हरिकृष्ण देवसरे

  • Shake-Up India
    Jayant V. Narlikar
    395 356

    Item Code: #KGP-906

    Availability: In stock

    The need of The Times 
    India has lived over sixty years of its independence, but it still seems to be floating rudderless. It does not know what to accept and what to discard.
    The well known Astrophysicist and science writer Jayant V. Narlikar provides in this significant work well thought out ideas in various life and work-areas for us to take up in right earnest and do the needful to build up the nation as well as our own lives.
    He is a rare Indian who writes science fiction which is closer to the truth. A few of his ideas have already come true. Like the social problems created by the possibility of knowing the sex of the child while in the womb which he wrote up in a story in the 1970s.
    The shake-up and change are caused by The likes of These meteors:
    • ‘India that is Bharat…..’ – Why two names?
    • Get rid of the scientifically rejected superstitions.
    • No more Ramans, Boses, Sahas – Why?
    • Ignoring higher education–Why?
    • Science is significant, develop its temper.
    • Come out of the population trap.
    • Don’t litter, clean up your surroundings, it’s easy.
    • Technology is for the 21 st century.
    • Teach astronomy in schools; it will develop students’ minds.
    • Be professional in achieving your goal.
    • Media must come forward in presenting science to the masses.
    • Take a leaf out of the life of Michael Faraday.

  • Drishtidesh Mein Ekaaek (Paperback)
    Narendra Kohli
    45

    Item Code: #KGP-7102

    Availability: In stock


  • Dena Paavna (Paperback)
    Sharat Chandra Chattopadhyaya
    140

    Item Code: #KGP-154

    Availability: In stock


  • Khanabadosh (Paper Back)
    Ajeet Kaur
    160 128

    Item Code: #Kbh

    Availability: In stock


  • Aapad Dharm Tatha Anya Kahaniyan
    Deepak Sharma
    90 81

    Item Code: #KGP-1933

    Availability: In stock

    आपदधर्म क्या अन्य कहानियाँ
    'यह दुर्भाग्य नहीं तो क्या है कि हमरे समाज में विवाह केवल सामाजिक समाकलन का एक यंत्र योग है ? या किर विधिक विषयासक्ति का एक रचनातंत्र ? इसके अतिरिक्त क्या हमारे समाज में विवाह कोई तीसरा सत्व भी रखता है ?' रोहिणी एलबम का वह पृष्ट सामने ले आई जहाँ विवाह के पारंपरिक वस्त्रों एवं आभूषणों से सजे तथा विवाह संबंधी स्वाभाविक उमंगों एवं अचरजों से लदे अठारहवर्षीय मधु तथा चौबीसवर्षीय अशोक एक-दूसरे की ओर संपूर्ण समर्पण की दृष्टि से निहार रहे थे ।
    अशोक के हाथों में अपना भाग्य एवं अपना भविष्य सौंप चुकी मधु के हाथों से उस लोक का भाग्य एवं भविष्य छीनने वाली रोहिणी का उस लोक में प्रवेश क्या अतिक्रमण न था ? निषिद्ध न था ? विवाह तोड़ने की उसे लत लग गई थी क्या ?
    “बच्चे है तीसरा सत्व, रोहिणी ।"
    पहली बार गर्भवती हुई मधु के मन में बच्चों के प्रति ढेरों उत्माह रहा ।
    "द सीमेंट ? द शटल कॉक ? द प्लेइंग फील्ड ?” रोहिणी हँस पडी ।
    “मतलब ?"
    "स्ट्रिंडबर्ग र्ग के अनुसार बच्चों से माता-पिता सीमेंट का काम लेने है । हैनरी जेम्स सोचते है, माता-पिता की फूट में बच्चे बैडमिंटन को चिडिया की भांति इधर से उधर फहराए जाते हैं और नोरा एफ़रोन अपने उपन्यास "हार्टबर्न’ में लिखती हैं कि बच्चे के जन्म के साथ माता-पिता की बल-परीक्षा को एक नई क्रीड़ा-भूमि मिल जाती है... ।'
    -[इस संग्रह की एक कहानी 'स्त्रियाँ' से]
  • Aakhyaan Mahila Vivashata Ka
    Harish Chandra Vyas
    140 126

    Item Code: #KGP-112

    Availability: In stock

    विगत हजारों वर्षों के इतिहास में किसी भी काल में पुरुष ने नारी की आर्थिक अवस्था की ओर कभी भी ध्यान नहीं दिया और इसी अर्थ-विवशता के कारण नारी की दशा समाज में सदैव हीन बनी रही।
    पाषाण काल से लेकर वर्तमान काल तक नारी की सामाजिक यात्रा अत्यंत दुर्गम, सामाजिक बंधनों, बर्बर अत्याचारों, मर्यादाओं और समाजशास्त्रियों द्वारा खोदी गई विशाल गहरी खाई व बिछाए गए कंटीले झाड़-झंखाड़ों में से होकर 21वीं सदी तक पहुंची है। आज उसी नारी-देह का विज्ञापन और व्यवसायीकरण धड़लले से हो रहा है। नाचने, अंग-अंग की भंगिमाएं दिखाने, मुद्राओं से, स्पर्श से, यौवन से उभार से, जरूरी हो तो सहवास से समाज में कई भयंकर विकृतियां दु्रतगति से उभरकर सामने आ रही है।
    प्रस्तुत पुस्तक के सृजन के पीछे प्रमुख उद्देश्य यह रहा है कि इस विषय पर उत्कंठा रखने वाले नागरिक तथा सामान्य जन वस्तुस्थिति का अवलोकन करें और समाज में फैल रही व्यभिचार की विभीषिका से निजात दिलवाने में अभिरुचि एवं अभिवृत्ति का विकास करें।
    —हरिश्चन्द्र व्यास
  • Khushabu To Bacha Li Jaaye
    Laxmi Shankar Vajpayee
    80

    Item Code: #KGP-1905

    Availability: In stock

    खुशबू तो बचा ली जाए
    तमाम आडंबरों, विडंबनाओं और त्रासदियों के रहते, घुटते हुए माहौल में, एक ताजा हवा का झोंका है— खुशबू तो बचा ली जाए । विवशताओं के चलते, खुद से जूझते और अँधेरों के लंबे रेगिस्तान में रोशनी की फिक्र, आस्थाओं की नदी और नूर की बारिश की प्रार्थनाएँ हैं इसकी गज़लें । कभी आगाह करती हैं तो कभी आह्वान । कभी अंतस में टीस भरती हैं तो कभी चेतना में उजास—और अपने होने का असर लेकर दूर तक साथ चलती हैं।
    ओस में बंद सूरज, शंख में समाए नाद की तरह, दो मिसरों के बीच कहीं क्रांति की आग है तो कहीं विश्वास का चंदन । कहीं सांस्कृतिक सुरभि है तो कहीं वक्त की छटपटाहट-कहीं दहकते हुए सवाल हैं तो कहीं सुलगती हुई चिंताएँ ।
    न कोई लाग-लपेट, न बनावट, सीधी-सच्ची बात, आप लोगों की बात, आमफहम भाषा में, जो हदय से चलकर हृदय से उतरती है। शायद इसीलिए इन ग़ज़लों ने, राष्ट्रीय पत्र-पत्रिकाओं के संपादकीय लेखों, महत्वपूर्ण अभियानों, आन्दोलनों से लेकर  दार्शनिकों के प्रवचन तक सक्रिय भूमिका निभाई है । संक्रांति के इस युग में, मूल्यवान एवं पवित्र परंपराओं, मर्यादाओं और मानवीय संवेदनाओं को सहेजने की ईमानदार कोशिश है—'खुशबू तो बचा ली जाए' ।
  • Dus Pratinidhi Kahaniyan : Manohar Shyam Joshi (Paperback)
    Manohar Shyam Joshi
    120

    Item Code: #KGP-462

    Availability: In stock

    दस प्रतिनिधि कहानियाँ : मनोहर श्याम जोशी
    "दस प्रतिनिधि कहानियाँ" सीरीज़ किताबघर प्रकाशन की एक महत्त्वाकांक्षी कथा-योजना है, जिसमें हिन्दी कथा-जगत् के सभी शीर्षस्थ कथाकारों को प्रस्तुत किया जा रहा है ।
    आधुनिक हिंदी कथा-साहित्य के सर्वाधिक चर्चित लेखक मनोहर श्याम जोशी की प्रतिनिधि कहानियों का यह संकलन उनके जीवनकाल में न आ सका, इस बात का हमें गहरा अफसोस है । अपनी प्रतिनिधि कहानियों की भूमिका  में  यह स्वयं क्या स्थापित-विस्थापित करते, यह अनुमान तक कर पाना असंभव है । मगर उन्होंने अपने कथा-साहित्य में सचमुच क्या कर दिखाया है-इसकी रंग-बिरंगी झलक दिखाई देगी पुस्तक में लिखी मर्मज्ञ आलोचक-आचार्य डॉ० कृष्णदत्त पालीवाल की भूमिका से ।
    किताबघर प्रकाशन गौरवान्वित है कि इस सीरीज़ के लिए सभी कथाकारों का उसे सहज सहयोग मिला है। इस सीरीज़ के महत्त्वपूर्ण कथाकार  मनोहर श्याम जोशी ने प्रस्तुत संकलन में अपनी जिन दस कहानियों को प्रस्तुत किया है, वे हैं : 'सिल्वर वेडिंग', 'एक दुर्लभ व्यक्तित्व', 'शक्करपारे', 'जिंदगी के चौराहे पर', 'उसका बिस्तर', 'मैडिरा मैरून', 'धरती, बीज और फल', 'गुडिया', 'धुआँ' तथा 'कैसे हो माटसाब आप?'
    हमेँ विश्वास है कि इस सीरीज़ के माध्यम से पाठक सुविख्यात लेखक  मनोहर श्याम जोशी की प्रतिनिधि कहानियों को एक ही जिल्द में पाकर सुखद पाठकीय संतोष का अनुभव करेंगें ।
  • Pahiye Ki Vikaas Katha
    Chetan Kumar
    100 90

    Item Code: #KGP-959

    Availability: In stock


  • Shiksha Evam Itihas : Parivartan Ki Chunotiyan
    Jagmohan Singh Rajput
    250 225

    Item Code: #KGP-762

    Availability: In stock

    शिक्षा एवं इतिहास : परिवर्तन की चुनौतियाँ 
    प्रगति और विकास बीसवीं सदी में उपनिवेशवाद दस चंगुल  से मुक्त हुए देशों की राष्ट्रीय नीतियों के आवश्यक अंग बने । जनमानस ने इनमें जीवन की गुणवत्ता सुधारने के सुनहरे सपने देखे । बीसवीं शताब्दी में विश्वस्तर पर यह पहली बार सर्वमान्य हुआ कि शिक्षा सभी का मूलभूत मानवीय अधिकार  है तथा शिक्षा की व्यापकता तथा सर्वसुलभता ही मानव को प्रगति तथा विकास के मार्ग पर चलने के लिए तैयार कर सकती है । वस्तुतः शिक्षा ही उस मार्ग का निर्धारण करने में सर्वाधिक सहायता करती है । ये लक्ष्य शिक्षा द्वारा प्राप्त किया जाना तभी संभव हो सकता है जब शिक्षा स्वयं को सतत परिवर्तनशीलता तथा प्रगतिशीलता की लय में ढाल ले । साथ ही शिक्षा अपने पूर्ण परिवेश में समाज तथा राष्ट्र की संभावनाओं, अपेक्षाओं तथा आकांक्षाओं में लगातार हो रहे परिवर्तनों का समावेश करते हुए व्यक्ति के बहुमुखी विकास में सहायक होने में सक्षम बन सके । 
  • Kavi Ne Kaha : Bhagwat Ravat (Paperback)
    Bhagwat Rawat
    90

    Item Code: #KGP-1379

    Availability: In stock

    कवि ने कहा : भगवत रावत
    यह कविता पर निर्भर करता है कि वह अपने पाठक को कितनी देर अपने पास बिठाए रख सकती है, अथवा पहली बार के बाद दोबारा अपने पास बुलाने को कितना विवश कर सकती है। इस तरह कविता के पास जाने की पहल तो पाठक ही करता है। इसके बाद की जिम्मेदारी कविता पर आ जाती है कि वह कितनी अपने पाठक की हो पाती है। कितनी उसके अनुभव-संसार का रचनात्मक हिस्सा बन पाती है, जो सब कुछ छोड़कर कविता के पास कुछ पाने की गरज से आता है। 
    समाज के जिस अनुभव-संसार में पाठक रहता है, उसी समाज से रचनाकार भी आता है। जीवन की तमाम अच्छाइयों, बुराइयों, समानता, असमानताओं, विसंगतियों और जटिलताओं आदि के बीच रचनाकार जो भी कुछ ऐसा देखता है जिसे प्राप्त भाषा के माध्यम से परिभाषित या अभिव्यक्त करना संभव नहीं होता, तो उसी प्राप्त भाषा को रचनाकार न, सिरे से गढ़ता है और उसके इस प्रयत्न का प्रतिफल ही उसकी रचना होती है।
  • Aaviskaron Ki Kahaniyan
    Maitreyi Pushpa
    60

    Item Code: #KGP-979

    Availability: In stock


  • Anveshak (Paperback)
    Pratap Sehgal
    25

    Item Code: #KGP-942

    Availability: In stock

    अन्वेषक
    महत्वपूर्ण यह नहीं कि हम अतीत की ओर मुँह करके खडे को जाएँ और खडे रहें। हाथ में अतीत का झंडा उठा लें और गौरव को मीनारों पर चढ़कर खुद को बडा महसूस करें। महत्वपूर्ण यह है कि अतीत को खँगालें, अतीत की मीनारों को ओर देखें, पर अपने पैरों तले को जमीन न छोड़ें।
    'अन्वेषक' को रचना का मूल बिंदु यहीँ से शुरु होता है। इसी अर्थ में यह नाट्य-रचना पाँचवीं शती के उत्तरार्द्ध में हुए आर्यभट और उसके अन्वेषणों के बहाने समकालीन प्रश्नों यर विचार करती है। प्रगतिकामी और प्रतिगामी शक्तियों के बीच को रहे संघर्ष को नाटकीय तनावों के साथ अभिव्यक्त करती है। अवरोधकारी और अंधविश्वासी शक्तियों के सामने क्रांतिकारी अन्वेषण करने वाले किसी भी अन्वेषक को जिस मानसिक यातना से गुजरना पड़ सकता है और अंततः  उसकी क्या नियति हो सकती है इस सवाल पर भी यह नाटक गौर करता है।
    इतिहास नाटक की पृष्ठभूमि है इसलिए यह ऐतिहासिक नाटक नहीं है। इसका मकसद की जानकारी देना भी नहीं, बल्कि इतिहास के एक कालखंड, उस कालखंड में जन्मे आर्यभट के अन्वेषणों के बहाने परिवर्तन-, शक्तियों के संघर्ष को रेखाकित करना है। इसी के साथ जुड़ते है प्रेम, ईष्यों, स्मृहा, देश-प्रेम और वैज्ञानिक-टैम्पर से जुडे तमाम सवाल । 
    इन अर्थों में 'अन्वेषक' हिंदी नाटकों की उस परंपरा को आगे बढाता है जो प्रसाद से शुरू होकर मोहन राकेश में बदल जाती है। यहीं इतिहास पर उतना आग्रह नहीं, जितना प्रसाद को था पर नाटय-व्यापार पर आग्रह है। इतिहास के महीन तंतु को एक प्रभावी नाटक में रचने की क्षमता यहाँ साफ झलकती है। आशा है प्रताप सहगल का यह नाटक रंगकर्मियों  एवं नाट्य प्रेमियों की अदम्य रंग-पिपासा को एक सीमा तक अवश्य ही शांत करेगा।

  • Anuvaad Aur Bhaashik Sanskriti Hindi Ke Prayojanparak Sandarbh
    Rita Rani Paliwal
    325 293

    Item Code: #KGP-528

    Availability: In stock

    हिंदी लंबे समय से अनुवाद कर्म करने के बावजूद हम अनुवाद को भाषायी गतिविधियों से सकारात्मक और सर्जनात्मक ढंग से जोड़ने में बहुत सफल नहीं हो पाए हैं। अनुवाद के माध्यम से हिंदी को अभिव्यक्ति की सहजता से, उसकी बोलियों की अपनी कमाई हुई शब्दावली और भंगिमाओं से, जीवन संदर्भों की निकटता से जोड़ते हुए भाषायी पैनेपन को निखार नहीं पाए हैं।
    भूमंडलीकरण के दौर में दुनिया भर की भाषाओं के लिए कई तरह की चुनौतियां हैं। हिंदी को उन चुनौतियों का मुकाबला करने के लिए अपनी भाषिक संस्कृति को न केवल पहचानना होगा बल्कि उस भाषिक सांस्कृतिक परिवेश को कायम रखने का हर प्रयास करना होगा, जिसमें हिंदी भाषी समाज का सामूहिक अवचेतन और जातीय स्मृति संचित है; साथ ही जिसमें हिंदी भाषी समाज की मौजूदा और भावी पीढ़ियों की आशाएं, आकांक्षाएं अपना विस्तार और प्रसार पाती हैं और पाएंगी। भाषायी अस्मिता केवल बोलचाल, घरेलू व्यवहार, मनोरंजन से संचित और समृद्ध नहीं होती। उसके लिए उच्चकोटि के सर्जनात्मक साहित्य और साहित्य-विमर्श के साथ-साथ आवश्यक होती है उस भाषा में ज्ञान-संपदा की, दैनंदिन जीवन के बड़े से बड़े कार्यकलाप के संचालन, प्रयोजन और चिंतन की निरंतर और सिलसिलेवार मौजूदगी।
    प्रस्तुत पुस्तक हिंदी भाषा-संस्कृति के इन्हीं व्यापक सरोकारों से संबंधित है।
  • Rangey Ghazal (Paperback)
    Om Prakash Sharma
    80

    Item Code: #KGP-7050

    Availability: In stock

    रंगे ग़ज़ल
    यह एक अनूठा दस्तावेज है, जिसे एक प्रयोग के रूप में प्रस्तुत किया जा रहा है।  इस संकलन की कुछ गज़लें जहां अपनी परम्पराओं के साथ नजर आयेंगी, वहीं कुछ ग़ज़लों का रूप रूढियों और परम्पराओं से हटकर जमाने के नयेपन को छूता नजर आयेगा ।
    इस संकलन में पुराने शाइरों की ग़ज़लों के साथ ही कुछ नये शाइरों की ग़ज़लें भी सम्मिलित की गयी हैं, जो आज लोगों के दिलों में अपनी जगह बना रहे हैं तथा ग़ज़ल के प्रगतिवादी स्वरूप को नयी दिशा ध्यान कर रहे हैं । इन शाइरों में प्रमुख हैं-डा० बशीर 'बद्र', निदा फाजली, अख्तर शीरानी, ताहिर अली 'ताहिर', यूसुफ हसन, मुनीर नियाजी, मुजफ्फर हनफी, परवीन 'शाकिर', शोहरत बुखारी, शह्रयार, महकूर ‘खिजां', जिगर श्योपुरी, तस्नीम सिद्दीकी, अहमद 'कमाल', जफर 'इक्बाल', खालिद अहमद, जावेद शाहीँ, कतील शिफ़ाई, कर्रार 'नूरी', 'जोश' मलीहाबादी, साहिर होशियारपुरी, निश्तर खानकाही, मजीद अमजद, कुमार 'पाशी' और गुलशन मदान आदि ।

  • Jhoothe Aakash
    Rajesh Jain
    50 45

    Item Code: #KGP-9063

    Availability: In stock


  • Sunder Sakhee Granth
    Ramesh Chnadra Mishra
    135 122

    Item Code: #KGP-9287

    Availability: In stock

    हिंदी के भक्त कवियों में सूरदास और तुलसीदास विशेष लोकप्रिय हैं। सुंदरदास भी अपने समय में बड़े लोकप्रिय थे। इन्होंने विभिन्न विषयों पर चालीस से अधिक रचनाएं की हैं। इनकी भाषा में विशेष ओज है और काव्य-सौष्ठव की दृष्टि से सुंदरदास कम नहीं ठहरते। विशेष जानकारी यह है कि इन के गुरुभाई रज्जब, बखना, बाजिंदजी आदि मुसलमान थे। ...सुंदरदास संस्कृत के प्रकांड पंडित थे। फिर भी, अपने विचार-प्रचार के लिए इन्होंने ब्रजभाषा हिंदी, पंजाबी, गुजराती, राजस्थानी, पूरबी हिंदी एवं उर्दू-फारसी आदि की शब्दावली ही नहीं, इन भाषाओं में रचना की है। प्रस्तुत ‘सुंदर साखी ग्रंथ’ इकतीस अध्यायों में व्यवस्थित सुंदर कृत लगभग सवा हजार से ऊपर साखी-दोहों का संग्रह ग्रंथ है। यह ग्रंथ जहां सुंदरदास का विस्तृत परिचय कराता है, वहीं उनकी नीति-निष्ठा तथा अध्यात्म में गहरी पैठ को भी उजागर करता है। मुझे प्रसन्नता है कि बंधुवर रमेशचन्द्र मिश्र ने भक्त कवि सुंदरदास की रचना ‘साखी ग्रंथ’ का अर्थ सहित समुचित संपादन करके प्रकाशित किया है।
    —यशपाल जैन
  • Mahaan Yoddha Prithviraaj Chauhan : Jeevan Darshan (Paperback)
    M.A. Sameer
    90

    Item Code: #KGP-1319

    Availability: In stock

    भारतवर्ष के इतिहास में क्षत्रिय राजवंशों की गौरवगाथा इतनी लोमहर्षक है कि उन्हें बारंबार पढ़ने को मन करता है। पौराणिक काल से ही क्षत्रिय वंश ने राष्ट्र और समाज की रक्षा में अपनी तलवार उठाए रखी और अपने कर्तव्य का पालन किया।
    अजमेर चैहान वंश की राजधनी रहा है, जिसके प्रतापी राजा सोमेश्वर चैहान थे। सोमेश्वर चैहान के पुत्र पृथ्वीराज चैहान थे, जिनकी वीरता को आज भारतवर्ष में बड़े गर्व से याद किया जाता है। प्रस्तुत पुस्तक ‘महान् योद्धा पृथ्वीराज चैहान: जीवन दर्शन’ में पृथ्वीराज चैहान के जीवन से जुड़ी महत्त्वपूर्ण घटनाओं को सरल, सरस व सुबोध् शैली में प्रस्तुत करने का प्रयास किया गया है।
  • Gitanjali : Rabindranath Thakur
    Rabindra Nath Thakur
    350 280

    Item Code: #KGP-908

    Availability: In stock


  • Dus Pratinidhi Kahaniyan : Suryabala (Paperback)
    Suryabala
    130

    Item Code: #KGP-417

    Availability: In stock

    दस प्रतिनिधि कहानियाँ : सूर्यबाला
    'दस प्रतिनिधि कहानियाँ' सीरीज़ किताबघर प्रकाशन की एक महत्त्वाकांक्षी कथा-योजना है, जिसमें हिन्दी कथा-जगत् के सभी शीर्षस्थ कथाकारों को प्रस्तुत किया जा रहा है ।
    इस सीरीज़ में सम्मिलित कहानीकारों से यह अपेक्षा की गई है कि वे अपने संपूर्ण कथा-दौर से उन दस कहानियों का चयन करें, जो पाठको, समीक्षकों तथा संपादकों के लिए मील का पत्थर रही हों तथा ये ऐसी कहानियाँ भी हों, जिनकी वजह से उन्हें स्वयं को भी कहानीकार होने का अहसास बना रहा हो। भूमिका-स्वरूप कथाकार का एक वक्तव्य भी इस सीरीज़ के लिए आमंत्रित किया गया है, जिसमें प्रस्तुत कहानियों को प्रतिनिधित्व सौंपने की बात पर चर्चा करना अपेक्षित रहा है ।
    किताबघर प्रकाशन गौरवान्वित है कि इस सीरीज़ के लिए सभी कथाकारों का उसे सहज सहयोग मिला है। इस सीरीज़ के महत्त्वपूर्ण कथाकार सूर्यबाला  ने प्रस्तुत संकलन में अपनी जिन दस कहानियों को प्रस्तुत किया है, वे हैं : 'रेस', 'बिन रोई लड़की', 'बाऊजी और बंदर', 'होगी जय, होगी जय...हे पुरुषोत्तम नवीन !', 'न किन्नी  न', 'दादी और रिमोट', 'शहर की सबसे दर्दनाक खबर, 'सुमिन्तरा की बेटियां', 'माय नेम इश ताता' तथा 'सप्ताहांत का ब्रेकफास्ट'।
    हमें विश्वास है कि इस सीरीज़ के माध्यम से पाठक सुविख्यात लेखक सूर्यबाला की प्रतिनिधि कहानियों को एक ही जिल्द में पाकर सुखद पाठकीय संतोष का अनुभव करेंगें ।
  • The Hanuman Factor (Self-Help)
    Anand Krishna
    345 311

    Item Code: #KGP-593

    Availability: In stock

    “Chaaron Jug Parataapa Tumhaaraa, Hai Parasidha Jagata Ujiyaaraa.”
    “Your glory is sung far and wide, and in all four ages; and, your radiance known to illumine the whole universe.”
    Shree Hanuman Chalisa (The Forty Verses of Hanuman) written towards the end of Tulasidas’s life is, perhaps, one of his last works. By this work, the great poet-cum- saint takes the reader back to a time where Truth is still pure, undiluted, free, and its movements not restricted by human logic and facts of the physical world.
    Shree Hanuman Chalisa brings us closer to the mysteries and myths of life. It is the acceptance of life as it is. Here, doubts are no longer entertained. There is no attempt to demystify life, for the mysterious can never ever be demystified.
    In this life-changing book, Lord Hanuman is extolled as the most successful spiritual Chief Executive Officer (CEO) of all times. One may ask, what is so mysterious about that? There is no dearth of successful CEOs in the world. And, spiritual beings are not scarce either. So, what is so special about Hanuman?
  • Deshbhakat Bane
    Jagat Ram Arya
    140 126

    Item Code: #KGP-9249

    Availability: In stock

    हम अपने सुंदर देश को दिल से प्यार करते हैं। इसके बीते हुए दिन, इसकी पुरानी शान भी हमें प्यारी है। इसके दुःख हमारे दुःख हैं। इसका दर्द हमारा अपना दर्द है। जैसे हम अपने जीवन वृक्ष को फलता-फूलता देखना चाहते हैं वैसे ही हम कामना करते हैं कि हमारा देश भी फले और फूले।
    इसके लिए हम अपना तन-मन-धन बलिदान करने को तैयार हैं। हमने भारतमाता की सहनशीलता को देखकर क्षमा करने की प्रेरणा ली है। हम केवल इसे प्रेम ही नहीं करते अपितु हर क्षेत्र में इसकी उन्नति के लिए कंधा भी लगाएंगे। हमारे शरीर की रग-रग में रक्त का एक-एक कण इसी मातृभूमि की नदियों का दिया हुआ रस है और इसके खेतों में उपजे हुए अनाजों से हमारा शरीर बलवान बना है। यह हमारी जन्मदायिनी मां है। यही हमारा भगवान है। हम इसके चरणों में अपना सिर झुकाते हें। इसका प्यार पाने के लिए हम इसकी वंदना करते हैं और दिन-रात पवित्र मन से इसी का स्मरण करते हैं। भारत माता की जय हो।
  • The Change Maker (Paperback)
    Subhash Chandra Agrawal
    325

    Item Code: #KGP-327

    Availability: In stock

    A New Smart Democratic Venture
    To Mahatma Gandhi goes the credit of starting Non-Violent political movements; to Justice Bhagwati goes the credit of starting Public Interest Litigation, and now comes Subhash Agrawal who brings about changes by writing letters—a very unusual method which has resulted in significant successes in various areas, apart from winning him awards.
    Here is a method which can be followed and used by others, and perhaps a regular movement can be organized for better results. We present the first ever study of this new smart democratic venture.

    A Few of positive responses on Subhash's RTI Petitions:
    Wealth-declaration by judges: Bill in Parliament to be introduced.
    - Foreign trips of Judges: Restrictions now imposed by Union Government.
    - Immunity against retired judges: CBI and Income Tax authorities initiate enquiries.
    - Cases against retired judges: CBI and Income Tax authorities initiate enquiries.
    - Conduct-code for judges: Bill in Parliament to be introduced.
    - Disciplinary Authority for Judges: Bill in Parliament to be introduced.
    - Twisting RTI Act by rules framed by Delhi High Court: RTI rules at Delhi High Court get revised.
    - File-notings: Accepted by DoPT being under purview of RTI Act.
    - Wealth-declaration by Union Ministers: Disclosed by Rajya Sabha Secretariat.
    - Padma panel ignoring Olympics heroes: Authorities accept big lapse.
    - Not following deadline for Padma-awards nominations: 20th November now being strictly followed.
    - Flouting norms for issuing commemorative postal stamps: No violation reported after RTI petition.
    - Fees structure at private universities: UGC to regulate fees-structure at private universities.
    - RTI fees in various names: DoPT issues circular for uniform payee-name “Accounts Officer”- Merger of public sector oil-companies: Aspect gets momentum.
  • Nihatthi Raat Mein
    Indira Mishra
    150 135

    Item Code: #KGP-9134

    Availability: In stock


  • Hamara Kshitij
    Sudhakar Adib
    180 162

    Item Code: #KGP-7841

    Availability: In stock


  • Nadi Phir Laut Aaee
    Rajjan Trivedi
    90 81

    Item Code: #KGP-2015

    Availability: In stock

    उपन्यास
  • Basant Bayar
    Nisha Bhargva
    200 180

    Item Code: #KGP-1807

    Availability: In stock

    कहानी साहित्य की एक सशक्त विधा है। नवरसों को संजोए ये कहानियां पाठक के मन को हलराती-दुलराती, हंसाती, रुलाती, गुदगुदाती और स्पंदित करती हैं । आसपास की विसंगतियों को रेखांकित करती, दलदल में भी जीवन के पद और सूत्र ढ़ूंढ लेती है । विभिन्न जीवन दशाओं के उकेरती, जीने की सही दिशा देती हैं । कहानी कहना भी एक कला है ।
    हंसाना एक कला है । जो हंसा सकता है, उसमें रुलाने की भी भरपूर ताकत होती है। आँसू, भावनाओं का सिंचन करते है । रचना के लिए भावों का सिंचन आवश्यक है । इसलिए तो मनुष्य जीवन में हंसने-हंसाने के साथ रोने-रुलाने का भी महत्व है।
    निशा भार्गव को कहानियां, मानो हंसाते-हंसाते रुला देती हैं । जीवन की विसंगतियों पर हंसाती, जीवन का सत्य बखान कर जाती हैं । 'बसंत बयार' संग्रह की कहानियां निशा भार्गव के दादी बनने को उम्र में भले ही प्रकाशित हो रही हैं, लेखिका की उम्र के विभिन्न पड़ावों पर उसे ही उद्वेलित, रोमांचित और सुखाश्चर्य से भरती रहीं हैं । आसपास में बिखरे, टूटते-बिखरते-जुड़ते पारिवारिक ताने-बानों की ये कहानियां हैं। संग्रह को यही विशेषता है।
    एक-एक कुटुम्ब (परिवार) को दुरुस्त करके ही पुन: "वसुधैव-कुंटुम्बकम्" का भारतीय सनातन आदर्श सार्थक होया।  ये कहानियां कुछ ऐसा ही प्रयास करती दिखती हैं। निशा भार्गव की उनकी अर्थवान कहानियां और लेखकीय ईमानदार प्रयास के लिए बधाइयाँ । पाठकों से अपेक्षा है कि वे पढे, गुने और पन्नों पर बिखरे जीवन जोड़ने वाले तत्वों को सहेज लें ।
  • Hindustan Aur Pakistan Ki Behatreen Urdu Haasya-Vyang Shaaeree
    T.N. Raj
    395 356

    Item Code: #kgp-1910

    Availability: In stock

    उर्दू ज़बान अपनी शीरीनी, लताफ़त और नज़ाकत के सबब सदियों से लोगों के दिलों पर राज कर रही है। उर्दू शायरी ख़ास तौर पर ग़ज़ल लिखने, पढ़ने, सुनाने या गाने वाला शख्स हमें कहीं न कहीं मिल ही जाता है । मीर, ग़ालिब, इकबाल, दाग, फ़ैज, फ़िराक़, जिगर और साहिर वग़ैरा की शायरी का जादू हमेशा बरकरार रहेगा । यह मानने में कोई हरज नहीं कि उर्दू की संजीदा शायरी के मुकाबले में अभी हास्य व्यंग्य कविता में बहुत-सी गुंजाइशें बाक़ी हैं । जहाँ तक उर्दू नस्र (गद्य) में हास्य-व्यंग्य का तआल्लुक है यह बात पूरे यकीन से कही जा सकती है कि इसमें अनमोल हीरों और मोतियों की कोई कमी नहीं ।
  • Is Khirki Se
    Ramesh Chandra Shah
    425 383

    Item Code: #KGP-711

    Availability: In stock

    इस खिड़की से
    ‘इस खिड़की से’...यानी ‘अकेला मेला’ के ही नैरंतर्य में एक और मेला, एक और समय-संवादी आलाप...जो एकालाप भी है, संलाप भी, मंच भी, नेपथ्य भी...
    ‘अकेला मेला’ देखते-सुनते-गुनते...कुछ प्रतिध्वनियाँ ...कतिपय पाठक-समीक्षक मंचों से...अब इस खिड़की से जो दिखाई-सुनाई देने वाला है--मानो उसी की अगवानी में।
    ०० 
    डायरी-लेखन को साहित्य का गोपन कक्ष कहना अतिशयोक्ति न होगी।...काफ्का, वाल्टर बेन्यामिन जैसे कई लेखकों ने डायरी विधा के अंतर्गत श्रेष्ठ लेखन किया। मलयज या निर्मल वर्मा की डायरी उनके समस्त लेखन को समझने का उचित परिप्रेक्ष्य देती है। डायरी- लेखन की इसी परंपरा में नई प्रविष्टि है रमेशचन्द्र शाह की डायरी ‘अकेला मेला’। इस डायरी की सबसे बड़ी खूबी यह है कि लेखक में कहीं भी दूसरों को बिदका देने वाली आत्मलिप्तता नहीं। 
    --हिंदुस्तान 
    शाह केवल डायरी नहीं लिखते, वे अपने समय से संवाद करते दिखाई देते हैं। उनकी डायरी की इबारतें ऐसी हैं कि एक उज्ज्वल, संस्कारी अंतरंगता मन को छूती हुई महसूस होती है।...यह डायरी एक ऐसा ‘ग्लोब’ भी बनकर सामने आती है, जो मनुष्य की बनाई सरहदों को तोड़ती हुई शब्द-सत्ता का संसार रचती है, जिसमें दुनिया के महान् रचनाकारों की मौजूदगी को भी परखा जा सकता है। डायरी में शाह ने अपने विषय में अपेक्षाकृत कम लिखा है, लेकिन जितना लिखा है, वह एक विनम्र लेखक की शाइस्ता जीवन-शैली की ही अभिव्यक्ति है।
    --कादम्बिनी
    एक अकेला लेखक कितनी तरह के लोगों के मेले में एक साथ! कितनी विधाओं और कृतियों में एक साथ!...और कितनी आत्म-यंत्रणाओं और मंत्रणाओं में एक साथ!
    --जनसत्ता
  • Soochana Ka Adhikaar (Paperback)
    Vishv Nath Gupta
    70

    Item Code: #KGP-1438

    Availability: In stock


  • Spandan
    Shravan Kumar
    50 45

    Item Code: #KGP-9229

    Availability: In stock

    गुटपरस्ती, खेमेबाजी से दूर श्रवणकुमार की कहानियों ने अपनी अलग पहचान बनाई है। निस्संगता उनकी विशिष्टता है। वे एकांगी होकर जीवन को नहीं देखती; वे उसे उसकी समग्रता में देखती हैं। वे नारे नहीं उछालतीं, वे जीवन के मार्ग को पकड़ने की कोशिश करती हैं। ठोस धरातल पर चलना उन्हें अधिक प्रिय है। हालांकि कभी-कभी वे आध्यात्मिकता की तरफ भी अग्रसर होती दिखती हैं। दरअसल, वे जीवन को चहुंमुखी होकर देखती हैं। इसीलिए उनका अनुभव-क्षेत्र काफी विस्तृत है। उनकी दूसरी विशिष्टता उनकी सहजता है। बनावटीपन उनसे कोसों दूर है। यह सहजता कहानी की भाषा में भी है और उसकी बनावट में भी।
    जीवन से गहन रूप से जुड़ी होने के कारण ये कहानियां बार-बार पढ़े जाने की अपेक्षा रखती हैं। 
  • Paani Kera Budbudaa
    Susham Bedi
    300 270

    Item Code: #KGP-9310

    Availability: In stock

    ‘यही कहानी थी पिया की? यह कथन है या सवाल? नहीं, कथन नहीं हो सकता। ऐसे खत्म नहीं हो सकती यह कहानी! ...शायद जिंदगी का सच यही है। कुछ भी नहीं है वहां पर हम बहुत कुछ भरकर उसी को सच मान बैठते हैं। ...पिया के मन में विरक्ति-सी हुई। सच क्या हस्ती है हमारी? कबीर के ही लफ्जों में पानी के बुलबुले जैसी!’ ये पंक्तियां ‘पानी केरा बुदबुदा’ उपन्यास का सारांश सरीखी हैं। सुप्रसिद्ध लेखिका सुषम बेदी का यह नवीनतम उपन्यास—जीवन, प्रेम, विवाह, सुख, विराग आदि शब्दों को समकालीन संदर्भ देते हुए लिखा गया है। उपन्यास विदेशी पृष्ठभूमि में लिखा गया है, लेकिन इसकी बेचैनियां सार्वदेशिक हैं।
    पिया इस उपन्यास का केंद्रीय चरित्र है। उसका वैवाहिक जीवन, विवाह विच्छेद, तलाक के बाद प्रेम को फिर विवाह में बदलने की आकांक्षा, पुत्र और उसका पारिवारिक परिदृश्य—ऐसी अनेक बातों से मिलकर इस उपन्यास की कथावस्तु निर्मित हुई है। इस निर्मिति में निशांत, अनुराग, दामोदर, रोहन आदि बहुत दिलचस्प तरीके से शामिल हैं। पिया के लिए सेक्स कोई दुराग्रह नहीं है, पर वह ‘साथ’ चाहती है। विवाह इसीलिए उसे आश्वस्त और आकर्षित करता है। लेकिन नियति या मानव स्वभाव का निर्णय कुछ दूसरा है।
    सुषम बेदी कथानक को गतिशील रखते हुए जीवन की मूलभूत चिंताओं पर बात करती हैं। स्वाभाविक रूप से स्त्री-विमर्श भी आता है। पिया के बारे में लेखिका का कथन है, ‘अनुराग ने उसके फूलों की गुलाबी रंगत ही देखी थी। पर वहां खून के थक्के भी जमे हुए थे।’ ऐसी जाने कितनी विडंबनाएं इस उपन्यास को स्त्री-जीवन का मार्मिक दस्तावेज बना देती हैं। सुषम बेदी का लंबा जीवनानुभव और जनमनोविज्ञान समझने का ढंग भाषा के अनूठे स्वरूप में व्यक्त हुआ है। बेहद पठनीय और विचारोत्तेजक उपन्यास। 
  • Ek Yug Ke Baad
    Pushpa Rahi
    40 36

    Item Code: #KGP-1891

    Availability: In stock

    एक युग के बाद
    पुष्पा राही के गीतों में सुख-दुःख, आशा-निराशा, अन्धकार-प्रकाश, संयोग-वियोग, व्यथा-वेदना, मिथ्या मोह, दम्भ, पाखंड सबका वर्णन मिलता है । कुछ गीत इतने मार्मिक और हृदयस्पर्शी हैं कि उन्हें पढते समय जीवन के अनेक तथ्य नेत्रों के सामने उदघाटित होने लगते है ।
    इन गीतो की एक विशेषता है नूतन बिम्बों का निर्माण । दर्द के मोती, रेशमी सुख, शोर की कालिख, उलझनों का झाड, नींद की कमजोर आँखे, विषमताएं रोग-सी, अंधेरे दर्द के साए, मीठी-मीठी इच्छा आदि प्रयोग गीत को संवेदन के स्तर पर बहुत मार्मिक बना देते हैं । कवयित्री अपनी अनुभूतियों और परिवेश की हलचल को ही लिखना चाहती है । दूसरों से उधार लेकर कुछ भी कहने में उसकी रुचि नहीं है ।
    एक युग के बाद में संकलित गीत उच्चस्तरीय होने के साथ काव्य की भावभूमि पर अपनी छाप छोड़ते है । कोहरेभरे प्रभात से निकालकर चन्दन वन की शीतल छाया में हमें भ्रमण का अवसर देते हैं । प्यार के वृत्त में घुमते हुए हम सन्नाटे के पार पहुँच जाते है ।
  • Safar Baavajood
    Sidhesh
    140 126

    Item Code: #KGP-1947

    Availability: In stock

    सफर बावजूद
    सिद्धेश की कहानियाँ कहानी-आंदोलन के उस दौर की उपज  हैं, जब कहानी में कलावाद की यथार्थवाद का संघर्ष चल रहा था । गुटबाजी, शिबिरबद्धता चरम पर थी । सिद्धेश  को यह शोर-शराबा पसंद न था । वे मौन भाव से सृजनरत थे । तटस्थ बने रहने का खामियाजा यद्यपि उन्हें भुगतना पडा । उनकी कहानियां फॉर्मूलाबद्ध लेखन तथा किताबी नुस्खों से मुक्त हैं । सिद्धेश ने कहानियों में शिल्पगत चमत्कार, भाषा की पच्चीकारी की जगह सहजता को महत्त्व दिया है । वे मुख्यत: नागर-मानसिकता के कहानीकार हैं, पर उनकी कहानियां सामाजिक सरोकारों से प्रतिबद्ध हैं।
    संग्रह की इन कहानियों से विषयवस्तु की विविधता के साथ ही मानवीय दृष्टि और संवेदना का विस्तार है । ये कहानियाँ अपने समय और परिवेश के स्पंदनों को पहचानने की कोशिश करती हैं । मानव-मन की सूक्ष्म परख की कला  में माहिर हैं सिद्धेश । वे विचारधारा से अधिक मनुष्य और उसकी संवेदनाओं को महत्व देते हैं। उनके अनुसार, "संवेदना के स्रोत में बहने के लिए अपने चारों तरफ के परिवेश, चरित्रों और घटनाओं के प्रति सजग दृष्टि रखनी पडती है ।" सृजन को सिद्धेश 'जीने के मकसद' से जोड़कर देखते  । संघर्षों, अभावों से जूझते हुए ही उन्होंने अपनी रचना-दृष्टि अजित की है।
    सहजता और सार्वज़निकता इन कहानियों का वैशिष्ट्य है। कहानी का रूप-गठन और रचना-विधान कुछ इस तरह है कि आधुनिक नागरिक जीवन के अनेक अनछुए तथा मार्मिक प्रसंगों का मनोवैज्ञानिक चित्रण बिना किसी अतिरंजना के यहाँ चित्रित हुआ है ।
  • Raashtra Aur Musalman
    Nasera Sharma
    350 315

    Item Code: #KGP-172

    Availability: In stock

    समय की छाती पर खड़ा मुसलमान आज अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर चर्चा का महत्त्वपूर्ण मुद्दा बन चुका है। ‘मुसलमानों’ को लेकर इतना कुछ कहा जा रहा है कि स्वयं मुसलमान भी इस चर्चित मुसलमान के बारे में नई-नई सूचनाएं सुनने की जिज्ञासा रोक नहीं पाता है।
    वह क्या है? वह कौन था? उसका भविष्य क्या होगा? इस विषय पर वार्तालाप के द्वारा अनेक नए-नए नजरिए, खबरें और ऐतिहासिक पृष्ठीाूमि की पर्तें रोज सामने लाई जा रही हैं। बहुत कुछ छप रहा है।
    इस किताब में मुसलमान एक आम आदमी की तरह अपनी खूबी और कमजोरी के साथ मौजूद है। वह स्वयं अपनी बात कहने में सक्षम हे, इसलिए वह किसी बड़े नाम के सहारे या धार्मिक नेताओं के बल पर आगे नहीं बढ़ता है। 
    जो सच है, वह सामने है। उसको स्वीकार करना या न करना पढ़ने वालों की अपनी दृष्टि एवं सामाजिक अवलोकन पर निर्भर है। 
  • Sampurna Upnanayas : Himanshu Joshi ( 2Vols.)
    Himanshu Joshi
    2100 1365

    Item Code: #KGP-SUHJ HB

    Availability: In stock

    संपूर्ण उपन्यास: हिमांशु जोशी का संपादन दो भागों में चर्चित कथाकार और आलोचक महेश दर्पण ने किया है। उन्होंने सन् 1965 में प्रकाशित हिमांशु जोशी के पहले उपन्यास से लेकर सन् 1980 में प्रकाशित तीन लघु उपन्यासों तक की रचनाओं को दो खंडों में विभाजित किया है। पहले खंड में ‘अरण्य’, ‘महासागर’, ‘छाया मत छूना मन’ और ‘कगार की आग’ को एक साथ प्रस्तुत किया गया है। दूसरा खंड पांच उपन्यास लिए है-‘समय साक्षी है’, ‘तुम्हारे लिए’, ‘सुराज’, ‘अंधेरा और’ तथा ‘कांछा’। यह कहना अनिवार्य है कि ‘संपूर्ण उपन्यास: हिमांशु जोशी’ पढ़ते हुए पाठक आजादी के बाद के भारत की धड़कती हुई। तस्वीर से साक्षात्कार कर सकेंगे। 
  • Premchand Ki Shresth Kahaniyan
    Premchand
    150 135

    Item Code: #KGP-7801

    Availability: In stock

    यद्यपि प्रेमचंद ने नाटक, जीवनी, अनुवाद, निबंध तथा बाल-साहित्य की रचना भी की किंतु उनकी अक्षय कीर्ति का आधर उनके उपन्यास और कहानियां ही हैं। सेवासदन, प्रेमाश्रम, रंगभूति, काया-कल्प, गबन, कर्मभूमि तथा गोदान जैसे प्रसिद्ध उपन्यासों एवं प्रायः तीन सौ कहानियों की रचना कर अपने को अमर करने वाले प्रेमचंद की गुल्ली-डंडा, नमक का दारोगा, प्रेरणा, दो बैलों की कथा, मंदिर, ईश्वरीय न्याय, सवा सेर गेहूं, रामलीला, पूस की रात, महातीर्थ, जुलूस, पशु से मनुष्य, दुस्साहस, आत्माराम, नशा, गृह-दाह आदि लोकप्रिय कहानियां हैं। प्रेमचंद ने अपने समय और समाज के ज्वलंन प्रश्नों को अपनी कहानियों के माध्यम से चित्रित किया है। ग्रामीण जीवन-परिवेश और पात्रों का इतना जीवंत चित्रण करने वाला कथाकार हिंदी में तो क्या अन्य भारतीय भाषाओं में भी कदाचित् ही कोई हुआ हो। यही कारण है कि वे उस समय के सर्वप्रमुख भारतीय कथाकार हैं। विद्वानों ने बीसवीं शती के विश्व-साहितय के तीन बड़े शीर्ष कथाकारों में प्रेमचंद की गणना की है।
  • Uski Bhee Suno
    Bharti Gore
    320 288

    Item Code: #KGP-471

    Availability: In stock

    ‘उसकी भी सुनो’ पुस्तक की कहानियां सामाजिक रूढ़ियों, पुरुष-प्रधान व्यवस्था पर प्रश्नचिन्ह लगाती हैं। इसमें समाज के सभी तबकों की स्त्रिायों की समस्याओं का गंभीर विवेचन है। सफेदपोश समाज में जीती स्त्री, बाहर से अमीर और सुखासीन लगने वाली स्त्री की अस्तित्वहीन स्थिति के साथ-साथ दलित और आदिवासी स्त्री के सदैव उपेक्षित अस्तित्व की चर्चा है। इन कहानियों की नायिकाओं की विशेषता यह है कि वे कभी हार नहीं मानतीं।
    प्रस्तुत पुस्तक की हर कहानी अपने आप में समाज में महिलाओं के प्रति घटने वाली हर घटना को या कहिए हर आयाम को बड़े ही सटीक अंदाज में पेश करती है। साहित्य ने हमेशा से हर आंदोलन को प्रभावित किया है और जन आंदोलनों ने भी हमेशा साहित्य को प्रभावित किया है। चाहे वह आजादी का आंदोलन हो या आजादी के बाद के आंदोलन, साहित्य ने कहानी, कविताओं, गीतों के जरिए हमेशा आम जनता के आंदोलनों को एक बेहतर आवाज दी है। साहित्य के बिना समाज अधूरा है। और अगर साहित्य महिलाओं द्वारा रचा जाए तो उसकी बात ही निराली है।
    धार्मिक उन्माद का शिकार सबसे ज्यादा महिलाएं ही होती हैं। दलित, आदिवासी एवं अल्पसंख्यक महिलाओं के ऊपर तो इनकी दोहरी मार पड़ती है। नारी-मुक्ति की इस मुहिम को समाज के अन्य हिस्सों को साथ लेकर एक नए बदलाव की तरफ बढ़ना होगा। समाज के बदलाव में साहित्य इसी कड़ी में महिलाओं के लिए एक सशक्त रास्ता है।
  • Gulloo Aur Ek Satrangi (Part 4)
    Shrinivas Vats
    300 240

    Item Code: #KGP-9369

    Availability: In stock

    पिछले तीन खंडों पर सुधी पाठकों, विद्वान् समीक्षकों ने ऐसी उत्साहवर्धक बातें कहीं, जिन्हें पढ़-सुनकर मेरा हौसला दुगना बढ़ गया। मैं सहृदयता से उनका आभार प्रकट करता हूँ।
    सतरंगी के सात रंग और उपन्यास के सात खंड। इन सातों खंडों में आपको प्रकाश के सात रंगों की तरह हर बार नया रंग दृष्टिगोचर होगा। जैसे प्रकाश में सात रंग होते हैं वैसे ही साहित्य में नौ रस होते हैं। आप बड़े होकर पढ़ना कि साहित्य के नौ रस कौन से हैं?
    संस्कृत, हिंदी, तमिल, बंगला, मलयालम आदि भाषाओं में रचा गया भारतीय साहित्य इन रसों से भरा हुआ है।
    विष्णु के जीवन में झंझावात तो आते रहे हैं, आगे भी आते रहेंगे। चुलबुला विष्णु उनसे कभी नहीं घबराया, बल्कि हर बार ‘सुपर हीरो’ बनकर उभरा है।
    अंतर्राष्ट्रीय हस्ती होते हुए भी विष्णु को कर्णपुर से बहुत लगाव है। आपकी ही तरह गुल्लू, राधा, विष्णु अपने गाँव, अपने देश को जी-जीन से प्यार करते हैं। सच भी है, भले ही हम चाहे जहाँ रहें अपने प्यारे भारतवर्ष को कभी न भूलें।
    उपन्यास के अगले खंडों में आपको विष्णु के दूसरे अद्भुत साथियों से रूबरू होने का अवसर मिलेगा। तब तक चैथा खंड पढ़ लीजिए। शीघ्र ही शेष खंड भी आपके हाथों में होंगे।

  • Hum Sab Gunahgar
    Mastram Kapoor
    350 315

    Item Code: #KGP-9027

    Availability: In stock

    हम सब गुनहगार
    लीक से हटकर सोचने वालों ने आशा को नहीं, निराशा को कर्म की प्रेरणा कहा है।
    डॉ. लोहिया ने निराश रहकर काम करते जाने को ही सबसे अच्छा कर्तव्य कहा है।
    फ्रांस के प्रसिद्ध लेखक एवं दार्शनिक ज्यांपाल सार्त्र ने भी सर्वोत्तम कर्मशक्ति डिस्पेयर की परिभाषा करते हुए कहा है, ‘दि एक्ट विदाउट होप।’
    ‘मा फलेषु कदाचन’ के कथन द्वारा गीता में भी इस सत्य को ही कहने की कोशिश की गई है...
    वर्तमान निराशा के धुँधलके में भविष्य को खोजने का लघु प्रयास यह पुस्तक स्वातंतत्र्योत्तर भारत की आर्थिक, सामाजिक, राजनीतिक एवं सांस्कृतिक विसंगतियों का भविष्योन्मुख विवेचन है।
  • The Transfer
    Vibhuti Narain Rai
    495 446

    Item Code: #KGP-353

    Availability: In stock

    Despite the growing presence of multinationals and the ongoing emphasis on work-culture in the corporate world, if the first preference of the Indian middle classes continues to be government service even today, it is largely related to the pleasures of irresponsibility, idleness, graft, bribery and other forms of corruption. So in the last six decades since independence, government service has turned into a synonym of all the above vices. This is how transfers and postings among the services have become an ‘industry’ which is thriving and flourishing among us more than many others, from government offices to the bungalows of politicians in power.
    The finer details of this ‘industry’, which only an insider can access, are presented to us by this novel with a satire so trenchant and powerful that we begin to look at our bureaucracy during recent years with something close to despair. A delightful reading as it offers, the reader is compelled to begin asking whither we as a nation are headed.
  • Mere Saakshatkaar : Chitra Mudgal
    Chitra Mudgal
    335 285

    Item Code: #KGP-557

    Availability: In stock


  • Khabar
    Pranav Kumar Bandhopadhyaya
    1150 1035

    Item Code: #KGP-584

    Availability: In stock

    अपने कथ्य को कम शब्दों में रखना वंद्योपाध्याय की विशेषता है। वह अकारण शब्दों को विस्तृत नहीं होने देते। जब वह जगदंबा द्वारा पत्नी पर मार-काट सामने लाते हैं, जबान को बहुत फैलने नहीं देते। कथा में परेशान विनायक सामने आता है। उपन्यास में जब कथा आगे चलती है, अलग किस्म के अनेक पात्र सामने आ जाते हैं। उपन्यास में असंख्य पात्र हैं। इन्हीं से उपन्यास अपना आकार पाता है। कथा के असंख्य चरित्र आते और जाते हैं, और वे फिर आ जाते हैं। विनायक के बाद मुख्य चरित्र है नैना। दूसरे तमाम बिहारीपुर के लोगों के माफिक वह एक औरत है, जो सबसे अलग है। अंत में विनायक का एकदम चले जाना एक विराट् घटना है। हम महसूस करते हैं बिहारीपुर की हंसी अब हलकी हो गई। बस, बिहारीपुर फिर भी इसी तरह चलता रहता है।
    -द टाइम्स ऑफ इंडिया

    उपन्यास की घटनाएं रोचक ढंग से सामने आती हैं। ‘मालगुडी डेज़’ की तरह उपन्यास आगे और पीछे जाता रहता है। उपन्यास के तमाम पात्र अपने-अपने तरीके से सामने तो आते हैं, लेकिन कई बातें एकदम अलग हैं। उपन्यास के प्रत्येक अंश में कई बातें एकदम नहीं होतीं, जिससे कथा एकदम बदल जाती है। दूरदर्शन के धारावाहिक ‘नुक्कड़’ में भी इसी तरह बनती और टूटती है। 
    -इंडियन एक्सप्रेस

    खबर
     की तमाम बातें स्थानीय भाषा और लहजे पर सामने आती हैं। कथा में कुछ लोग तो मेहनतकश हैं, कुछ भंगी हैं, कुछ हैं स्थानीय गुंडे और शराबी। गरीबी की मार लोगों पर इतनी ज्यादा है कि वे चटपटी बातों के अलावा कुछ और देख या सुन नहीं पाते। उपन्यास के पात्र परशुराम वैद्य और मुरारी डॉक्टर अपने हिसाब से काम कर रहे हैं। विनायक के कर्म को छोटा करने के लिए वे जब तब मिलते और सोचते रहते हैं। उपन्यास का मुख्य पात्र विनायक जो एक श्रम संगठन का नेता है और होम्योपैथी का डॉक्टर। कोई ध्यान नहीं देता। विनायक का भद्र आचरण उसे बहुत दूर शायद ले नहीं जाता। वो बिहारीपुर के कौशल्या भवन के बीच अपने परिचय के साथ बहुत कुछ देखता रहता है। लेखक एक शहर के तमाम गरीबों पर अलग-अलग अनुभव प्राप्त करता रहता है। अपने अनुभव से वो देखता है एक नया संसार।
    -संडे

    इस उपन्यास के भीतर असंख्य चरित्र, तमाम घटनाएं और बिहारीपुर के ढेर सारे लोग और उनकी कथाएं हैं। इसके भीतर तमाम लोग किसी न किसी बहाने कथा में आते रहते हैं। कथा के बीच विद्यानिवास तिवारी जो एक प्राथमिक स्कूल का शिक्षक है और संभवतः एक ज्योतिषी भी। पात्र की बेटी जानकी एक शराबी के प्रेम में डूब जाती है। वह एक पहलवान भी है। नाम है लुक्का। जिस पर कोई न कोई जुड़ा हुआ है। उसमें कोई गांजे का दम भरता है। साथ हैं भोलानाथ गिरी। आगे है नौरंगीलाल अपने ढंग से चलने वाला ‘एडवोकेट साहिब’, जो एक जिले की कचहरी में एक छोटा-मोटा क्लर्क-भर है, जिसकी तमाम बातें घड़ी के पेंडुलम की तरह हिलती रहती हैं। इसका एक केंद्रीय चरित्र विनायक तमाम पात्रों और घटनाओं को देखता रहता है। और उसके बाद आती है नैना, मेम के चरित्र में जो उपन्यास को अपने ढंग से गढ़ती और तोड़ती रहती है। यह उपन्यास अलग-अलग घटनाओं को जिस प्रकार संजोता है वो एक अभूतपूर्व अनुभव है।           
    -इंडियन रिव्यू ऑफ बुक्स

  • Swarajya
    Rajendra Mohan Bhatnagar
    600 510

    Item Code: #KGP-626

    Availability: In stock

    स्वराज्य
    'स्वराज्य' डॉ० राजेन्द्र मोहन भटनागर का नवीनतम उपन्यास है, जो 1942 की क्रांति पर आधारित है । तब गांधी जी ने अंग्रेजो से कहा था कि 'भारत छोडो' और इसके लिए जनता से अपील की थी, 'करो या मरो' ।
    गांधी जी और उनके साथियों को तत्कालीन सरकार ने नज़रबंद कर दिया था अथवा कारागार में डाल दिया था । जयप्रकाश नारायण, डॉ० लोहिया, अरुणा आसफअली जैसे युवा नेता भूमिगत हो गए थे ।
    प्राय: जनता नेताविहीन थी, लेकिन उसके अंत:करण में 'करो या मरो' का मंत्र अनुगूँज रहा था । वह उससे अनुप्रेरित होकर दुर्द्धर्ष संघर्ष कर रही थी । उसने अनेक स्थानों की बागडोर स्वयं संभाल लो थी । यथार्थतः तब देश जनक्रांति के दौर से गुजर रहा था। 
    अनेक अनाम व्यक्तियों के हाथ में उस क्रांति का संचालन था । उसे उन्होंने अपनी शैली, मुद्रा और अदा से संपन्न किया था । इस उपन्यास में उनको लेकर ताना-बाना बुना गया है और उनकी लडाई को पेश किया गया है तत्कालीन ऐतिहासिक संदर्भों में । फलत: अनेक भूले-बिसरे चित्र जीवंत हो उठे हैं और अनेक प्रसंग सजीव । 
    दरअसल वह लडाई किसानो, विद्यार्थियों, डॉक्टरों, वकीलों, मज़दूरों, नौकरीपेशा परिवार के लोगों ने लडी थी । कैसे? इसी के लिए यह उपन्यास है ।
  • Malviya Ji Ke Sapnon Ka Bharat
    Ishwar Prasad Verma
    395 356

    Item Code: #KGP-612

    Availability: In stock

    मैं मनुष्यता का पुजारी हूं। मनष्यत्व के आगे मैं जात-पांत नहीं जानता। कानपुर में जो दंगा हुआ, उसके लिए हिंदू या मुसलमान इनमें से एक ही जाति जवाबदेह नहीं है। जवाबदेही दोनोंजातियों पर समान है। मेरा आपसे आग्रहपूर्वक कहना है कि ऐसी प्रतिज्ञा कीजिए, अब भविष्य में अपने भाइयों से ऐसा युद्ध नहीं करेंगे, वृद्ध, बालक और स्त्रियों पर हाथ नहीं छोड़ेंगे। मंदिर अथवा मस्जिद नष्ट करने से धर्म की श्रेष्ठता नहीं बढ़ती। ऐसे दुष्कर्मों से परमेश्वर प्रसन्न नहीं होता। आज आप लोगों ने आपस में लड़कर जो अत्याचार किए हैं, उसका जवाब आपको ईश्वर के सामने देना होगा। हिंदू और मुसलमान इन दोनों में जब तक प्रेम-भाव नहीं उत्पन्न होगा, तब तक किसी का भी कल्याण नहीं होगा। एक-दूसरे के अपराध भूल जाइए और एक-दूसरे को क्षमा कीजिए। एक-दूसरे के प्रति सद्भाव और विश्वास बढ़ाइए। गरीबों की सेवा कीजिए, उनको प्रेम से आलिंगन कीजिए और अपने कृत्यों का पश्चात्ताप कीजिए। 
  • Aazaadi Mubarak
    Kamleshwar
    290 261

    Item Code: #KGP-41

    Availability: In stock

    आजादी मुबारक
    मैंने देखा है कि कमलेश्वर ने कभी भी किसी 'डॉग्मा' से चालित होकर लिखना स्वीकार नहीं किया । कमलेश्वर की हर कहानी उसके जीवनानुभवों से निकली है । कमलेश्वर ने पढ़-पढ़कर संक्रांति के नहीं झेला है, बल्कि स्वय जिया है... उसकी शायद ही कोई ऐसी कहानी हो, जिसके सूत्र जिंदगी में न हों, क्योंकि वह बहुत खूबी से अपने समय के अंतर्विरोधों को पकड़ता है...  मुझे बहुत-सी वे घटनाएँ, लोग, स्थितियाँ, विचार, संदर्भ आदि याद है, जिन्होंने उसकी सशक्त  कहानियों को जन्म दिया है । कमलेश्वर इस मामले में एक बंजारा है, क्योंकि वह अनवरत यात्रा पर रहता है उसकी कहानियाँ मध्यवर्गीय जीवन की सादगी है शुरू होकर आधुनिकतम संचेतनाओँ और संश्लिष्टताओं का प्रतिनिधित्व करती है...  उसका स्टैमिना परिवर्तन की तेज से तेज रफ्तार में उसका सहायक होता है, इसीलिए वह कभी पिछड़ता नहीं और न प्रयत्न-शिथिल होता है...  और मैं कहना चाहूँगा कि यह कोई साधारण बात नहीं कि एक कलाकार अपनी भावभूमियों पर परिश्रमपूर्वक तैयार की गई अपनी निर्मितियों को इतनी निर्ममता से तोड़कर अलग हो जाए और नए सफल प्रयोग करने लगे । -दुष्यंत कुमार (सन् 1 966)

    कमलेश्वर की कहानियों का यहीं सच है । तमाम क्था आंदोलन  आए और गए, उनके साथ और उनके बाद भी कमलेश्वर ने अपनी निर्मिंतियों को विलक्षण रचनात्मक निर्ममता से तोड़ा से । उसी प्रयोगधर्मिता का उदाहरण हैँ-'आजादी मुबारक' संकलन की यह कहानियां
  • Shivaji Banaam Sewak
    Indresen Sharma
    100

    Item Code: #KGP-1259

    Availability: In stock

    शिवाजी बनाम सेवक

    पिता की मुक्ति
    दादा कोंडदेव शिवाजी के साथ उनकी हर विजय में थे, मानो उनका आशीर्वाद ही विजय के रूप में रंग ला रहा था। पर वह समय भी आया, जब शिवाजी को स्वराज्य-प्राप्ति तक मार्गदर्शन करने का वचन देकर भी दादा कोंडदेव बीच में ही चले गए। उनका शरीर पंचतत्त्वों में मिल गया। उनके बालराजे शिवाजी को लगा, नौका का खेवनहार चला गया, नौका बीच नदी में छोड़कर। अब खेवनहार उन्हें स्वयं बनना था और दादा कोंडदेव के इस अरमान को पूरा करना था, जो वह अंतिम समय उनसे कह गए थे ‘दासता की बेड़ियां तुम्हें ही तोड़नी हैं बालराजे और सिंहगढ़ को किसी तरह अपने ही अधिकार में रखना है।’
    शिवाजी के कंधों पर एक बहुत बड़ी जिम्मेदारी आ पड़ी थी, सिंहगढ़ को बचाने की। इससे पहले कि सिंहगढ़ का नया सूबेदार रहीम मुहम्मद अपनी सुबेदारी को ठीक से हाथ में लेता, शिवाजी ने सिंहगढ़ को अपने अधिकार में ले लिया। एक ओर शिवाजी इस विजय के उल्लास में थे तो दूसरी ओर एक और बड़ी विपत्ति उनके सामने आ गई। उनके पिता शाहजी को आदिलशाह द्वारा बंदी बना लिया गया था।
    शिवाजी का मस्तिष्क! चालों का खजाना। पिता को मुक्त कराने के लिए भी वह चाल सोचने लगे। एक चाल हाथ लगी। दिल्ली दरबार में एक संदेशवाहक भेजा ‘हम और हमारे पिता शाहजी दिल्ली सम्राट् की सेवा के इच्छुक हैं, पर पिता बंदी हैं बीजापुर शाह के। उन्हें मुक्ति मिल तो आपकी सेवा में हाजिर हों।’
    चाल ने असर दिखाया। शाहजी तुरंत मुक्त कर दिए गए। इस प्रकार अपनी चाल से पिता को मुक्त कराकर शिवाजी ने एक और किला जीत लिया।
    —इस पुस्तक की ‘पिता की मुक्ति’ कहानी
  • Agyey Sahachar
    Vishwanath Prasad Tiwari
    695 626

    Item Code: #KGP-1940

    Availability: In stock

    अज्ञेय सहचर
    छायावादोत्तर हिंदी साहित्य में अज्ञेय का व्यक्तित्व एक स्वाधीन चिंतक और प्रयोगधर्मी रचनाकार के रूप में अद्वितीय है। इस संदर्भ में एक-दो लेखक ही उनकी पंक्ति में बैठते हैं। उनकी सर्जनात्मक प्रयोगशीलता और नवीनता तथा अनेक कलाओं में उनकी दक्षता को देखते हुए उन्हें हिंदी का ‘रवींद्रनाथ’ कहना उपयुक्त है। अज्ञेय ने हिंदी साहित्य की लगभग सभी विधाओं (कविता, उपन्यास, कहानी, नाटक, निबंध, संस्मरण, यात्रावृत्त, आलोचना और अन्य लघु विधाएँ) को अपनी प्रतिभा से समृद्ध किया है। कुछ नवीन गद्य विधाओं को जन्म देने का श्रेय भी उन्हें है, जिन्हें उन्होंने ‘अंतःप्रक्रिया’, ‘लॉग बुक’ और ‘टीप’ आदि कहा है। ये ‘डायरी’ विधा के निकट हैं, मगर उनसे भिन्न और नवीन। इस प्रसंग में मुझे यह भी कहना चाहिए कि हिंदी की साहित्यिक भाषा को जितने नए शब्द अज्ञेय ने दिए हैं, उनके किसी समकालीन लेखक ने नहीं दिए। यह एक ऐसा रेखांकित करने योग्य कार्य है, जिसे कोई महान् लेखक ही कर पाता है। वस्तुतः अज्ञेय हिंदी के एक युग-प्रवर्तक साहित्यकार हैं। उन्होंने अनेक रूपों में छायावादोत्तर हिंदी साहित्य की मुख्यधारा को प्रभावित किया है तथा उसे नई दिशाओं की ओर प्रेरित और संचालित भी किया है।
    अज्ञेय का जितना बड़ा योगदान रचना और चिंतन के क्षेत्र में है, उतना ही या उससे थोड़़ा ही कम हिंदी पत्रकारिता को समृद्ध करने और अपने समय में एक साहित्यिक वातावरण निर्मित करने वाले व्यक्तित्वसंपन्न लेखक के रूप में। उन्होंने न केवल स्वयं लिखा, बल्कि प्रतिभावान लेखकों की एक पूरी पीढ़ी को मंच देने और सामने लाने का प्रयास किया। 
    आज हिंदी के एक बड़े और वास्तविक पाठक-वर्ग में अज्ञेय प्रतिष्ठित हैं और उन पर लिखा भी कम नहीं गया है, जिसका प्रमाण है यह पुस्तक।
  • Aalochana Ka Naya Paath
    Gopeshwar Singh
    425 319

    Item Code: #KGP-757

    Availability: In stock

    आलोचना का नया पाठ-नई पीढ़ी के गंभीर और दृष्टिसंपन्न आलोचक गोपेश्वर सिंह की नई आलोचना पुस्तक है। इसके जरिए लेखक हिंदी आलोचना के पुराने पाठ को न सिर्फ नए पाठ में बदलने का आलोचनात्मक संघर्ष करता है, बल्कि उसकी नई भूमिका की जमीन भी तैयार करता है। पठनीयता के गुणों से युक्त साहित्य में पाठक की दिलचस्पी पैदा करने वाली यह आलोचना पुस्तक हिंदी आलोचना में आते नए बदलाव का सुंदर और श्रेष्ठ उदाहरण है।
    गोपेश्वर सिंह की रुचि एकांगी नहीं। उनकी आलोचनात्मक पहुँच समग्रतावादी है। मध्य काल से लेकर आधुनिक काल तक, कथा-साहित्य से लेकर कविता तक तथा साहित्य से लेकर समाज तक सभी इनकी रुचि के क्षेत्रा हैं। ऐसे समय में जब आलोचना में गतिरोध का शोर मचाया जा रहा है और जब आलोचक किसी खास विधा या काल तक सीमित होते जा रहे हैं, तब गोपेश्वर सिंह जैसे बहुआयामी सोच वाले नए और गंभीर आलोचक की उपस्थिति आश्वस्त करती है कि आलोचना में गतिरोध का प्रश्न बेमानी है।
    हिंदी आलोचना को प्रगतिवाद और आधुनिकतावाद के शीतयुद्धकालीन दुराग्रही प्रत्ययों की छाया से बाहर निकालना गोपेश्वर सिंह के आलोचनात्मक लेखन की मूल प्रतिज्ञा है। इसलिए यथार्थवाद या रूपवाद जैसे पदों और पक्षों से वे आलोचना को मुक्त करते हैं और उसे नए विमर्शों की रोशनी में ले जाते हैं, लेकिन विमर्शों की अतिरेकी परिणति से उसे बचाते भी हैं।
    ‘आलोचना का नया पाठ’--शीर्षक यह पुस्तक सैद्धांतिकियों के आतंक से मुक्त व्यावहारिक आलोचना का ऐसा पाठ है, जो--भाषा, दृष्टि और शैली--हर तरह से नया है।
  • Toro Kara Toro-6 (Paperback)
    Narendra Kohli
    400 340

    Item Code: #KGP-428

    Availability: In stock


  • Mere Saakshatkaar : Maitreyi Pushpa
    Maitreyi Pushpa
    275 248

    Item Code: #KGP-312

    Availability: In stock

    मेरे साक्षात्कार : मैत्रेयी पुष्पा

    मैत्रेयी पुष्पा हिंदी की विशिष्ट लेखिका हैं। ऐसी विशिष्टजिन्होंने स्त्री-जीवन के सामान्य सुख-दुःख को अपनी रचना के केंद्र में स्थान दिया है। मैत्रेयी को यह श्रेय भी है कि आदि-इत्यादिकी कोटि से स्त्री-प्रश्नों को उन्होंने बाहर निकाला है। समकालीन साहित्य और समाज में मैत्रेयी पुष्पा का रचनात्मक स्वर निरंतर सार्थकता प्राप्त कर रहा है। मेरेसाक्षात्कारमें मैत्रेयी पुष्पा से समय-समय पर लेखकों/पत्रकारों द्वारा की गई बातचीत संकलित है। साक्षात्कारों से गुजरते हुए स्पष्ट लगता है कि प्रश्न तो एक निमित्त या प्रस्थानहैं। लेखिका के मन में इतना कुछ उमड़-घुमड़ रहा है कि वह बात प्रारंभ करने का बहाना भर चाहता है। कहानीउपन्यास और अन्य टिप्पणियों में जो अनकहा रह गयावह इनसाक्षात्कारों में प्रकट हुआ है। मैत्रेयी की पारदर्शी भाषाबेलाग सोच और जोखिम उठाने की प्रवृत्ति इन साक्षात्कारों को पठनीय  विचारणीय बनाती है। स्त्री-विमर्शतथा विभिन्नप्रश्नों के उत्तर तलाशते ये साक्षात्कार मूल्यवान हैं।

    इस पुस्तक में मैत्रेयी पुष्पा के कुछ विशेष वक्तव्य भी उपस्थित हैं। ये वक्तव्य विभिन्न संदर्भों के साथ हैं। इनसे जाहिर होता है कि मैत्रेयी अपने परिवेश और उसकी सक्रियताओंसे भली-भाँति परिचित हैं। वक्तव्य वस्तुतः लेखिका की वैचारिकता को पहचानने का माध्यम हैं। साक्षात्कारों और पूरक रूप में वक्तव्यों से समृद्ध यह पुस्तक इस जटिल समयको समझने में हमारी मदद करती है।

  • Sant Malook Granthawali
    Baldev Vanshi
    600 540

    Item Code: #KGP-119

    Availability: In stock

    संत मलूक ग्रंथावली
    संतों की दुनिया सहज, सरल, चैतन्य और प्रकाश की दुनिया है । ढोंग, दिखावा, छल, छद्म और मिट्टी की दुनिया के विपरीत उन्होंने मानवीय, संवेदनशील, जीवंत दुनिया के निर्माण में अपनी सारी सामर्थ्य  लगा दी है । कबीर, रैदास, नानक, दादू की भाँति संत मलूकदास भी आजीवन इसी पथ पर बढते रहे । मानवीयता, अध्यात्म, हिन्दू-मुस्लिम एकात्मता एवं जाति-पांती के विरुद्ध संदेश देते रहे ।
    जब हर श्वास स्वयं ही रामकाज में लग जाए, अजपा जाप चलने लगे, इसके बाद ऐसी स्थिति आती है—आराध्य और आराधक एकमेक हो जाएं । व्यक्ति मनुष्य से देवता बन जाता है । व्यक्ति-त्वांतरण हो जाता हे। मलूकदास ने यह स्थिति सहज ही उपलब्ध कर ली । अब राम उनका जप या सुमिरन कर रहे है :
    माला जपों न कर जपों, जिभ्या कहों न राम । 
    सुमिरन मेरा हरि करै, मैं पायो विस्राम॥ 
    मनुष्य की प्राकृतिक ऊर्जा, अंतर्निहित परमात्म- शक्ति-इनकी प्राप्ति से भौतिक जीवन का सुधार, यहीं महालक्ष्य है मलूक की वाणी का । यानी मानव के जीवन को सर्वांगरूप से अनुभूत्तिपूर्ण बनाना और सुधारना । एक बेहतर मानवीयता को धरती पर सुलभ बनाना ।
  • Babu JagJeevan Ram
    A.W.I.C.
    70 63

    Item Code: #Kgp-bjjr

    Availability: In stock


  • Mera Jamak Vapas Do
    Vidya Sagar Nautiyal
    350 315

    Item Code: #KGP-393

    Availability: In stock


  • Betva Ki Lehrein
    Shanta Kumar
    250 225

    Item Code: #KGP-400

    Availability: In stock


  • Unke Hastakshar
    Amrita Pritam
    140 126

    Item Code: #KGP-2029

    Availability: In stock

    उनके हस्ताक्षर
    ० एक लम्बा रास्ता गुजर गया, जब एक उपन्यास लिखा था, डॉक्टर देव । अब चालीस साल के बाद जब मैंने उसे फिर से देखा, लगा-उसका  हिन्दी अनुवाद अच्छा नहीं हुआ है । मन में आया, अगर उसका अनुवाद मैं अब स्वयं करूँ, तो उसकी रगों में कुछ धड़कने लगेगा और यही जब करने लगी, तो बहुत कुछ बदल गया ।
    ० इसी तरह एक मुद्दत हो गई, एक उपन्यास लिखा था…'घोंसला' । प्रकाशित हुआ तो बाद में किफायती संस्करण 'नीना' नाम से चलता रहा । आज उसे देखकर लगा कि वह उस कदर पुख्ता नहीं हो पाया था, जो होना चाहिए था । और उसी को अब फिर से लिखा है, जिससे वह सघन भी हो पाया है और पुख्ता भी ।
    ० इसी तरह कभी एक कहानी लिखी थी ‘पाँच बहनें-और उस कहानी को लेकर जब किसी ने फिल्म बनाने की बात की, तो मैंने कहानी को फिर से देखा । अहसास हुआ कि इस जमीन पर जो कहा जा सकता था, वह कहानी में नहीं उतर पाया था। यह अहसास कुछ इस तरह मेरा पीछा करने लगा कि एक दिन मुझे पकड़कर बैठ गया । कुछ और मसले भी थे, जो कहानी में नहीं आ पाए थे । और उन सबको लेकर पाँच की जगह सात श्रेणियों के किरदार सामने रखे और उन सबको कागज़ पर उतार दिया । अब उसे नाम दिया है-उनके हस्ताक्षर' ।
    -अमृता प्रीतम
  • Dus Pratinidhi Kahaniyan : Malti Joshi
    Malti Joshi
    160 144

    Item Code: #KGP-55

    Availability: In stock


  • Himalaya Gaatha-1 (Dev Parampara)
    Sudarshan Vashishath
    550 440

    Item Code: #KGP-166

    Availability: In stock

    हिमालय गाथा-1 (देव परंपरा)
    महापंडित राहुल सांकृत्यायन के बाद संस्कृति पर लेखन और यात्रा-वृत्तांत जैसे साहित्य की धीरे-धीरे कमी होती गई । बहुत ही कम ऐसे साहित्यकार रहे, जिन्होंने आसपास की संस्कृति पर कलम चलाई । ऐसे बिरले साहित्यकारों में सुदर्शन वशिष्ठ एक ऐसा नाम है, जिसने सशक्त कथाकार और कवि होने के साथ-साथ संस्कृति-लेखन में भी बराबर पैठ बनाए रखी। आठवें दशक के आरंभ से लेकर इनके सांस्कृतिक लेख सामने आते रहे । 'धर्मयुग', 'साप्ताहिक हिंदुस्तान', 'कादम्बिनी', 'संस्कृति', 'योजना' जैसी पत्रिकाओं तथा सभी समाचार-पत्रों के सांस्कृतिक पृष्ठों में ये बराबर लिखते रहे। कुल्लू के मलाणा गणतंत्र को यही सबसे पहले सामने लाए । 'धर्मयुग' के फागुन अंक में 'फागुन में मलाणा' लेख छपा ।
    ‘आँखिन देखी' और उसका कथात्मक शैली में वर्णन वशिष्ठ के संस्कृति-लेखन की विशिष्टता रही है । पढ़ते हुए ऐसा लगता है, आप यह उत्सव स्वयं देख रहे हैं । सरल और स्पष्ट भाषा से रोचकता के साथ संस्कृति के गंभीर पहलुओं का विश्लेषण, उनकी वैज्ञानिक व्याख्या, पुरातन को आधुनिकता के साथ जोड़ना इनकी लेखनी की विशेषता रही है ।  संस्कृति का कोई ऐसा पहलू अछूता नहीं रहा है, जिस पर वशिष्ठ ने लेखनी न चलाई हो। इतिहास और परंपरा, धर्म और संस्कृति, मंदिर और पुरातत्त्व, मेले और उत्सव, लोक-परंपरा और लोक-वार्ता कोई पक्ष ऐसा नहीं है, जो अछूता रहा हो । लेखक की यायावर प्रवृत्ति ने हिमाचल के दूरस्थ क्षेत्रों की यात्राएँ की ।
    यदि इनके अभी तक प्रकाशित हजारों लेखों और दर्जनों पुस्तकों को देखा जाए तो इन्हें दूसरा राहुल कहा जा सकता है । राहुल जी ने बहुत जगह पूरे के पूरे गजेटियर उतार डाले । वशिष्ठ ने ऐसा नहीं किया । इन्होंने संस्कृति को बहुत करीब से देखा । जो देखा, वह लिखा । संस्कृति को निष्पक्ष नजरिए से देखा, परखा, समझा है और फिर लेखनीबद्ध किया है । आशा है, यह संस्कृति श्रृंखला पाठकों, शोधकर्ताओं के लिए उपयोगी सिद्ध होगी ।
  • Kavi Ne Kaha : Ibbar Rabbi (Paperback)
    Ibaar Rabbi
    90

    Item Code: #KGP-1406

    Availability: In stock

    कवि ने कहा : इब्बार रब्बी
    बचपन में महाभारत और प्रेमचंद होने का भ्रम, किशोर अवस्था में छंदों की कुंज गली में भटकने का भ्रम, फिर व्यक्तिवाद की दलदल में डुबकियां । लगातार भ्रमों और कल्पना-लोक में जीने का स्वभाव । क्या आज भी किसी स्वप्न-लोक के नए मायालोक में ही खड़ा हूं? यह मेरा नया भ्रम है या विचार और रचनात्मकता की विकास-यात्रा? क्या  पता । कितनी बार बदलूं।
    नया सपना है शमशेर और नागार्जुन दोनों  महाकवियों का महामिलन । इनकी काव्यदृष्टि और रचनात्मकता एक ही जगह संभव कर पाऊं । जटिल और सरल का समन्वय, कला और इतिवृत्तात्पकता एक साथ । ध्वनि का अभिधा के साथ पाणिग्रहण ।  नीम की छांह में उगे पीले गुलाबों की खुशबू से नाए रसायन, नए रंग और नई गंध जन्म लें । गुलाबों की शफ्फाक नभ-सी क्यारी में बीजों-सी दबी निबोलियां । इस नई मिट्टी और खाद से उगने वाले फूल, लताएं और वनस्पतियां बनें मेरी कविता ।
  • Kavi Ne Kaha : Rituraj (Paperback)
    Rituraaj
    80

    Item Code: #KGP-1236

    Availability: In stock

    कवि ने कहा : ऋतुराज
    ऋतुराज की कविता गरीब, वंचित, बहुत दूर रहने वाले लोगों की ताकत को रेखांकित करती है । वस्तुओं, लोगों और संवेदनाओं के 'आदिवास' के प्रति चिंता एक खोज और उसे बचाने की चिंता ऋतुराज की रचना में कई स्तरों पर व्यक्त होती रही है । बहुराष्ट्रीय  निगमों के इस साम्राज्यवादी समय में ज्यादातर लोग आशा और प्रसन्नता जैसी चीजों के लिए बाजार की तरफ देख रहे है और उसे खरीद लेने की सुख-भ्रांति में भी रह रहे हैं, लेकिन ऋतुराज के लिए वास्तविक उम्मीद बाजार से बाहर घटित होती है। वह बाजार विरोधी है और समाज के अत्यंत साधारण मनुष्यों, गरीब आदिवासियों के भीतर निवास करती है ।
    ऋतुराज की संवेदना पर समकालीनता और उसके साथ अनायास आ जाने वाले विषयों का बहुत कप दबाब दिखता है । इसीलिए उनकी कविताएं प्रचलित, स्वीकृत और तयशुदा मुहावरे से अलग हैं । वे मुख्य भूमि से दूर किन्हीं हाशियों पर रहने वाले साधारण आदिवासी संसार से आधुनिक शहराती सभ्यता को देखते हैं और उसकी अमानुषिक, अश्लीलता, विसंगति और उसके विरूप के खिलाफ एक प्रति-संसार की रचना करते है और अगर कभी उनकी कोई कविता किसी आदिवासी के धनुष-बाण की तरह दिखने लगती है तो इसमें कोई आश्चर्य नहीं है [ इसलिए कि ऋतुराज आदिवासी सभ्यता के ही कवि हैं और अपनी भाषा को एक आदिम औजार की तरह इस्तेमाल करते हैं । इसका एक कारण तो शायद यह है कि ऋतुराज का ज्यादातर जीवन राजस्थान के आदिवासियों, भीलों के क्षेत्र में बीता है और दूसरा शायद यह कि उनकी संवेदना शहरी तनावों के प्रति सजगता के बावजूद देशज और स्थानिक है ।
    आदिवासी जीवन की सरलता, मासूमियत और अच्छाइयाँ ऋतुराज की कविता का प्राणतत्त्व हैं, लेकिन वह आदिवासियों के मन की ही तरह जटिल और सांकेतिक भी है । एक आदिवासी व्यक्ति जितना व्यक्त होता है उससे कहीं अधिक अव्यक्त रहता है । शायद ऋतुराज की कविता भी इसी तरह है : शब्दों के शिल्प के पीछे एक जटिल संरचना ।
  • Pride And Prejudice (Novel)
    Jane Austen
    495 446

    Item Code: #KGP-572

    Availability: In stock

    Boy meets girl, Girl meets boy—how boring. 
    Girl hates boy, Boy loves her not—equally boring. 
    Put in some minor love tornadoes, now you are talking. That makes for the romance of the century.
    19th century England is in the midst of love-filled storms! Welcome
    to Meryton and to Elizabeth Bennet, who by the way hates Darcy. And Darcy thinks she is a part of 'Rich Groom Hunters' (at least her mother seems so)! A dozen fights, misunderstandings, and romantic musings later, will pride and prejudice fly out of the ‘English’ window for love to breathe?
    A romance mesh in a 'spoon and fork society' with drama to put Bollywood to shame. Nothing tugs at the heart like love does—and 'Pride and Prejudice' with love stories entangled all over, still tugs at our hearts in this 21st century just as it did way back in the 19th century. Meet the ‘you’ and 'your love story' in this tale of the haughty Darcy and the hotheaded Elizabeth.
    Read Jane Austen as she places life knowledge into an excellent plot to illustrate the negatives of pride and prejudice where relationships are concerned.  
    You will agree—love surely never ages!
  • Sulagati Inton Ka Dhuaan
    Poonam Singh
    250 225

    Item Code: #KGP-9196

    Availability: In stock

    सुलगती ईंटों का धुआं कहानीकार पूनम सिंह का नया संग्रह है। विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं मंे प्रकाशित इन कहानियों को पर्याप्त लोकप्रियता प्राप्त हो चुकी है। पूनम सिंह नए बनते समाज को आलोचनात्मक दृष्टि के साथ कहानियों के कंेद्र में रखती हैं, यह एक सामान्य कथन है। यह उपयुक्त कथन है कि वे भाषा और शैली से पाठक के मन में भी खुशी और खलिश पैदा कर देती हैं। विकास के नाम पर लुटती जमीन, परंपरा और अस्मिता विमर्श से जूझती स्त्री, जिम्मेदारियों से घिरा ‘नैतिक बेरोजगार’, ग्रहों के अंधविश्वास में उलझे आधुनिक, उत्पीड़न के विरुद्ध उठ खड़ी हुईं स्त्रियां, अकेलेपन से आक्रांत व आत्मीयता को तलाशती वृद्धवस्था और व्यवस्था के खिलाफ एकजुट जनता-इन कहानियों के यही सूत्र-संदर्भ हैं। देखा जाए तो रचनाशीलता को चारों तरफ से घेरे इन सूत्र-संदर्भों को पूनम सिंह ने अपने रचाव से विशेष बना दिया है। उनमें स्थानीयता का एक मोहक अंदाज है। यह अंदाज केवल भाषा में ही नहीं, कहानी कहने के मिजाज में भी समाया है। इन कहानियों के कई चरित्र मन में कहानी समाप्त हो जाने के बाद भी उद्विग्न रहते हैं। कहानी पाठक के मन में दुबारा-तिबारा लिखी जाती है शायद।
  • Rath-Kshobh
    Deepak Sharma
    80 72

    Item Code: #KGP-1834

    Availability: In stock

    रथ-क्षोम 
    "मरते समय मां ने मुझे बताया, वे मुझे जन्म नहीं देना चाहती था ।"
    "तू अभी बहुत छोटा है । उस बेचारी का दुख नहीं समझ सकेगा ।"
    "मेरा दु:ख कोई दुख नहीं ?" मैं फट पड़ता हूँ "माँ ने मुझे नफ़रत में जन्म दिया, नफरत में बडा किया और फिर कह गईं-मैं एक वहशी की संतान हूँ-बिना यह बताए कि किस वहशी की ।"
    "अपने ताऊ की"
    मैं सन्न रह गया ।
    "मैं तुम्हें बताती हूँ।" काँपती, भर्राई आवाज में ताई ने बताया, "सब बताती हूँ। उस रात इसी तरह मैं उधर लुधियाणे में  भरती थी । मेरा भाई उन दिनों अपनी एल०आई०सी० की नौकरी से लुधियाणे में तैनात था । जब मैं एकाएक उधर बीमार पडी और अस्पताल में दाखिल करवा दी गई, तेरे ताऊजी उसी शाम इधर अपने गाँव से मुझे देखने के लिए पहुँच लिए थे । उन्हीं की जिद थी कि उस रात मेरी देखभाल वहीँ करेंगे । और उसी रात स्नेहंप्रभा की भी ड्यूटी वहीँ थी । बेहोशी और कष्ट की हालत में अचानक अपने प्राइवेट कमरे के बाथरूम के आधे दरवाजे के पीछे से एक सनसनी अपने तक पहुंचती हुई मेरी बेहोशी टूटी तो पशुवत् तेरे ताऊ की बर्बरता की गंध से-सुकुमार स्नेहप्रभा के आतंक की दहल से । पार उधर स्नेहप्रभा निस्सहाय रहने पर मजबूर रहीँ और इधर मैं निश्चल पडी रहने पर बाध्य..."
    "पापा से माँ की शादी इसीलिए आपने करवाईं ?" मैंने थूक निब्बाला ।
    "अस्पताल में मेरी भरती लंबी चली थी और जब स्नेहप्रभा ने अपने गर्भवती हो जाने की बात मुझसे कहीँ थी तो मैँने ही उसे अपनी बीमारो का वास्ता दिया था, अपने स्वार्थ का वास्ता दिया था और लुधियाणे से उसे अपने साथ इधर ले आई थी । सोचा था, जब वह अपने दूसरे बच्चे को जन्म देगी तो मैं इस पहले बच्चे को गोद ले लूँगी । लेकिन तुम्हारी प्रसूति के समय उसे ऐसा आँपेरेशन करवाना पडा, जिसके बाद उसका दोबारा माँ बनना मुश्किल हो गया"
    "पापा को सब मालूम है ?"
    “नहीं । बिलकुल नहीँ । और उसे कभी मालूम होना भी नहीं चाहिए । मेरी खातिर । स्नेहप्रभा की खातिर । "
    -इसी संग्रह की कहानी 'मुडा हुआ कोना' से
  • Sahityasevi Rajneta : Shanta Kumar
    Hemraj Kaushik
    490 392

    Item Code: #KGP-9370

    Availability: In stock

    शान्ता कुमार ने राजनीति और साहित्य के क्षेत्र में तपश्चर्या और साधना का जीवन जिया है। एक संवेदनशील साहित्यसर्जक और गंभीर, निर्भीक, सत्यनिष्ठ, मानवतावादी, निष्कलुष, निष्कलंक राजनेता के रूप में उनके व्यक्तित्व की छवि अन्यतम है। उनकी सृजनात्मक और चिंतनपरक कृतियों, उनकी जेल डायरी तथा संस्मरणात्मक कृतियों का अनुशीलन करते हुए तथा राजनीतिक जीवन के समूचे सफर को देखते हुए बराबर यह अहसास होता रहा है कि ‘आसान नहीं है शान्ता कुमार होना।’ वे उन गिने-चुने ख्यातिलब्ध राजनीतिज्ञों में से हैं जिन्होंने राजनीति और साहित्य कर्म का एक साथ निर्वहन किया है।
    प्रस्तुत पुस्तक ‘साहित्यसेवी राजनेता: शान्ता कुमार’ शान्ता कुमार के सृजन और चिंतन पर केंद्रित है। उन्होंने उपन्यास, कहानी, कविता, संस्मरण, डायरी, जीवनी, क्रांतिकारी वीरों की शौर्यगाथाओं का इतिहास आदि अनेक विधाओं में सृजन किया है। उनका अनुभव लोक विविधमुखी रहा है। उनका उपन्यासकार जितना जीवंत और प्रभावी है, उतना ही उनका संस्मरण लेखक और निबंधकार भी। स्वामी विवेकानंद की प्रेरणादायी जीवनी हिंदी और अंग्रेजी में लिखकर उन्होंने यह प्रमाणित किया है कि वे गंभीर अध्येता और कुशल जीवनीकार हैं। इस पुस्तक में उनके सृजन और चिंतन को उनकी समग्र कृतियों के आलोक में विश्लेषित किया गया है। उनके समग्र कृतित्व में एक साहित्य सर्जक का दायित्वबोध है और एक राजनीतिक नेता के रूप में आचरण और व्यवहार में नैतिक मूल्यों की स्थापना का आग्रह है। राष्ट्र-प्रेम, भारतीय संस्कृति की गौरव गरिमा को अन्वेषित और आत्मसात् करने की अटूट आस्था उनके चिंतन में परिलक्षित है।
    प्रस्तुत पुस्तक में शान्ता कुमार के समग्र कृतित्व को समेटने का प्रयास किया गया है। विश्वास है एक श्रेष्ठ राजनेता और सहृदय साहित्यकार को समझने में यह पुस्तक सहायक सिद्ध होगी।
  • 20-Best Stories From Egypt (Paperback)
    Prashant Kaushik
    99

    Item Code: #KGP-7200

    Availability: In stock

    What is an anthology, if not an amalgamation of words?

    In this 20-BEST series, we bring to you short stories, folktales and classics from a land that is as enigmatic as they are intriguing. Egyptian short stories are world famous for their story-telling flow—natural, simple, and veracious. A 360-degree contrast from the tales of our country, from the social makeup of our society, our beliefs, customs and legends, these stories open up a new world on each page.

    With stories like Re’s Story, Isis, Osiris, The Greek Princess, The Shipwrecked Sailor, The Book of Thoth, Egypt’s Great Magician, this book is a compilation of 20 famous Egyptian short stories. 
    Each story is beautiful in its own style, holding the readers spellbound.

    Time to indulge in some old-world charm all the way from Egypt.
  • Yoon Banee Mahabharat (Paperback)
    Pratap Sehgal
    60

    Item Code: #KGP-1417

    Availability: In stock

    प्रताप सहगल
    कवि, नाटककार, कथाकार, आलोचक
    जन्म : 10 मई, 1945, झंग, पश्चिमी पंजाब (अब पाकिस्तान में)
    प्रकाशित रचनाएँ 
    कविता-संग्रह : 'सवाल अब भी मौजूद है', 'आदिम आग', 'अँधेरे में देखना', 'इस तरह से', 'नचिकेतास ओडिसी', 'छवियाँ और छवियाँ' 
    नाटक : 'अन्वेषक',  'चार रूपांत',  'रंग बसंती', 'मौत क्यों रात- भर नहीं आती', 'नौ लघु नाटक', 'नहीं कोई अंत', 'अपनी-अपनी भूमिका', 'पाँच रंग नाटक', 
    तथा 'छू मंतर' और 'दस बाल नाटक'
    उपन्यास : 'अनहद नाद', 'प्रियकांत' 
    कहानी-संग्रह : 'अब तक', 'मछली-मछली  कितना पानी'
    आलोचना : 'रंग चिंतन', 'समय के निशान', 'समय के सवाल', 
    विविध : 'अंशतः' (चुनिंदा रचनाओं का संग्रह)
    सम्मान एवं पुरस्कार : ० मैथिलीशरण गुप्त पुरस्कार ० 'रंग बसंती' पर साहित्य कला परिषद द्वारा सर्वश्रेष्ठ नाट्यालेख पुरस्कार ० 'अपनी-अपनी भूमिका' शिक्षा मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा पुरस्कृत  ० 'आदिम आग' व 'अनहद नाद' हिंदी अकादमी, दिल्ली द्वारा पुरस्कृत ० सौहार्द सम्मान, उत्तरप्रदेश हिंदी संस्थान, लखनऊ ० राजभाषा सम्मान, भारत सरकार ० साहित्यकार सम्मान, हिंदी अकादमी, दिल्ली और अन्य पुरस्कार । 
    संपर्क : एफ- 101, राजौरी गार्डन, नई दिल्ली- 110027
    फोन : 25100565, मो० : 9910638563
    ई-मेल : partapsehgal@gmail.com 

  • Navak Ke Teer
    Sharad Joshi
    390 254

    Item Code: #KGP-21

    Availability: In stock

    नावक के तीर
    मैं धर्मयुग छोड़कर कलकत्ता गया । 'रविवार’ का प्रकाशन प्रारम्भ हो रहा था । वहीं पहुँचते ही मैंने पहला पत्र शरद जी को लिखा था : शरद जी, समय आ गया है । अब आप शुरू हो जाइये । आपकी यह मलाल नहीं रहना चाहिए कि आपको हिंदी वालों ने नियमित स्तंभ लिखने का मौका नहीं दिया । शाद जी ने सहमति का पत्र तो भेजा, पर साथ ही यह भी जड़ दिया कि प्यारे, अब मैं देनिक स्तंभ के बारे में सोच रहा हूँ । कोई साहसी संपादक मिल ही नहीं रहा है ।  बहरहाल, उनका स्तंभ चालू हुआ । हमारी संपादकीय टीम ने काफी बहस-मुबाहसे के बाद तय दिया कि स्तंभ का नाम 'नावक के तीर' होना चहिए । बिहारी से साभार । उनका पहला लेख था-अथ गणेशाय नम: और स्तंभ का नाम छपा था-नाविक के तीर । पहला अंक बाजार में आते ही शरद जी की घबराहट-भरी चिट्ठी आयी--"भैया, नाविक नहीं नावक । अपना अज्ञान मुझ पर क्यों थोप रहे हो ।" खैर । कॉलम चला और खूब चला । पाठक प्रमुदित थे और कई व्यंग्यकार निराश। 
    मुझे गर्व की अनुभूति कभी-कभी होती रहती है कि हिन्दी व्यंग्य-लेखन की इस विजय-यात्रा में बतौर दर्शक ही, मेरी भी एक विनम्र भूमिका रही है ।
    --सुरेन्द्र प्रताप सिंह
  • Kabeer Ki Bhasha
    Dr. Mahendra
    400 360

    Item Code: #KGP-652

    Availability: In stock

    कबीर की भाषा
    महान् संत कबीरदास की वाणी के प्रामाणिक संग्रह के अभाव में उनकी भाषा विवाद का विषय रही है। प्रस्तुत ग्रंथ के प्रथम खंड में इसी विवाद का निश्चित हल प्रस्तुत करने का सफल प्रयास किया गया है। भाषावैज्ञानिक विश्लेषण का निष्कर्ष यह है कि भाषा की दृष्टि से कबीर संधिकाल (1000 ई. से 1500 ई. तक) के कवि हैं। इस कारण उनके काव्य में अवधी, ब्रजभाषा और खड़ीबोली की व्याकरणिक प्रवृत्तियों के बीज मिश्रित रूप से विद्यमान हैं।
    द्वितीय खंड में कबीर की भाषा का काव्यशास्त्रीय अध्ययन है। यह अध्ययन शब्द-शक्ति, ध्वनि, अलंकार, वक्रोक्ति, रीति, वृत्ति और गुण की दृष्टि से सर्वांगपूर्ण होने के कारण कवि की कवित्व-शक्ति का परिचायक है। कबीर द्वारा प्रयुक्त प्रतीकों के स्रोतों का अनुसंधान तथा प्रतीकों का वर्गीकरण प्रस्तुत ग्रंथ की मौलिक विशेषता है।
    तृतीय खंड में कबीर की भाषा-शक्ति तथा भाषा के सांस्कृतिक पक्ष का अध्ययन प्रस्तुत किया गया है। कबीर द्वारा प्रयुक्त मुहावरों और लोकोक्तियों की विस्तृत सूची से ग्रंथ की उपयोगिता बढ़ गई है।
    समग्रतः कबीर की भाषा के सभी पक्षों पर वैज्ञानिक पद्धति से किया गया विवेचन ग्रंथ का वैशिष्ट्य है।
  • Kavi Ne Kaha : Vijendra (Paperback)
    Vijendra
    120

    Item Code: #KGP-7022

    Availability: In stock


  • Maharshi Dayanand Saraswati
    Chandrika Prasad Sharma
    200 170

    Item Code: #Kgp-mds

    Availability: In stock


  • Akshar-Kundali
    Amrita Pritam
    260 208

    Item Code: #KGP-1977

    Availability: In stock

    अक्षर-कुण्डली
    'पग घुँघरू बाँध मीरा नाची रे'-
    यह तो महाचैत्तन्य का अनुभव है ।
    इसके लिए तो मीरा हो जाना होता है ।
    लेकिन जब एक जिज्ञासु ऐसी मंजिल के
    सम्भावना अपने में नहीं देख माता,
    तब भी, मैं मानती हूँ कि उसके
    कान उस रास्ते के ओर लगे रहते है-
    जहाँ, दूर से मीरा के पाँव में बँधे
    हुए घुँघरू- उस पुरे रास्ते को तरंगित
    कर रहे होते है ।
    यह पुस्तक 'अक्षर-कुण्डली' मेरी किसी प्राप्ति की गाथा नहीं है । यह तो एक जिज्ञासु मन की अवस्था है, जिसे कभी-कभी किसी पवन के झोंके मेँ, मिली हुई मीरा के घुंघरुओं की ध्वनि सुनाई देती है... 
    -अमृता प्रीतम
  • Yatrayen
    Himanshu Joshi
    160 144

    Item Code: #KGP-1928

    Availability: In stock

    यात्राएँ
    कहानियों, उपन्यासों की तरह हिमांशु जोशी के यात्रा-वृत्तांतों  की भी अपनी विशेषता है। पढ़ते-पढ़ते पाठक को कहीं लगने लगता है कि इन यात्राओं में लेखक के साथ-साथ वह भी यात्रा कर रहा है । लेखक जिस तरह से इन सबको देख रहा है, जिस तरह की अनुभूति उसे हो रही है, कुछ-कुछ वैसी ही उसे भी होने लगती है । सरलता, सहजता, स्वाभाविकता हिमांशु जोशी की रचनाओं के सहज, स्वाभाविक गुण हैं । संभवत: ये ही मूल गुण किसी रचना को जीवंत बनाने में सफल होते है ।
    इन यात्राओं से कश्मीर के बर्फीले दुर्गम सीमा-क्षेत्र शामिल हैं तो पूर्व में बाँग्लादेश और भारत को विभाजित करती सुदूर हरित वंगा या इच्छामती के कूल-कगार भी । कहीं कन्याकुमारी तथा केरल की मनोरम हरित दुश्यावलियाँ हैं तो कुमाऊँ के पर्वतीय प्रदेश की अनेक अज्ञात, अछूती मनोरम झाँकियाँ भी। मॉरिशस का नीलवर्णी निर्मल स्वच्छ सागर है कहीं तो उत्तरी ध्रुव प्रदेश की हिमशीतल सफेद हवाएँ भी अपने अस्तित्व का अहसास जताने लगती है । हिमांशु जोशी संभवत: वह हिंदी के पहले लेखक है, जिन्होंने विश्वविख्यात नाटककार हैनरिक इब्सन के घर सीयन की साहित्यिक यात्रा की थी । उसी तरह नोबेल पुरस्कार से सम्मानित नार्वेजियन लेखक सीगरी उनसत तथा ब्यौर्नसन के घरों की तीर्थयात्राएँ भी।
    ये यात्रा-विवरण मात्र यात्रा के विवरण ही नहीं, कहीं इनमें  इतिहास भी है, भूगोल के साथ-साथ साहित्य भी । कला एवं संस्कृति की मार्मिक छुअन भी। इसीलिए ये वृतांत कहीं  दस्तावेज भी बन गए हैँ-जीए हुए अतीत के। पाठको को इनसे एक संपूर्ण जीवन का अहसास होने लगता है। एक साथ वह बहुत कुछ ग्रहण करने में सफल होता है-शायद यह भी इन वृत्तात्तों की एक सबसे बडी सफलता है ।
  • Mohan Chopra Ki Shreshtha Kahaniyan
    Sunil Chopra
    195 176

    Item Code: #KGP-313

    Availability: In stock

    मोहन चोपड़ा की श्रेष्ठ कहानियाँ
    मोहन चोपड़ा का कथा-संसार मध्यवर्गीय सामाजिक जीवन की विडंबनाओं, अंतर्विरोधों और मूल्यों के विघटन के इस दौर में एक व्यक्ति के अंतःसंघर्ष की गाँठें खोलता है। पूँजीवादी संस्कृति और बाज़ार के दबावों के बीच मनुष्य के लगातार एक उपभोक्ता में बदलते चले जाने तथा भारतीय सामाजिक-सांस्कृतिक मूल्यों के क्षरित होने की पृष्ठभूमि से उपजी हताशा, मोहभंग, अनास्था और अकेलेपन के बीच कहानीकार संबंधों के सत्त्व और मानवीय ऊष्मा की गहन खोज में प्रवृत्त है तथा वह हमें उम्मीद की टिमटिमाती रोशनियों को सहेजने के लिए प्रेरित भी करता है।
    मोहन चोपड़ा की कहानियों में मध्यवर्ग अपनी तमाम विविधताओं के साथ उपस्थित होता है। मध्यवर्ग की उस दोहरी एवं टुच्ची मानसिकता को उन्होंने अपनी कहानियों में लक्षित किया है, जहाँ आर्थिक अथवा सामाजिक स्तर पर बदलाव आते ही इस वर्ग के लोगों के आचरण में भी बदलाव आ जाता है और वे पुरानी केंचुलें उतारकर नई केंचुलें धारण कर लेते हैं। मध्यवर्गीय जीवन की विडंबनाओं को जीने का लेखक का अपना अनुभव ही अनुभूति के स्तर पर उनकी कहानियों में प्रवाहित है, और इसीलिए वे इतनी प्रामाणिक लगती हैं।
    उनकी कहानियों का यह संचयन उनकी विविधरंगी- बहुआयामी सर्जनात्मकता से परिचय कराने का एक प्रयास है।
  • Samagra Naatak : Kusum Kumar
    Kusum Kumar
    1200 840

    Item Code: #KGP-9379

    Availability: In stock

    स्वतंत्रता के बाद हिंदी नाटक के इतिहास में कुसुम कुमार एक अत्यंत प्रतिष्ठित रचनाकार हैं। इनके नाटक सुविधाजनक रचनाकर्म नहीं, निरंतर संघर्ष, संताप आदि प्रयोगों का परिणाम हैं। इनमें महज स्त्री-स्वर ही मुखर नहीं हुआ बल्कि अपने समय, समाज और परिवेश के अनिवार्य प्रसंगों से बराबर जूझते नजर आते हैं। 
    समग्र नाटक में संकलित कुसुम कुमार के आठों नाटक समय-समय पर देश भर में चर्चित व प्रशंसित रहे हैं और अनुभवी निर्देशकों द्वारा बार-बार मंचित हुए हैं। ‘रावण-लीला’, ‘संस्कार को नमस्कार’, ‘दिल्ली ऊंचा सुनती है’, ‘सुनो शेफाली’ तथा ‘लश्कर चैक’ आदि ये सभी नाटक अपने साथ एक नवीन कथ्य और परिवेश की खोज करते हुए रचनात्मक परिणाम देते हैं। 
    कुसुम कुमार के नाटकों को श्रेष्ठतम नाटकों में गिना जाता है। इसीलिए इनका कई भारतीय भाषाओं में अनुवाद और मंचन हुआ है, जिससे इनकी लोकप्रियता बढ़ती गई। ये नाटक सामाजिक सरोकारों की कथावस्तु को एक ऐसा ज्वलंत और साथ ही रोचक स्वरूप देते हैं जो दर्शकों को लगातार बांधे रखता है। मानवीय समस्याएं और मानव संबंधों की गहन पड़ताल भी इनके नाटकों की विशेषता है। इनका बहिरंग प्रायः काॅमेडी होते हुए भी, सरोकार बेहद मानवीय और संवेदनशील है। एक ओर यहां समाज में चला आ रहा नाटक के पीछे का नाटक बेनकाब होता है तो दूसरी ओर दमित वर्ग अपनी विशिष्ट पहचान के साथ मुखर होता है। यह कहना आवश्यक है कि इन नाटकों का स्वर और स्वरूप आधुनिक सोच की खुली भाषा और चुस्त संवादों में सहज ग्राह्य और दर्शकों के बीच प्रिय है। 
    डाॅ. कुसुम कुमार के नाटकों का संकलन पाठकों की सुविधा के लिए एक जिल्द में पहली बार प्रकाशित हो रहा है। समग्र नाटक सभी सांस्कृतिक संस्थाओं, नाट्य मंडलियों, अकादमियों, पुस्तकालयों एवं शोधर्थियों के लिए एक संग्रहणीय पुस्तक। 
  • Aupacharik Patra-Lekhan
    Om Prakash Singhal
    380 342

    Item Code: #KGP-786

    Availability: In stock

    औपचारिक पत्र-लेखन
    विषय एवं शैली की दृष्टि से पत्रों का एक महत्त्वपूर्ण वर्ग औपचारिक पत्रों का है। औपचारिक पत्र एक प्रकार के दस्तावेज होते हैं। जरूरत पड़ने पर उनका उपयोग साक्ष्य एवं प्रमाण के रूप में किया जाता है। अतएव उन्हें लिखते समय पर्याप्त सावधानी बरतने की जरूरत होती है। अब विभिन्न कार्यालयों में नियुक्त हिन्दी पढ़े-लिखे व्यक्तियों से हिन्दी पत्रचार में दक्ष होने की अपेक्षा की जाती है।
    औपचारिक पत्रों के विविध रूपों की  लेखन-शैली का सोदाहरण सैद्धांतिक विवेचन करने वाली पुस्तक का हिन्दी में सर्वथा अभाव है। विषयगत अपेक्षाओं एवं समय की माँग को ध्यान में रखकर लिखी गई यह पुस्तक हिन्दी में अपने विषय की पहली पुस्तक है।
    अनुप्रयुक्त हिन्दी के क्षेत्र में एक नया मार्ग प्रशस्त करने के कारण हिन्दी के प्रत्येक जागरूक पाठक और पुस्तकालय के पास इसका होना अनिवार्य है।
  • Akasmaat Kuchh Kavitayen (Paperback)
    Surendra Pant
    160

    Item Code: #KGP-7216

    Availability: In stock

    हिंदी कवियों ने अपने काव्य-मुहावरों को यदि रसिकतापूर्ण काव्यरूपों से श्रृंगारित किया है तो कुछ कवियों ने कविताओं को चीखने की स्वतंत्रता भी दी है। मगर इस संगह की कविताओं में पाठक पाएंगे कि कवि का सरोकार बृहत्तर मानवता की उपस्थिति करने में कई बार वह संप्रेषणीयता की रूप-सज्जा की भी परवाह नहीं करता। व्यापक जनहितों की आकांक्षाओं के बीच से अंकुरित इन कविताओं को सच्चे ईश्वर, खरे अध्यात्म तथा खनकदार वर्तमान की चाहत है, जो भोले-भाले लोक को उसकी निष्कपटता लौटा सके। ‘मदर टेरेसा’ पर केंद्रित कविता को पढ़कर हमें कवि की मानवगत अवधारणाओं का समूचा अहसास होता है।
    पुलिस विभाग के अत्यंत महत्वपूर्ण एवं ‘संवेदनशील’ पद का निर्वहन करते हुए यह कवि समाज और राजनीति की ‘रणनीति’ में लाखों-लाख हंसते-रोते हैवानों-इंसानों के परम-चरम अनुभवों का साक्षी रहा है, इसीलिए ये कविताएं हमारे समय और समाज की धाराओं-उपधाराओं के रूप में कवि के सामने ‘पेशी’ पाकर शब्दांकित होती हैं। संभवतः इस अनुभवबहुलता ने कवि को किसी इकहरे विषय का मर्मज्ञ न रहने देकर, सर्वत्र का प्रवक्ता कवि भी बना दिया है। यह भी उल्लेखनीय है कि इस विविधता के बावजूद कवि का ध्यान अपने देश, संस्कृति और जन पर लगभग प्रत्येक कविता मंे कंेद्रीकृत हुआ है।
    कहना न होगा कि इन कविताओं के नए तेवर का आगमन भले ही अकस्मात् रूप में हुआ है, मगर निश्चित ही इनका सृजन गहरी विचारशीलता के बाद ही संभव हुआ होगा।
  • Ek Aur Lal Tikon (Paperback)
    Narendra Kohli
    50

    Item Code: #KGP-7099

    Availability: In stock


  • Kalpana Chawla
    A.W.I.C.
    40 36

    Item Code: #Kgp-kc

    Availability: In stock


  • Mera Paigaam Muhabbat Hai Jahan Tak Pahunche (Paperback)
    Jigar Muradabadi
    150

    Item Code: #KGP-7111

    Availability: In stock

    मेरा पैगाम मुहब्बत है जहाँ तक पहुँचे
    'जिगर' साहब इंसानियत और शेरियत दोनों का पैकर थे । उनकी शायराना अजमत का बडा राज उनकी मखसूस सज-धज, तर्जेअदा और तरन्नुम था । उनकी मासूम जोर दिलकश शखसियत ने उन्हें अपने दौर का महबूब-तरीन शायर बना दिया था । उनकी बड़ाई को इस पैमाने से भी नापा जा सकता है कि दौरे जदीद में कितनों ने जिगर बनने की कोशिश की, इसलिए कि शेर की दुनिया के वह एक तर्ज थे। असलूब थे, एक स्टाइल थे ।
    'जिगर' ने गजल को एक नई जिंदगी बख्शी । उनकी गजले मदहोशी व रंगीनी के छलकते हुए सागर  हैं, जिससे तरह-तरह के रंग मौजूद है और किस्म-किस्म के जजबात जलवागर हैं,
    जिनका मुताअला जिंदगी के नशे को गहरा कर देता है, कायनात के हुस्न में इज़ाफ़ा हो जाता है और हयात नये रूप में जलवागर होकर दिल की धड़कन में जज्ब हो जाती है । खून को रवानी तेज हो जाती है और शायरी के तारों से आहंग हो जाती है। ये इंतेखाबे गजल के अशआर ऐसे है जिनमें नई जिंदगी और वक्त की धड़कनों की आवाजें सुनाई देती हैं। आने वाली नस्लें और तारीख 'जिगर' को कभी भुला नहीं सकेंगी ।
  • Gardish Ke Din
    Kamleshwar
    250 225

    Item Code: #KGP-794

    Availability: In stock

    गर्दिश के दिन
    ‘गर्दिश के दिन’ बारह भारतीय लेखकों के अपने आत्मकथ्य हैं--केवल उनकी अपनी भीतरी दुनिया के नहीं बल्कि बाहर की दुनिया से जुड़ने और लड़ने के दौरान जो कुछ उन्होंने अनुभव किया है और रचनात्मक संघर्ष के जिस दौर से वे लगातार गुज़रे हैं--उसी सिलसिले का एक आत्मिक और समयगत कथन इन रचनाओं का आधार है।
    इस गर्दिश से सभी गुज़रे हैं--और अभी बहुत से संघर्षशील लेखकों को इससे गुज़रना पड़ेगा, उन लेखकों को खास तौर से जो ‘ललित-लेखन’ 
    के पक्षधर नहीं हैं बल्कि दलित लेखन के लिए प्रतिबद्ध हैं।
    यह ऐसे ही भारतीय लेखकों की अपनी गर्दिश की विवरण-भरी कहानियां हैं।
    ‘सारिका’ के संपादन-काल में यह धारावाही स्तंभ प्रकाशित करना मेरे लिए अपने समकालीन लेखकों के माध्यम से समय की धड़कन को पहचानने का ‘कुतुबनुमा’ रहा है--जिससे मुझे दृष्टि भी मिलती रही है और मैं अपने समकालीनों से देश की हर भाषा की आत्मीय आवाज़ का साक्ष्य पाता रहा हूं और भारतीय युवा रचना की पहचान का जायज़ा भी लेता रहा हूं।
    --कमलेश्वर
  • Dus Pratinidhi Kahaniyan : Mohan Rakesh
    Mohan Rakesh
    200 180

    Item Code: #KGP-770

    Availability: In stock

    'दस प्रतिनिधि कहानियाँ' सीरीज़ 'किताबघर' की एक महत्त्वाकांक्षी कथा-योजना है, जिसमें हिन्दी कथा-जगत् के सभी शीर्षस्थ कथाकारों को प्रस्तुत किया जा रहा है ।
    इस सीरीज़ में सम्मिलित कहानीकारों से यह अपेक्षा की गई है कि वे अपने संपूर्ण कथा-दौर से उन दस कहानियों का चयन करें जो पाठको, समीक्षकों तथा संपादकों के लिए मील का पत्थर रही हों तथा ये ऐसी कहानियाँ भी हों जिनकी वजह से उन्हें स्वयं को भी कहानीकार होने का अहसास बना रहा हो। भूमिका-स्वरूप कथाकार का एक वक्तव्य भी इस सीरीज़ के लिए आमंत्रित किया गया है, जिसमें प्रस्तुत कहानियों को प्रतिनिधित्व सौंपने की बात पर चर्चा करना अपेक्षित रहा है ।
    'किताबघर प्रकाशन' गौरवान्वित है कि इस सीरीज़ के लिए अग्रज कथाकारों का उसे सहज सहयोग मिला है। इस सीरीज़ के अत्यन्त महत्त्वपूर्ण कथाकार मोहन राकेश ने प्रस्तुत संकलन में अपनी जिन दस कहानियों को प्रस्तुत किया है, वे हैं : 'सीमाएँ', 'मलबे का मालिक', 'उसकी रोटी’, 'अपरिचित', ‘क्लेम', 'आर्दा', 'रोज़गार', 'सुहागिनें', 'गुनाह बेलज्जत' तथा 'एक ठहरा हुआ चाकू' ।
    हमें विश्वास है कि इस सीरीज़ के माध्यम से पाठक सुविख्यात कथाकार मोहन राकेश की प्रतिनिधि कहानियों को एक ही जिल्द में पाकर सुखद पाठकीय संतोष का अनुभव करेंगें ।
  • Kavi Ne Kaha : Neelesh Raghuvanshi (Paperback)
    Nilesh Raghuvanshi
    140

    Item Code: #KGP-7020

    Availability: In stock

    किसी कवि का कथन है कि कविता हमारे चारों ओर चीज़ों, घटनाओं, गतियों, स्थितियों, ध्वनियों, आहटों और अंतरालों में हर समय मौजूद होती है, वह हमारे आसपास तैरती रहती है और एक समर्थ कवि उसे पहचानकर एक परिचित शक्ल दे देता है। नीलेश रघुवंशी अपने दौर के पुरुष और महिला कवियों से इस रूप में अलग हैं कि उनके लिए कविता हमारे सामान्य निम्नमध्यवर्गीय जीवन से अलग, विभिन्न या उससे उच्चतर काम नहीं है बल्कि वह उसी जीवन के भीतर घटित होती है। उनकी कविता अपने समय के भौतिक और मानसिक द्वंद्वों को अनदेखा करके अभिव्यक्ति का कोई अपरिचित लोक नहीं रचती। वह जीवन को जारी रखने वाले कामों का निषेध नहीं करती बल्कि उन्हीं कामों में से अपने को उत्पन्न करती रहती है।
    जीने की उष्मा और ललक से भरी ये कविताएँ समकालीन कविता में नीलेश की नई पहचान को रेखांकित करती हैं। ‘पहली रुलाई तक की डायरी’ जैविक स्त्री-बोध का क्रमिक दस्तावेज है, जो शायद हिंदी में पहली बार इतनी प्रामाणिकता के साथ दर्ज हुआ है। इस काव्यात्मक डायरी को जो बात सबसे अधिक  विश्वसनीय बनाती है, वह अजन्मे शिशु के साथ माँ की वह चुहल है, जो प्रायः इसके हर टुकड़े में मिल जाएगी। ‘जन्म देना एक यातना से गुजरना है’--इस पंक्ति को लिखने वाली यह कवयित्री ही यह क्रीड़ाभरी पंक्ति भी लिख सकती है--‘मैं लिख रही हूँ डायरी और तुम बंदर बने हुए हो--तुमने तो मेरे पेट को खेल का मैदान बना रखा है।’ जन्म देने के सर्जनात्मक उल्लास से भरी ये कविताएँ समकालीन कविता में कुछ नया जोड़ती हैं।   
  • Toro Kara Toro-5 (Sandesh)
    Narendra Kohli
    500 425

    Item Code: #KGP-667

    Availability: In stock


  • Hamse Hai Paryavaran
    Anku Shree
    160 144

    Item Code: #KGP-495

    Availability: In stock

    पर्यावरण के अनेक घटकों में मनुष्य भी एक है। मनुष्यरूपी बुद्धिमान प्राणी द्वारा पर्यावरण की अन्य इकाइयों का उपयोग किया जाता है। यह उपयोग ही पर्यावरण का संचालन है। इससे पर्यावरण प्रभावित होता है। यह प्रभाव कुप्रभाव भी हो सकता है। इसी कुप्रभाव को हम पर्यावरण का प्रदूषण कहते हैं।
    प्रदूषण नहीं होना और उसके प्रभाव से पर्यावरण को बचाना मनुष्य का कर्तव्य है। आज का बालक की कल का मनुष्य है। इसलिए बालकों और युवाओं को इस ओर विशेष ध्यान देने की आवश्यकता है।
    प्रस्तुत पुस्तक ऐसे ही पाठकों को ध्यान में रखकर लिखी गई है। हालांकि यह सभी वर्ग के पाठकों के लिए समान रूप से रुचिकर और उपयोगी लगेगी।
    पुस्तक को बाईस शीर्षकों में बांटा गया है। प्रतयेक शीर्षक अलग-अलग आलेख हैं। फिर भी कुछ बातें प्रसंगवश एक से अधिक आलेखों में आ गई हैं किंतु सारे तथ्य प्रसंगवश रहने के कारण आलेख की रोचकता में कमी नहीं आने पाई है।
    —अंकुश्री
  • Bharat Ke Kavi
    A.W.I.C.
    70 63

    Item Code: #Kgp-bkk

    Availability: In stock


  • Kathin Samay Mein
    Ramesh Chandra Shah
    300 225

    Item Code: #KGP-9383

    Availability: In stock

    हिंदी की वरिष्ठतम पीढ़ी के अनूठे रचनाकार रमेशचन्द्र शाह की डायरी पढ़ना एक विशेष अनुभव से गुजरना है। डायरी लेखन की इनकी प्रथम कृति ‘अकेला मेला’ के पाठक जानते हैं कि इसमें 1981 से 1985 तक की अवधि के अनुभवों का संसार शामिल था। इस विधा की शाह जी की दूसरी कृति ‘इस खिड़की से’ 1986 से 2004 तक का उनका संसार समाहित किए हुए थी। डायरी की तीसरी कृति का शीर्षक है ‘आज और अभी’। इसका फलक 2004 से 2009 तक फैला हुआ है। अंतःप्रक्रियाओं का यह क्रम चैथी डायरी कृति ‘जंगल जुही’ में 2013 तक का कालखंड आबद्ध करता है। इस कृति में रमेशचन्द्र शाह रामप्पा, ऋषियों की घाटी, यादगिरिगुट्टा और भोंगीर का किला, नागार्जुनकोंडा, हम्पी आदि की यात्राओं वेफ बहाने एक अद्भुत संसार से अंतरंग परिचय कराते हैं। इस तरह कि देखना, सुनना, स्पर्श करना, सूंघना और आस्वाद वेफ साथ आत्मसात् करना एक रचना की विधा ही बन जाए। अकारण नहीं कि इस कोलाजमय डायरी में प्राग का यात्रा-प्रसंग भी आ जुड़ा था। यहाँ एक नाट्य वृत्तांत इसका आधर बना।
    पाठकों द्वारा सराही गई और आलोचकों द्वारा बहुप्रशंसित इन डायरी कृतियों का नव्यतम पड़ाव है ‘कठिन समय में’। यहाँ 15 सितंबर, 2009 में जयपुर से प्रारंभ हुई बाह्य व अंतर्यात्रा अंततः 23 फरवरी, 2017 को भोपाल के हिंदी भवन में हुए शरद व्याख्यान तक चली आई है। पाठक यहाँ भी वही रस, प्रवाह, गहराई और अंतरंगता अनुभव करेंगे।
    शाह जी की मान्यता इस विधा पर सटीक है—‘डायरी ऐसी विधा है जिस पर परनिर्भरता लागू नहीं होती।’ वह इसे दैनंदिन घटनाओं, चरित्रों और यात्रा-प्रसंगों के लिए सही जगह मानते हैं। यहाँ आत्मसंवाद भी है और संवाद भी, किंतु एक बहुपठित, निश्छल साहित्यिक, रसिक और खोजी व्यक्ति उसमें इस तरह संलग्न रहता है कि पढ़ने वाले की समझ का आकाश और विस्तृत हो जाता है। कारण यह कि रमेशचन्द्र शाह, वस्तुतः व्यक्ति को नहीं, उसे उसकी पूरी परंपरा में देखना पसंद करते हैं। यही कारण है कि उन्हें सीमन्तनी को देख रांगेय राघव और उनकी स्फूर्ति याद हो आती है। ‘आइडेंटिफिकेशन आॅफ वुमेन’ जैसी फिल्म देखकर वह इस महाप्रश्न से जूझते हैं कि नायक को आखिर चाहिए क्या था?
    उनका संवाद समय के अपने सरीखे शिखर व्यक्तियों से चलता रहता है। वह किताबों पर टिप्पणियाँ करते हैं, तो ऐसे कि पाठक उन्हें पढ़ने की कुंजी ही पा जाएँ। जैसे श्री अरविंद वेफ ‘लाइफ डिवाइन’ और प्लेटो के ‘दि रिपब्लिक’ पर एक साथ विचार करते हुए वह अतिमानस के अवतरण की चर्चा करते हैं। सच बात तो यह है कि रमेशचन्द्र शाह की इस पाँचवीं डायरी कृति में विश्व वेफ आधुनातन व पुरातन सभी कला-क्षेत्र सहजता से आ जाते हैं। पढ़ते-पढ़ते आप समझ जाएँगे कि यह रचनाकार अपने शेष समय को ‘ही हैज रिटन द बुक आॅफ हिज लाइफ’ सरीखे रचनात्मक काम में ‘आत्मा’ नाम की असलियत का पता लगाते हुए व्यतीत करना चाहते हैं। कहना आवश्यक है कि शाह जी की यह डायरी कृति हिंदी साहित्य को अपनी तरह से समृद्ध करती है।
  • Andher Nagari : Srijan-Vishleshan Aur Paath
    Ramesh Gautam
    80 72

    Item Code: #KGP-9131

    Availability: In stock


  • Saamveda : Yuvaon Ke Liye
    Dr. Pravesh Saxena
    240 216

    Item Code: #KGP-235

    Availability: In stock

    सामवेद: युवाओं के लिए
    ‘वेद: युवाओं के लिए’ ग्रन्थमाला की दूसरी पुस्तक ‘सामवेद: युवाओं के लिए’ प्रस्तुत है। इसमें सामवेद के 93 मन्त्रों की व्याख्याएँ बिलकुल नवीन एवं मौलिक रूप से की गई हैं। आज का युवा संगीत के स्वरों पर थिरकता है, नई-नई शैलियों के गीत गुनगुनाता है। उसके लिए प्रस्तुत हैं संगीत के मूल ग्रन्थ सामवेद के मन्त्र। इन मन्त्रों के अर्थ भी जीवन के लिए प्रेरणास्पद हैं। संगीत की वाणी सबको मुग्ध कर देती है। सामवेद वाणी की विशेषताओं को रेखांकित करता है। मधुर वाणी बोलने को प्रेरित करता है। नवसृजन के गीत जीवनप्रवाह को गति देते हैं, आनन्दित करते हैं। मौसम की विशेषताएँ, विश्रामदायिनी रात, पशु-प्रेम जैसे नवीन विषय यहाँ चर्चित हुए हैं। अतः युवाओं के साथ-साथ बड़ों के लिए भी (जो मन से युवा हैं) यह पुस्तक प्रस्तुत है।
  • Yajurveda : Yuvaon Ke Liye (Paperback)
    Dr. Pravesh Saxena
    160

    Item Code: #KGP-241

    Availability: In stock

    यजुर्वेद : युवाओं के लिए 
    'वेद : युवाओं के लिए' ग्रन्थमाला की तीसरी पुस्तक 'यजुर्वेद : युवाओं के लिए' प्रस्तुत है । इसमें यजुर्वेद के 112 मन्त्रों को ऋग्वेद की तरह दस शीर्षकों के अंतर्गत समाहित किया गया है । ज्ञान-शिक्षा, स्वास्थ्य-योग, मानसिक स्वास्थ्य, धर्म-नैतिकता, अर्थ-धनैश्वर्य, घर-परिवार, समाज, राष्ट्र, पर्यावरण तथा वैश्विकता जैसे विषयों पर इन मन्त्रों के माध्यम से चर्चा हुई है । यजुर्वेद मुख्यतः कर्म से सम्बद्ध है । यह 'कर्म' यज्ञ है, जिसे यहाँ श्रेष्ठतम बताया गया है । पारम्परिक दृष्टि से 'यज्ञ' का सीमित अर्थ होता है — अग्नि में आहुति देना । परन्तु 'यज्ञ' का व्यापक अर्थ भी है, जहाँ समर्पण भाव मुख्य रहता है । अतः समाजोपयोगी सभी कर्म यघ के अंतर्गत आ जाते हैं । 
    इन मन्त्रों ऐसा यघ, दीघार्यु व धन-सम्पति तथा सुरक्षादि पाने  प्रार्थनाएं हैं । क्रीड़ा, योगादि शारीरिक तथा मानसिक स्वास्थ्य के लिए आवश्यक हैं । धर्म कर्तव्य तथा नैतिकता से जुड़ा है । यह लोभ प्रवृत्ति ही है, जिससे संसार में उपभोक्तावाद के बढ़ावा मिलता है । बल्ह के कारन एक ओर भय व आतंक पनपते हैं तो दूसरी ओर पर्यावरण प्रदुषण होता है । आधुनिक युग में यज्ञपरक जीवन परोपकार भावना से युक्त मानव-जनों की अपेक्षा है । शांति, विश्रांति और आनंद की चाह है सबको । वह कैसे मिले ? यही मंत्र निर्देश करते हैं । 'विश्व-शांति' के लिए किया जाने वाला 'शांतिपाठ' इसी वेद की देन है । 
    यह पुस्तक उन सभी के लिए भी है, जो 'मन के युवा हैं' तथा प्राचीन ज्ञान को आधुनिक सन्दर्भों में समझना चाहते हैं । 
  • Yah Raag Kathin
    Sudhir Mota
    180 144

    Item Code: #KGP-9269

    Availability: In stock

    एक राग के विस्तर की तरह सुधीर मोता का यह संग्रह और नई अनुगूंजें बिखेरता है। जीवन में अनुरक्तियां और लय साथ-साथ चलती हैं। इस तय में प्रवेश जितना सुगम होता है, उसकी चढ़ान उतनी सरल नहीं होती। इस दुर्गमता में व्यक्ति ठिठकता तो है, उन्हीं में आनंद भी पाता है। ‘एक बिंदु-सा ओझल कहां दिख रहा’ से विस्तरित होते-होते वह ‘इस विराट ब्रह्मांड में केवल अपने होने की बात’ नहीं कह रहा, अपने आलाप में वह समूचे जगत् को समेटता चलता है।
    अपने विषय-वैविध्य में ये कविताएं इस काल की दुर्निवारियों को सहज गम्य शैली में कह जाती हैं। जीवन में प्रेम और अनुभवों के ताप को उजागर करने करने वाला कवि जीवन-संगीत के प्रति अपने अनुराग को उसकी कठिनाइयों में सुख पाते हुए सम्बल के रूप में देखता है। ये कविताएं बिना शब्दों के अपव्यय के कहीं छोटी-सी बात के मर्म को विस्तार देकर तो कहीं बहुत स्थूल विषय को थोड़े से में इस तरह कह जाती हैं कि एक विशाल फलक पर जीवन के बहुतेरे पात्र विविध रंगों में अपनी-अपनी लय में थिरकते दिखाई देते हैं। 
  • Anuvaad Ki Vyavharik Samasyaen
    Sudhir Mota
    290 261

    Item Code: #KGP-749

    Availability: In stock

    अनुवाद की व्यावहारिक समस्याएँ
    आज के विश्व में अनुवाद का महत्व दिनोदिन बढ़ता जा रहा है , और जैसे-जैसे विश्व की विभिन्न भाषाओं का साहित्य समृद्ध होता जाएगा, अनुवाद का महत्त्व और भी बढ़ता जाएगा।  ऐसी स्थिति में किसी भी भाषा की समृद्धि के लिए यह आवश्यक है कि उसमें अधिकाधिक अच्छे अनुपाद हों। हिंदी में सर्वाधिक अनुवाद अंग्रेजी से  होते हैं, किन्तु अभी तक कोई भी ऐसी पुस्तक नहीं आई, जिससे अंग्रेजी से हिंदी अनुवाद का अभ्यास किया जा सके। प्रस्तुत पुस्तक इसी कमी को पूरा करने के लिए प्रकाशित की जा रही है। इससे प्रारंभ  में अनुवाद के सिद्धात तथा उसके प्रयोग के संबंध में व्यवहारिक जानकारी दी गई है फिर स्तरित अनुवाद-सामग्री दी गई है तथा अंत में कुछ विशिष्ट अभिव्यक्तियों के अनुवाद पर संक्षिप्त चर्चा है ।
    इस प्रकार यह पुस्तक अपने छोटे से आकार में अनुवाद का अध्यासार्थ अपेक्षित सभी बातों से चुका है। आशा है, अनुवाद का अभ्यास करने वालों के लिए यह उपयोगी सिद्ध होगी।
  • Dus Pratinidhi Kahaniyan : Uday Prakash (Paperback)
    Uday Prakash
    175

    Item Code: #KGP-377

    Availability: In stock

    दस प्रतिनिधि कहानियां : उदय प्रकाश 
    'दस प्रतिनिधि कहानियाँ' सीरीज़ किताबघर प्रकाशन की एक महत्त्वाकांक्षी कथा-योजना है, जिसमें हिन्दी कथा-जगत् के सभी शीर्षस्थ कथाकारों को प्रस्तुत किया जा रहा है ।
    इस सीरीज़ में सम्मिलित कहानीकारों से यह अपेक्षा की गई है कि वे अपने संपूर्ण कथा-दौर से उन दस कहानियों का चयन करें, जो पाठको, समीक्षकों तथा संपादकों के लिए मील का पत्थर रही हों तथा ये ऐसी कहानियाँ भी हों, जिनकी वजह से उन्हें स्वयं को भी कहानीकार होने का अहसास बना रहा हो। भूमिका-स्वरूप कथाकार का एक वक्तव्य भी इस सीरीज़ के लिए आमंत्रित किया गया है, जिसमें प्रस्तुत कहानियों को प्रतिनिधित्व सौंपने की बात पर चर्चा करना अपेक्षित रहा है ।
    किताबघर प्रकाशन गौरवान्वित है कि इस सीरीज़ के लिए सभी कथाकारों का उसे सहज सहयोग मिला है। इस सीरीज़ के महत्त्वपूर्ण कथाकार उदय प्रकाश  ने प्रस्तुत संकलन में अपनी जिन दस कहानियों को प्रस्तुत किया है, वे हैं: ‘मौसाजी’, ‘टेपचू’, ‘तिरिछ’, ‘अरेबा-परेबा’, ‘राम सजीवन की प्रेम-कथा’, ‘डिबिया’, ‘हीरालाल का भूत’, ‘दिल्ली की दीवार’, ‘...और अंत में प्रार्थना’ तथा ‘वारेन हेस्टिंग्स का सांड’।
    हमें विश्वास है कि इस सीरीज़ के माध्यम से पाठक सुविख्यात लेखक उदय प्रकाश  की प्रतिनिधि कहानियों को एक ही जिल्द में पाकर सुखद पाठकीय संतोष का अनुभव करेंगें ।
  • Jeevanopayogi Jari-Bootiyan (Paperback)
    Dr. Rajiv Sharma
    180 144

    Item Code: #KGP-7069

    Availability: In stock

    जीवनोपयोगी जड़ी-बूटियाँ 
    जड़ी-बूटियाँ शब्द सुनते ही हमें लगना है कि सुदूर जंगल में पहुँचकर कुछ पेड़-पौधों की खोज करनी पडेगी, जबकि हमारे आसपास दैनिक उपयोग की इतनी वनस्पतियां  मौजूद है कि उनके द्वारा सामान्य रोगों का उपनार हम स्वयं घर पर ही आसानी से कर सकते है ।
    तुलसी, लहसुन, अश्वगंधा, अशोक, अर्जुन. हींग, बिल्व (बेल), कनेर, मुलहठी, त्रिफला, सौंठ, कुकरौंदा, शिलाजीत, आँवला नीम, महुआ, हुरहुर, अरण्ड, सर्पगंधा, अमलतास आदि सैकडों जड़ी-बूटियाँ हैं, जो हमारे स्वास्थ्य के लिए बहुत ही उपयोगी हैं और आसानी ये उपलब्ध भी ।
    प्रस्तुत पुस्तक में प्रख्यात चिकित्साविज्ञ ने लगभग ढाई सौ उपयोगी जड़ी-बूटियों के गुणों, उपयोग तथा उनकी प्रकृति आदि के बारे में विस्तार से बताया है । पुस्तक को संपूर्ण सूचनाप्रद बनाते हुए सैकड़ों जड़ी-बूटियाँ के चित्र भी पुस्तक में ममाहित किए गए है ।
    निस्संदेह, यह पुस्तक आम पाठक के लिए तो स्वास्थ्य-रक्षा व घरेलू नुस्खों को जानने की दृष्टि से उपयोगी है ही, जिज्ञासु पाठकों की ज्ञान-पिपासा को संतुष्ट करने में भी सक्षम है, क्योंकि इसमें ज़डी-बूटियों के बारे में अत्यंत  सरल भाषा में विस्तृत जानकारी दी गई है । कहना न होगा कि निजी एवं सार्वजनिक पुस्तकालयों के लिए तो यह अनिवार्य ग्रंथ है ।
  • 101 Amar Kathayen
    Prem Kishore Patakha
    300 270

    Item Code: #KGP-278

    Availability: In stock

    हाँ, शब्द भी महकते हैं और महकते शब्दों की आयु भी अनंत काल तक रहती है । शब्द और फूलों में बस एक ही अंतर नज़र आता है — शब्द महकते हैं तो महकते रहते हैं और फूल कुछ समय के बाद कुम्हला जाते हैं और अपनी महक खो देते हैं । 
    कुछ ऐसे ही महापुरुषों, संतों के विचार-संस्मरण महकती फुलवारी के समान यहाँ संजोकर आपके लिए लाये हैं । शायद किसी शब्द की महक आपका जीवन महका दे । सुगंध बनकर आपके मन और प्राण की वंशी के स्वर फूट पड़ें । 

  • Katha Aur Samay Ka Sach
    Nirmla Jain
    325 293

    Item Code: #KGP-776

    Availability: In stock

    हिंदी कथा साहित्य में ऐसी अनेक रचनाएं हैं जिन्होंने रचनात्मक उत्कर्ष के कीर्तिमान निर्मित किए हैं। इस परिप्रेक्ष्य में यह विचित्र लग सकता है कि आज तक कथा आलोचना के सर्वमान्य प्रतिमान निर्मित नहीं हो सके। अनेक वाचिक वैभव संपन्न और विमर्श निष्णात आचार्यों ने असहमति व्यक्त करते हुए भी कविता के प्रचलित प्रतिमानों से ही प्रायः कथा साहित्य का मूल्यांकन किया। इस दिशा में मौलिक कार्य करने का श्रेय जिन आलोचकों को दिया जा सकता है उनमें डा. निर्मला जैन का नाम अग्रणी है। निर्मला जैन ने साहित्य का अनुशासित अध्ययन करते हुए कथा रचना के चित्त व चरित्र को परखने का महत्त्वपूर्ण कार्य किया है। आज उनकी प्रतिष्ठा गंभीर, तर्कसंपन्न, आधुनिक व प्रखर आलोचक के रूप में है। ‘कथा और समय का सच’ पुस्तक इस संदर्भ में रेखांकित करने योग्य है।
    यह गौरतलब है कि रचनाकार पर बेजा प्रश्न उठाने के स्थान पर डा. जैन आलोचना के संकट पर बात करते हुए ‘आलोचक का दुःख: बतौर भूमिका’ में लिखती हैं, ‘जाहिर है संकट आलोचक के सामने भी है–विज्ञापनधर्मी भाषिक छल और पैंतरेबाजी से बचते हुए–सही-गलत, अच्छे-बुरे, वास्तविक छद्म, महत्त्वपूर्ण-महत्त्वहीन, जरूरी-गैरजरूरी के बीच अंतर करने का विवेक, और चाहिए मूल्यपरक निर्णय की अभिव्यक्ति का साहस। ऐसे निर्णय से बचने की कोशिश आलोचकीय पाखंड के अलावा कुछ नहीं हो सकती।’
    पुस्तक में प्रेमचंद, निराला, जैनेन्द्र की कहानियों के अतिरिक्त अनेक चर्चित उपन्यासों पर डा. निर्मला जैन ने विस्तृत विचार किया है। महिला कथाकारों के बहाने उत्तरशती के उपन्यासों पर भी चर्चा है। यह पुस्तक कृति का अंतरंग खोलने के साथ पाठक में आलोचनात्मक दृष्टि विकसित करती है। महत्त्वपूर्ण व मूल्यवान पुस्तक।
  • Ikkisveen Sadi : Kavita Aur Samaj
    Jagdish Narayan Shrivastva
    690 621

    Item Code: #KGP-1550

    Availability: In stock

    ‘आज जैसा कष्ट है, उसमें सबसे बड़ी चुनौती तो कवि की ही है। हर युग के कवि को कोई न कोई चुनौती मिलती रही है, चाहे समाज की परंपरा दे, चाहे दर्शन दे, चाहे राजनीति दे लेकिन सबको मिलाकर इतनी बड़ी चुनौती कभी नहीं मिली, जो आज मिली है। हर देश के कवि को मिली है, हमारे देश के कवि को ही नहीं मिली है। ‘अस्ति-नस्ति’ के बीच में अगर हम रोक सकें ध्वंस को तो जीवन बच जाएगा। न रोक सकेंगे तो जीवन जाता रहेगा।...
    यहां नई पीढ़ी के कवि हैं, पुरानी के भी हैं।...दो पीढ़ियां न सामने हों तो चलता नहीं है।...कवियों की नई पीढ़ी पुरानी पीढ़ी जब मित्र की तरह सामने होती हैं तब शायद बड़ा साहित्य बनता है और अगर दोनों लड़ते हैं तो उनकी लड़ाई ही समाप्त हो जाती है।
    जो आज का कवि है वह आज की परिस्थिति को देखे लेकिन युगबोध के साथ वह युगांतरबोध को भी जाने। कविता लिखना एक सामाजिक कर्म तो है ही। समान गति रखता हो वह समाज है, कवि उसी से आता है और उसकी व्यथा जानता है। सुख-दुःख जानता है। चेतना के अनेक स्तर हैं, उनमें एक सहचेतना है। अपने युग को समझने के लिए और बहुत से कर्म के संस्कार इनमें हैं, जो अब चेतना है। अपने युग को समझने के लिए एक पराचेतना भी है। ये सब चेतनाएं एक साथ कविताओं में मिल जाती हैं, तब हमें एक बड़ा कवि मिलता है। इसलिए युगबोध तो है ही आपका, युगांतरबोध भी होगा आपके पास।...जब ये सब मिलते हैं तो एक महान् कवि आता है।
    चिंतन सिर्फ बुद्धि की प्रक्रिया है पर अनुभूति सिर्फ बुद्धि की प्रक्रिया नहीं है। बड़ा कवि होने के लिए विशाल अनुभूति होती है, भाषा-संवेदना होती है, आंसू भी होंगे, हंसी भी होगी।
    ‘कविर्मनीषी परिभू स्वयंभू’--इससे बड़ी परिभाषा नहीं है कवि की क्योंकि वह मनीषी है, सब कालों को मिलाकर देखता है, वह परिभू है, सबमें, सबके हृदय को जानता है और स्वयंभू होता है।...
    भाषा-भाव-अनुभूति विलक्षण हो तो आप पूरी समष्टि को बना सकेंगे। पर उसके पहले आपकी कविता पहले आपको बनाएगी। जो कविता आपको नहीं बना सकती, वह किसी को नहीं बनाएगी।’
    ---महादेवी
  • Krantiveer Savarkar
    Chandrika Prasad Sharma
    150 135

    Item Code: #KGP-182

    Availability: In stock

    इस धरा पर कुछ जन्मभूमि का उद्धार करने के लिए उत्पन्न होते हैं तो कुछ संसार में अपने देश का गौरव बढाने के लिए । स्वर्ग से भी श्रेष्ठतर मानी जाने वाली जन्मभूमि के उद्धार के लिए जो अपने प्राणों को राष्ट्रसेवा में न्यौछावर कर देते हैं, उन्हीं का जन्म धरा पर सार्थक है ।
    'क्रांतिवीर सावरकर' एक ऐसे ही महापुरुष थे, जिन्होंने अपने शरीर का कण-कण देश-सेवा में अर्पित कर दिया । चाहे देश से रहे हों या विदेश में, उनके सन्मुख मातृभूमि का पावन चित्र सदैव रहता था । जीवन को उन्होंने जन्मभूमि की सेवा में अर्पित कर दिया ।
    जहाज से अतल जलराशि वाले सागर में कूदकर फ्रांस के तट पर दम लिया । अंडमान की सेल्युलर जेल में एकाकी कोठरी में कैद के दस वर्ष व्यतीत किए । कोल्हू में बैल की तरह जुतकर सुबह से शाम तक तेल पेरते रहे और अंग्रेजों के डंडे सहते रहे ।
    यह सब उन्होंने भारत की स्वतंत्रता के लिए सहन किया था । यह क्रांतिकारी वीर योद्धा थे । अपनी जन्मभूमि की स्वतंत्रता के लिए उन्होंने अनेक प्रकार की शारीरिक-मानसिक यातनाएँ सहीं । भारत की स्वतंत्रता उन्हें प्राणों से अधिक प्यारी थी ।
    ऐसे महापुरुषों का देश युग-युग तक स्वागत करता रहेगा । हमें उन पर सदैव गर्व रहेगा । वे अजर-अमर है । उनके सम्मान में देशवासियों का मस्तक सदैव झुका रहेगा । हम उनकी जयजयकार करते हैं ।
  • Vyangya Samay : Ravindranath Tyagi (Paperback)
    Ravindra Nath Tyagi
    225

    Item Code: #KGP-7218

    Availability: In stock

    रवीन्द्रनाथ त्यागी का रंग व्यंग्य में सबसे निराला है। उनका अध्ययन व्यापक था। स्मृति अच्छी होने से संदर्भ सामने रहते थे। संदर्भों को प्रसंग देकर रचने की विलक्षण योग्यता उनके पास थी। यही कारण है कि त्यागी के व्यंग्य पढ़ते हुए पाठक को आनंद के साथ ज्ञान भी उपलब्ध होता है। बतरस इतना है कि गांव की गोरी पर लिखते हुए प्राकृत से लेकर पेरिस तक अभिव्यक्ति का विस्तार हो सकता है। व्यंग्य में सहज हास्य के वे आचार्य हैं। दफ्रतरशाही,  शृंगार, प्रकृति और अद्भुत तथ्य–प्रायः इन क्षेत्रों से वे विषय चुनते हैं। संस्कृत और अन्य भाषाओं से उद्धरण देते हुए त्यागी व्यक्तिगत समस्याओं से लेकर राष्ट्रीय प्रश्नों तक बात करते हैं। कई बार लगता है कि उनके लेखन का उद्देश्य निर्मल हास्य की सृष्टि करना है। यह कठिन काम उन्होंने सरलता से किया है। हास्य में आ जाने वाली दुराग्रही वृत्ति उनके लेखन में नहीं है। वे सिद्धांतो से नहीं, आसपास के तथ्यों या व्यक्ति वैचित्रय से हास्य के क्षण निर्मित करते हैं। ‘व्यंग्य समय’ में रवीन्द्रनाथ त्यागी के चयनित व्यंग्य उनके विस्तृत व्यंग्य लेखन से कुछ उदाहरण प्रस्तुत करते हैं। पाठकों को रचनाकार को समग्रता में पढ़ने और पुनः पाठ के लिए प्रेरित करने का उद्देश्य भी इस उपक्रम में निहित है।
  • Shatabdi Ki Kaaljayi Kahaniyan (Vol.-3)
    Kamleshwar
    625 563

    Item Code: #KGP-1578

    Availability: In stock


  • Geeton Ke Indradhanush
    Sher Jung Garg
    50

    Item Code: #KGP-1210

    Availability: In stock


  • Dus Pratinidhi Kahaniyan : Mannu Bhandari
    Mannu Bhandari
    260 221

    Item Code: #KGP-845

    Availability: In stock

    'दस प्रतिनिधि कहानियाँ' सीरीज़ 'किताबघर' की एक महत्त्वाकांक्षी कथा-योजना है, जिसमें हिन्दी कथा-जगत् के सभी शीर्षस्थ कथाकारों को प्रस्तुत किया जा रहा है ।
    इस सीरीज़ में सम्मिलित कहानीकारों से यह अपेक्षा की गई है कि वे अपने संपूर्ण कथा-दौर से उन दस कहानियों का चयन करें जो पाठको, समीक्षकों तथा संपादकों के लिए मील का पत्थर रही हों तथा ये ऐसी कहानियाँ भी हों जिनकी वजह से उन्हें स्वयं को भी कहानीकार होने का अहसास बना रहा हो। भूमिका-स्वरूप कथाकार का एक वक्तव्य भी इस सीरीज़ के लिए आमंत्रित किया गया है, जिसमें प्रस्तुत कहानियों को प्रतिनिधित्व सौंपने की बात पर चर्चा करना अपेक्षित रहा है ।
    'किताबघर' गौरवान्वित है कि इस सीरीज़ के लिए अग्रज कथाकारों का उसे सहज सहयोग मिला है। इस सीरीज़ के अत्यन्त महत्त्वपूर्ण कथाकार मन्नू भंडारी ने प्रस्तुत संकलन में अपनी जिन दस कहानियों को प्रस्तुत किया है, वे हैं : 'अकेली', 'मजबूरी', 'तीसरा आदमी', 'नई नौकरी', 'असामयिक मृत्यु', 'बन्द दराजों का साथ', 'क्षय', 'तीसरा हिस्सा', 'त्रिशंकु' तथा 'शायद' ।
    हमें विश्वास है कि इस सीरीज़ के माध्यम से पाठक सुविख्यात कथाकार मन्नू भंडारी की प्रतिनिधि कहानियों को एक ही जिल्द में पाकर सुखद पाठकीय संतोष का अनुभव करेंगें ।
  • Dharmik Kathayen
    Jagat Ram Arya
    150 135

    Item Code: #KGP-108

    Availability: In stock

    धार्मिक कथाएं

    एक दन ब्राह्मण ने मार्ग पर चलते हुए एक हीरा, जिसकी कीमत एक लाख थी, पड़ा आया। वह साधारण रूप से ही हरे को लिए हुए जा रहा था कि उधर आगे की ओर से एक जौहरी जगह-जगह भूमि को देखता हुआ आ रहा था और विशेष व्याकुल था। इतने में ब्राह्मण ने उसे व्याकुल देखकर कहा कि जौहरी भाई, तू व्याकुल क्यों है? देख, एक हीरा हमने पाया है। तेरा हो तो तू ले ले। यह कहकर जौहरी को हीरा दे दिया। अब जौहरी कहने लगा कि मेरे तो दो हीरे थे, इसलिए एक तो तूने दे दिया, दूसरा भी दे दे, तब मैं तुझे छोड़ूंगा। उस जौहरी ने ब्राह्मण को पुलिस के हवाले कर अपना मुकदमा अदालत में दे दिया। वहां अफसर ने उस ब्राह्मण से पूछा कि कहो भाई, क्या मामला है? उसने कहा कि मैं मार्ग में आ रहा था कि मुझे एक हीरा पड़ा मिला। मैं साधारण रूप से जा रहा था तभी उधर से यह कुछ ढूंढ़ता हुआ व्याकुल सा आ रहा था। मैंने इससे पूछा, क्या हे? तब इसने कहा कि मेरा एक हीरा खो गया है। मैंने वह हीरा इसे देकर कहा कि देखो, यह एक हीरा मैंने पाया है। यदि तुम्हारा हो तो ले लो। तब इसने ले लिया और अब यह कहता है कि मेरे तो दो हीरे थे। पुनः अफसर ने सेठ जी से पूछा। तब सेठ जी बोले कि मेरे तो दो हीरे थे जो मार्ग में गिर पड़े थे। उनमें से एक तो इसने दे दिया, पर एक नहीं देता है। अफसर ने समझाया कि यह ब्राह्मण यदि अपने ईमान का पक्का न होता, तो इतना दीन होते हुए एक भी क्यांे देता? अतः यह फैसला किया कि वह हीरा ब्राह्मण को दे दिया जाए। वह जौहरी का नहीं, क्योंकि इसके तो दो हीरे एक साथ गिरे थे, सो इसके कहीं और होंगे। तब तो सेठ बोले कि सरकार, तो मुझे एक ही दिला दिया जाए। तब अफसर ने कहा कि अब तुमहो नहीं मिल सकता।
    —इस संग्रह की ‘सत्यमेव जयते’ कथा
  • Ek Sur Mera-Ek Saarangi Ka
    Pandit Ram Narayan
    195 176

    Item Code: #KGP-2069

    Availability: In stock

    एक सुर मेरा-एक सारंगी का
    पंडित रामनारायण ऐसे पहले कलाकार हैं, जिनके माध्यम से सारंगी वाद्य का पुनर्जन्म हुआ, इस वाद्य को लंबे समय से खोई हुई अपनी सांस्कृतिक पहचान मिली ।
    सारंगी वाद्य को लेकर यदि इस महापुरुष की सही में किसी से तुलना की जा सकती है तो पाश्चात्य संगीत के महान् वॉयलिनवदक पागानीनी, जिन्होंने वॉयलिन की वादनशेली में आमूलचूल परिवर्तन कर नये सिरे से वादनशैली को स्थापित किया । दूसरे महान संगीतज्ञ रेस्ट्रो पस्वीज और तीसरे यहूदी मेनुहिन जैसे महारथी संगीतज्ञों से ही उनकी तुलना की जा सकती है । 
     यदि धनुर्वाद्य के इस महापंडित एवं आचार्य के बारे में  संक्षेप से कुछ कहा जाए तो उनकें वाद्य से जिस तरह की ध्वनि  (साउंड) संचारित हुई, वैसी आज तक किसी अन्य वादक के वाद्य में नहीं सुनी गई । गज के संचालन को लेकर सार्थक अनुसंधान करते हुए पंडित जी ने जो तकनीक विकसित की वो किसी अन्य वादक की क्षमता और कल्पना से बाहर की बात सिद्ध हुई । फिर आलाप की बात करें तो पंडित जी ने अपनी अद्भुत सोच से इसमें एक-एक स्वर का प्रयोग समझदारी के साथ करते हुए संपूर्ण आलाप में लय का समावेश करते हुए उसे नए ढंग से परिभाषित किया और विलक्षण जोड़ की परिकल्पना सारंगी जैसे वाद्य से साकार किया । पंडित जी ने जिस राग को छुआ, उसकी शुद्धता को कायम रखते हुए उसे नए आयाम दिए। इसके अतिरिक्त विलंबित 'गत' अथवा रचनाओं को बजाने का उन्होंने अपना अलग कौशल और इन रचनाओं से बजने वाले एक-एक 'बोल' का लय में कुशलता के साथ गुँथा होना, तानों की विविधता और उनमें विलक्षण द्रुतगति, जो आज तक न देखी, न सुनी गई और इस सब पर आत्मा को छू जाने वाले स्वरों जैसी कुछ चंद विशेषताओं ने उन्हें इस वाद्य का आचार्य एवं महापंडित बना दिया ।
  • Bachcho Achchhe Bano
    Prakash Narayan Natani
    200 180

    Item Code: #KGP-317

    Availability: In stock


  • Chasing Maya (Novel)
    Rohan Gagoi
    395 356

    Item Code: #KGP-606

    Availability: In stock

    Better jobs, bigger salaries, expensive cars, exclusive homes, exotic vacations, shopping abroad, admiration and jealousy of peers... What more can you expect from life! Or, may be, you can…! Come; explore your truth with ‘Chasing Maya’!
    ‘Chasing Maya’ is about thirty-two-year old Siddhartha Kumar, who in spite of his evident material success finds himself trapped in the grip of mediocrity – the distress and despair of being no different from millions of others in this world. Bemused, he sets on a quest to rediscover the zeal that once fuelled his dreams and passion and comes across with situations and people that lead him to astounding revelations.
    Share the anxiety, live the excitement and experience the magical transcendence as ‘Chasing Maya’ takes you on an incredible journey that every human soul instinctively seeks to undertake but only a negligible few truly succeed to accomplish!
  • Nahin Koi Ant
    Pratap Sehgal
    80 72

    Item Code: #KGP-1300

    Availability: In stock


  • Aadi Jagadguru Shankaracharya
    Chandrika Prasad Sharma
    125 113

    Item Code: #KGP-9009

    Availability: In stock


  • Aaj Aur Abhee
    Ramesh Chandra Shah
    220 198

    Item Code: #KGP-406

    Availability: In stock

    ...डायरी इतनी अंतरंग होती है कि आप खुद जैसे अपनी आत्मा से बात कर रहे हों। तो इसे छपने के लिए क्यों दे देते हैं। आखिर क्या बात है कि हमें जरूरी लगता है कि यह छपना चाहिए। ...रमेशचन्द्र शाह जी की डायरी के कुछ अंश पढ़ लेने के बाद मुझे लगा कि जो मैं आगे लिखने वाला था, वह अब नहीं लिखूँगा। कारण, कि इतना अंतरंग है यह। सुनिए 5 मार्च, 1982 की डायरी का एक अंश: 
    आड़ू के फूलों की गंध..., नीबू की पत्तियों की गंध,...कालिका मंदिर के पिछवाड़े नारंगी की गंध, लकड़ियों के पूले बाँधते हुए, चिरे हुए रामबाँस की गंध,...किलेखाई के निंगाले की गंध,...हनुमान मंदिर में साधुओं के चिलम की गंध,...चमेली और चरणामृत की गंध,...बाबू की जेब से तंबाकूमिले प्रसाद की गंध,...जाने कितनी और तरह-तरह की गंध...
    मुझे लगता है कि हमारी पूरी जिंदगी और आसपास की जिंदगी की सारी जितनी महकें हो सकती हैं,...उन महकों को...डायरी की अंतरंगता के साथ जब वे आती हैं तो मुझे लगता है कि जैसे हमारा अपना भारत, हमारी अपनी धरती, हमारा अपना घर, हमारा अपना खेत, हमारा अपना मंदिर और हमारे अपने फल एकाएक महकने लगते हैं। कुल दस पंक्तियाँ इतनी गहरी बात कह जाती हैं कि लगता है कि समूची पूरी पहचान ये छोटी-छोटी सी पंक्तियाँ ही दे देती हैं। ...डायरी कभी-कभी वह बात कह जाती है जो बात और कोई नहीं सह सकता। लेकिन डायरी का कागज कहीं न कहीं वह बात सह लेता है और सहने के साथ-साथ आपको बर्दाश्त करने का धीरज भी दे देता है। मुझे लगता है कि यह भी डायरी का एक बहुत बड़ा सार्थक पक्ष है। 
    -कमलेश्वर (समकालीन साहित्य समाचार, जनवरी, 2007)
  • Dus Pratinidhi Kahaniyan : Amrita Pritam
    Amrita Pritam
    140 126

    Item Code: #KGP-12

    Availability: In stock


  • Alif Laila Hazar Dastan
    Amrita Pritam
    160 144

    Item Code: #KGP-7822

    Availability: In stock


  • Dus Pratinidhi Kahaniyan : Phanishwar Nath Renu
    Phanishwarnath Renu
    225 203

    Item Code: #KGP-556

    Availability: In stock

    'दस प्रतिनिधि कहानियाँ' सीरीज़ किताबघर प्रकाशन की एक महत्त्वाकांक्षी कथा-योजना है, जिसमें हिन्दी कथा-जगत् के सभी शीर्षस्थ कथाकारों को प्रस्तुत किया जा रहा है ।
    इस सीरीज़ में सम्मिलित कहानीकारों से यह अपेक्षा की गई है कि वे अपने संपूर्ण कथा-दौर से उन दस कहानियों का चयन करें, जो पाठको, समीक्षकों तथा संपादकों के लिए मील का पत्थर रही हों तथा ये ऐसी कहानियाँ भी हों, जिनकी वजह से उन्हें स्वयं को भी कहानीकार होने का अहसास बना रहा हो। भूमिका-स्वरूप कथाकार का एक वक्तव्य भी इस सीरीज़ के लिए आमंत्रित किया गया है, जिसमें प्रस्तुत कहानियों को प्रतिनिधित्व सौंपने की बात पर चर्चा करना अपेक्षित रहा है ।
    किताबघर प्रकाशन गौरवान्वित है कि इस सीरीज़ के लिए सभी कथाकारों का उसे सहज सहयोग मिला है। इस सीरीज़ के महत्त्वपूर्ण कथाकार फणीश्वरनाथ रेणु के प्रस्तुत संकलन में जिन दस कहानियों को प्रस्तुत किया है, वे हैं : 'रसप्रिया', 'नैना जोगिन', 'तीर्थोदक', 'तॉबे एकता चलो रे', 'एक श्रावणी दोपहरी की धूप', 'पुरानी कहानी : नया पाठ', 'भित्तिचित्र की मयूरि, 'आत्म-साक्षी', 'एक आदिम रात्रि की महक' तथा 'तीसरी कसम, अर्थात् मारे गए गुलफाम'  ।
    हमें विश्वास है कि इस सीरीज़ के माध्यम से पाठक सुविख्यात लेखक फणीश्वरनाथ रेणु की प्रतिनिधि कहानियों को एक ही जिल्द में पाकर सुखद पाठकीय संतोष का अनुभव करेंगें ।
  • Jeet Ki Raah (Paperback)
    Swed Marten
    100

    Item Code: #KGP-1312

    Availability: In stock

    पुस्तक में स्वेट मार्डन जैसे महान् व्यक्तित्व के आधुनिक विचारों के साथ भारतीय संस्कृति एवं परंपराओं से प्रेरित विचारों का मिला-जुला संगम है, ठीक गंगा-यमुना की भाँति पावन व पवित्र । एक जोर से विद्धान् स्वेट मार्डेन की विचाररूपी गंगा एवं दूसरी ओर से भारतीय विचारों की सरिता यमुना का जल आकर मिल गया है इस 'जीत की राह' में।
    इस पुस्तक का वास्तविक शीर्षक है 'जीत की राह', परंतु इससे अधिक आकर्षक है 'स्वेट मार्डन : सूक्तियाँ व प्रेरक विचार'।  इस पुस्तक में स्वेट मार्डन की तीन पुस्तकों क्रमश 'The Conquest of Worry', 'He can who think he can', 'To succeed in Life' में से उनकी सूक्तियाँ व प्रेरक विचार संगृहीत किए गए हैं।
  • Shiksha : Lakshya Aur Siddhant
    Jagat Ram Arya
    60 54

    Item Code: #KGP-9128

    Availability: In stock

    भारत की आजादी के लिए लाखों लोग शहीद हुए। उनके मन में यही तमन्ना थी कि अपना राज्य आएगा और हम अपने ढंग से देश में शिक्षा-नीति का निर्धारण करेंगे, बाल एवं युवा शक्ति में चरित्र-निर्माण द्वारा नई जागृति पैदा करेंगे, राष्ट्रभाषा हिंदी को पूरा प्रोत्साहन देंगे और वैज्ञानिक एवं तकनीकी क्षेत्रों में हिंदी भाषा को लागू किया जाएगा ताकि हम अपनी ही राष्ट्रभाषा में इसे तैयार कर सकें। आजादी के लिए शहीद हुए लोगों के दिलों में तड़प भी कि हम अमीरी-गरीबी के भेदभाव को मिटाकर समान विद्यालय पद्धति को अपनाएंगे। सभी वर्गों के लोगों के लिए शिक्षा के समान अवसर दिए जाएंगे। हम अपनी धरोहर संपत्ति ‘वेदों’ से नए-नए आविष्कार करेंगे जैसाकि विदेशों में जर्मनी, इटली, फ्रांस इत्यादि देशों ने संस्कृत में लिखे वेदों में से कई खोजें कीं। जर्मनी, फ्रांस, चीन और जापान ने अपनी ही भाषा में विज्ञान एवं तकनीकी क्षेत्रा में उन्नति की है तो हम भी अपनी भाषा हिंदी में ही इस शिक्षा को अनिवार्य बनाएंगे और अपनी ही भाषा में वैज्ञानिक एवं तकनीकी शब्दावली तैयार करके प्रत्येक क्षेत्र में अपनी ही भाषा द्वारा उन्नति करेंगे। लेकिन वर्तमान में ऐसा नहीं हुआ। शिक्षा के क्षेत्र में भविष्य के लिए हमारे पास न कोई ठोस लक्ष्य है और न कोई सिद्धांत है।
    प्रस्तुत पुस्तक में सरल व रुचिकर शैली में इन्हीं समकालीन समस्याओं का खुलासा तथा विश्लेषण किया गया है।
  • Thus Spake Lord Krishna (Paperback)
    Shiv K. Kumar
    99

    Item Code: #KGP-1182

    Availability: In stock

    Only he whose hands are steady on the steering wheel of his mind and body and is in full control of his desires, can carry the wisdom's mark on his forehead. To such an enlightened mind, the darkness of the night glows like a sunlit day, dark ignorance yielding to bright knowledge. Nothing can hoodwink his all-perceiving eyes. A genuine saint is such a man blessed by the Gods.
    Like the deep sea, he absorbs an insurgent flood but does not let its shore-line be deflected. It welcomes rivers from all directions but is not overwhelmed by them—its underworld remains undisturbed because its centre can always hold.
    So, O blessed Prince, throw away the yoke of your impulses, their oppressive burden, regaining your suzerainty over them. Disengage yourself from man's prime infirmities—his ego and passion.
    This, O Prince, is the only way to merge into God, the individual soul's union with the Oversoul. Once you are up there on the heights, you will never slide down to the dark valley below. It will then be the same for you—living or dying, waking or dreaming, gaining or losing.
    This is what the sages call Moksha—release from the bondage of birth and death—basking forever in the sunshine of Life Divine, of peace eternal.
  • Saleem Ke Shanidev
    Pankaj Prashar
    100 90

    Item Code: #KGP-9100

    Availability: In stock


  • Jiyo Us Pyar Mein Jo Maine Tumhe Diya Hai
    A.M. Nayar
    200 180

    Item Code: #KGP-663

    Availability: In stock

    जियो उस प्यार में जो मैंने तुम्हें दिया है
    प्रेम कविता पर विचार करते हुए हमारे सामने सदियों की प्रेम कविता की परंपरा सम्मुख आ खड़ी होती है। एक आधुनिक कवि के लेखे तो वह जैसे ’स्थायी कवि समय’ ही रहा है। किंतु प्रेम की इस अनुभूति को शब्दबद्ध कर पाना सदैव कवियों के लिए चुनौती रहा है। प्रेम कविता का अधिकांश दैहिक मिलन और उसके बखान में अतिरंजित है। जबकि प्रेम के बीज तो प्रकृति में ही छितरे-बिखरे होते हैं; वही प्रेम करना सिखाती है। इसलिए मिलन की परिणति से गुजरना ही प्रेम नहीं है। यह मिलन, विरह, उत्कंठा, प्रतीक्षा, पीड़ा, अनुभूति, विकलता और उम्मीद का दूसरा नाम है। प्रेम का अनुभव देह होते हुए भी विदेह होने में है, भोगे जाते हुए या भोगते हुए भी अभुक्त होने में है, उस उदात्तता, प्रांजलता और सात्त्विकता को बचा लेने में है जो देहाभिभूत होते हुए भी अक्षुण्ण रहती है।
    हमारे समय की बड़ी प्रेम कविताओं के नेपथ्य में करुणा का आवेग भी कहीं न कहीं दिखता है क्योंकि कविता प्रेम के नेपथ्य में रची-बसी करुणा तक पहुँचती है। प्रेम में कुंठा नहीं, निर्बंधता होती है। इसलिए अच्छी प्रेम कविता हमें खोलती है, मुक्त  करती है, भौतिकता से पार ले जाने में मदद करती है। यह सुखद है कि आधुनिक हिंदी कविता प्रेम कविता की तमाम खूबियों का एक साथ वहन कर रही है। उसमें देह का संगीत भी है, आत्मिक सुख की निर्झरिणी भी। इसमें बहते हुए स्नेह-निर्झर को समेटने की शक्ति है तथा मुनष्य को प्रेयस् की अक्षुण्ण रासायनिकी से ओतप्रोत करने की ऊर्जा भी। प्रेम का क्षितिज उदात्त होता है तभी कोई कवि ’कनुप्रिया’ या ’गुनाह का गीत’ (धर्मवीर भारती) लिखता है, कोई ’टूटी हुई बिखरी हुई’ (शमशेर),’हे मेरी तुम’ (केदारनाथ अग्रवाल), ’देह का संगीत’ (सर्वेश्वर), ’नख-शिख’ (अज्ञेय), ’हरा जंगल’ (कुँवर नारायण), ’वह शतरूपा’ (लीलाधर जगूड़ी), ’उसके लिए शब्द’ (अशोक वाजपेयी) और ’ट्राम में एक याद’ (ज्ञानेन्द्रपति) आदि।
    अज्ञेय प्रेम कविता की लंबी परंपरा को आगे बढ़ाने वाले कवियों में हैं। वे प्रेम को दो मानव इकाइयों के मिलन के रूप में नहीं, बल्कि ईश्वर के दो अंशों के पारस्परिक मिलन के रूप में देखते हैं। उनकी कविता में भाषा, कथ्य और भाव का जैसा क्लासिकी संयम और अनुशासन है, वैसा ही उनकी प्रेम कविताओं में लक्षित होता है। कदाचित् उन्हें देना श्रेयस्कर लगता है, इसलिए प्रेम में भी लेना उन्हें गवारा नहीं। उनके लेखे प्रेम लेने का नाम नहीं, देने का नाम है। देकर ही मानो पाने का अहसास गहरा होता है। इसे बेशक दाता का दर्प कहें, पर अज्ञेय के प्यार में देने का भाव है, आशीषों का स्वस्तिवाचन है, पथ बुहारने- सँवारने का उद्यम है और प्रिय को दुःख की गलियों में नहीं, स्नेह-सिक्त वीथियों, सरणियों में देखने की कामना निहित है। शायद यही वजह है कि एक बार जब मैंने उनसे एक लंबी बातचीत के बाद उनकी सर्वाधिक प्रिय कविता की पंक्तियों के लिए अपनी डायरी बढ़ाई तो उन्होंने यही लिखा ‘जियो उस प्यार में जो मंैने तुम्हें दिया है।‘
    यह संग्रह अज्ञेय की श्रेष्ठ प्रेम कविताओं का एक गुलदस्ता है।
  • Bhartiya Sahitya Par Ramayan Ka Prabhav
    Dr. Chandrakant Bandiwadekar
    275 248

    Item Code: #KGP-595

    Availability: In stock

    भारतीय साहित्य पर रामायण का प्रभाव
    रामकथा से संबद्ध काव्य-रचना की एक सुदीर्घ परंपरा है, जिसका उद्गम वैदिक वाङ्मय से माना जाता है। लौकिक संस्कृत में इस परंपरा का विधिवत् सूत्रपात आदिकवि वाल्मीकि से हुआ। महर्षि वाल्मीकि ने रामकथा को जो व्यवस्था, उदात्तता, महनीयता और कालजयिता प्रदान की उसके लिए साहित्य जगत् उनका सदैव ऋणी रहेगा। विश्व मानचित्र के लगभग दो-तिहाई हिस्से को रामकथा ने अनेक स्तरों पर प्रभावित किया है। भारत के अतिरिक्त आज भी मिस्र और रोम से लेकर वियतनाम, मंगोलिया, इग्नेशिया तक रामकथा की अमिट छाप देखी जा सकती है। भारत और भारतीय मूल के लोगों के लिए रामकथा शक्तिशाली सांस्कृतिक आधार है। भारतीय भाषाओं में रामकथा का स्वरूप अनेक रूपों में विद्यमान है जो भारतीय संस्कृति की अनेकता में एकता को सिद्ध करता है।
    रामकथा की नित्य-प्रवाही पुण्यसलिला की अजस्र धारा अनादि काल से भारतीय मनीषा को सम्मोहित और भारतीय जीवन को संस्कारित करती रही है।
    रामकथा के सार्वदेशिक स्वरूप को विभिन्न भारतीय भाषाओं में जांचना-परखना ही इस उपक्रम का अभीष्ट है।
    विश्वास है कि रामकथा और रामकथा से संबद्ध साहित्य में रुचि रखने वाले पाठकों के लिए इसमें प्रचुर सामग्री मिल सकेगी।
  • Gauri
    Ajeet Kaur
    125 113

    Item Code: #KGP-2050

    Availability: In stock

    गौरी धीरे-धीरे उठी। चावलों वाले कोठार के एकदम नीचे हाथ मारा और टोहकर एक छोटी-सी पोटली बाहर निकाल ली। धीरे-धीरे उसे मैले-से चिथड़े की गाँठें खोलीं। बीच में से दो बालियाद्द निकालीं, जिनमें एक-एक सुर्ख मोती लटक रहा था।
    उसने बालियाँ काँसे की एक रकाबी में रखकर चूल्हे पर रख दीं। जो भी सुबह रसोई का दरवाजा खोलेगा, उसे सबसे पहले वही दिखेंगी और उससे कहेंगी, ‘इस घर में से एक ही चीज मुझे मिली थी, तुझे पैदा करने का इनाम। तूने उस जन्म को अस्वीकार कर दिया है। तूने उसी कोख को गाली दी है, जिसने तुझे अपने सुरक्षित घेरे में लपेटकर और अपना लहू पिलाकर जीवन दिया। ले ये बालियाँ। ये मैं तुझे देती हूँ। ये गाली हैं, मेरे जन्म पर, तेरे जीवन पर। गाली भी और बद्दुआ भी। ले ले इन्हें, बेचकर दारू पी लेना। मेरे बाप को दे दिए। मुफ्त में दान में। ले मेरा दान और मेरी बद्दुआ, जो पृथ्वी के हर कोने तक तेरा पीछा करेगी।’
    गौरी ने अपनी छोटी-सी कपड़ों की पोटली भी चूल्हे के पास रख दी और बाहर निकल आई।
    पिछले आँगन का दरवाजा खोला और गली में बाहर निकल आईं।
    -इसी उपन्यास से
  • Ek Aur Chandrakanta : 1
    Kamleshwar
    245 221

    Item Code: #KGP-9040

    Availability: In stock

    एक और चन्द्रकान्ता-1
    भारतीय दूरदर्शन के इतिहास में 'चन्द्रकान्ता' सीरियल है जो लोकप्रियता का कीर्तिमान स्थापित किया है, इसका श्रेय हिन्दी के अग्रणी उपन्यासकार बाबू देवकीनंदन खत्री को जाता है क्योंकि 'चन्द्रकान्ता' सीरियल के सुप्रसिद्ध लेखक कमलेश्वर का मानना है कि इसकी प्रेरणा उन्होंने खत्री जी से ही ग्रहण की है । खत्रीजी की प्रेरणा के महादान से संपन्न इस शीर्ष कथाकार ने जिम प्रकार उपन्यास से सीरियल को अलग किया था, उसी तरह सीरियल से एक और चन्द्रकान्ता की इस महागाथा को अलग करके प्रस्तुत किया है ।
    'एक और चन्द्रकान्ता' के इस पाठ में हिन्दी पाठक एक बार फिर से अपनी भाषा तथा कथा के आदर्श तथा गौरवमयी अनुभव से गुजर सकेगा । कहा जा सकता है कि हिन्दी में यह रचना के स्तर पर एक प्रयोग भी है । लेखक के अनुसार यह “भाषायी स्तर पर एक विनम्र प्रयास है ताकि हिन्दी अधिकतम आम-फ़हम बन सके ।" हिन्दी कथा-परंपरा में किस्सागोई की मोहिनी को पुन: अवतरित करने में लेखक के भाषागत सरोकार और उपकार का यह औपन्यासिक वृत्तांत अनूठा उदाहरण प्रस्तुत करता है। 
    चमत्कार, ऐयारी, फंतासी, बाधाएँ, कर्तव्य, दोस्ती, युद्ध-पराक्रम, नमकहरामी, बगावत, प्रतिरोध, साजिश, मक्कारी, तांत्रिक एवं शैतानी शक्तियाँ, वासना, वफादारी तथा अंधसत्ता आदि को बखानती और परत-दर-परत खुलती-बंद होती अनेक कथा-उपकथाओं को इस उपन्यास-श्रृंखला ने मात्र प्यार-मोहब्बत की दास्तान को ही नहीं बखाना गया है बल्कि इस दास्तान के बहाने लेखक ने अपने देश और समाज की झाडा-तलाशी ली है ।  यही कारण है कि कुंवर  वीरेन्द्रसिंह और राजकुमारी चन्द्रकान्ता की उद्याम प्रेमकथा को बारंबार स्थगित करते हुए लेखक को दो देशों की परस्पर शत्रुता के बीच संधि की कोशिश को शिरोधार्य करता प्रतीत होता है तो वहीं भ्रष्टाचार, राष्ट्रद्रोह को प्रतिच्छाया वाली उपकथाओं के सृजन में व्यस्त दीखता है । समय के साथ निरंतर बहने भी रहने वालो 'एक और चन्द्रकान्ता' को इस महाकथा में महानायकों का चिरंतन संघर्ष यहाँ मौजूद है, उनका समाधान नहीं।  अर्थात यह एक अनंत कथा है जो यथार्थ और कल्पना की देह-आत्मा से सृजित और नवीकृत होती रहती है । कहना न होगा कि यह हिन्दी की एक समकालीन ऐसो 'तिलिस्मी' उपन्यास-श्रृंखला है जो हमारे अपने ही आविष्कृत रूप-स्वरूप को प्रत्यक्ष करती  है । इस उपन्यास-श्रृंखला  के सैकड़ों बयानों की अखण्ड पठनीयता लेखक की विदग्ध प्रतिभा का जीवंत साक्ष्य है ।
    यदि इस लेखक की सामाजिक प्रतिबद्धता क्रो बात पर ध्यान दें तो 'एक और चन्द्रकान्ता’ उसकी सम्यक लेखकीय 'जवाबदेही' का साहसिक उदाहरण है । अपने अग्रज-पूर्वज उपन्यासकारों का ऋण स्वीकार करते हुए, स्पर्धाहीन सर्जन की ऐसी बेजोड़ मिसाल आज अन्यत्र उपलब्ध नहीं है । दूसरे शब्दों में, कमलेश्वर का हिन्दी साहित्य में यह एक स्वतंत्रता संग्राम भी है जिसमें आम हिन्दी को सुराज सौंपने का सपना लक्षित है ।
  • Udaanein Oonchi Oonchi
    Krishna Agnihotri
    350 263

    Item Code: #KGP-9377

    Availability: In stock

    कृष्णा अग्निहोत्री वरिष्ठ रचनाकार हैं उन्होंने कहानी, उपन्यास तथा आत्मकथा आदि विधाओं में अपने लेखन से पाठकों को प्रभावित किया हैं उनकी सर्वोपरि विशेषता है-स्पष्टता, पठनीयता और बेबाकी। यह कहानी संग्रह पढ़ते हुए पाठक अनुभव करेंगे कि जीवन के साथ रचना का भी एक लंबा अनुभव यहां आकार ले रहा है।
    इन कहानियों में जीवन के विविध आयाम व परिवेश हैं। आदिवासी भी कठिनाइयों से जूझ रहे हैं। उल्लेखनीय यह है कि प्रत्येक कहानी अपनी विशेष मौलिकता से पूर्ण है। भाषा सरल पर ग्राह्य एवं अर्थपूर्ण है। समस्त लेखन मनोरंजन के साथ सोद्देश्यपूर्ण सार्थकता से भरपूर व संवेदनाओं की कसौटी पर खरा है।
  • Sahitya : Vividh Vidhayen (Paperback)
    Shashi Sahgal
    100

    Item Code: #KGP-1354

    Availability: In stock

    साहित्य : विविध विधाएं
    हिंदी साहित्य का संसार जितना विपुल है, उसी अनुपात में साहित्य की विधाओं का भी विस्तार हुआ है। साहित्य की विकास-यात्रा में भले ही एक विधा का प्रवेश दूसरी विधा में हो रहा है, फिर भी प्रत्येक विधा के कुछ ऐसे लक्षण हैं, जिनसे हम उस विधा की पहचान करते हैं। मसलन नाटक और उपन्यास या फिर कहानी और डायरी आदि सभी विधाओं के कुछ ऐसे बुनियादी तत्त्व हैं जो साहित्य की एक विधा से दूसरी विधा को अलग पहचान देते हैं। शशि सहगल की पहचान एक कवि, आलोचक एवं अनुवादक के रूप में है। 
    एक लंबे समय तक दिल्ली विश्वविद्यालय में पठन-पाठन करते हुए उन्होंने जिस जरूरत को खुद महसूस किया, यह पुस्तक उन्हीं बिंदुओं एवं अनुभवों से प्रेरित है और साहित्य की विविध विधाओं के बुनियादी तत्त्वों से जुड़े भारतीय एवं पाश्चात्य विचारकों की धारणाओं को संक्षेप रूप में सामने रखती है। 
    प्रस्तुत पुस्तक का महत्त्व इसलिए और भी बढ़ जाता है कि इसमें बुनियादी सिद्धांतों को रेखांकित करने के साथ-साथ कुछ प्रमुख लेखकों या प्रमुख रचनाओं के बहाने प्रत्येक विधा की अद्यतन जानकारी भी दी गई है। इस मायने में यह किताब साहित्य की प्रत्येक विधा का सैद्धांतिक और ऐतिहासिक परिप्रेक्ष्य पाठक के सामने रखती है। 
    इस प्रकार ‘साहित्य: विविध विधाएं’ साहित्य के आम जिज्ञासु पाठकों, छात्रों, शिक्षकों एवं शोधकर्ताओं के लिए एक उपयोगी और जरूरी किताब बन जाती है।
  • Amar Shaheedon Ki Amar Kathayen
    Shyam Lal
    50

    Item Code: #KGP-969

    Availability: In stock


  • Bachchon Ke Chhah Naatak
    Jaivardhan
    200 180

    Item Code: #KGP-1816

    Availability: In stock


  • Dus Pratinidhi Kahaniyan : Amarkant
    Amarkant
    150 135

    Item Code: #KGP-2076

    Availability: In stock

    'दस प्रतिनिधि कहानियाँ' सीरीज़ किताबघर प्रकाशन की एक महत्त्वाकांक्षी कथा-योजना है, जिसमें हिन्दी कथा-जगत् के सभी शीर्षस्थ कथाकारों को प्रस्तुत किया जा रहा है ।
    इस सीरीज़ में सम्मिलित कहानीकारों से यह अपेक्षा की गई है कि वे अपने संपूर्ण कथा-दौर से उन दस कहानियों का चयन करें, जो पाठको, समीक्षकों तथा संपादकों के लिए मील का पत्थर रही हों तथा ये ऐसी कहानियाँ भी हों, जिनकी वजह से उन्हें स्वयं को भी कहानीकार होने का अहसास बना रहा हो। भूमिका-स्वरूप कथाकार का एक वक्तव्य भी इस सीरीज़ के लिए आमंत्रित किया गया है, जिसमें प्रस्तुत कहानियों को प्रतिनिधित्व सौंपने की बात पर चर्चा करना अपेक्षित रहा है ।
    किताबघर प्रकाशन गौरवान्वित है कि इस सीरीज़ के लिए सभी कथाकारों का उसे सहज सहयोग मिला है। इस सीरीज़ के महत्त्वपूर्ण कथाकार अमरकान्त ने प्रस्तुत संकलन में अपनी जिन दस कहानियों को प्रस्तुत किया है, वे हैं : 'इंटरव्यू', 'जिंदगी और जोंक', 'शुभचिंता', 'लड़का-लड़की', 'फर्क', 'मित्र-मिलन', 'बहादुर', 'बउरैया कोदो', 'श्वान गाथा' तथा 'जनशत्रु'।
    हमें विश्वास है कि इस सीरीज़ के माध्यम से पाठक सुविख्यात लेखक अमरकान्त की प्रतिनिधि कहानियों को एक ही जिल्द में पाकर सुखद पाठकीय संतोष का अनुभव करेंगें ।
  • Rang Hawa Mein Phail Raha Hai (Paperback)
    Ubaid Siddqi
    200

    Item Code: #KGP-200

    Availability: In stock

    हक़ीक़त चाहे जो भी हो, शाइर और अदीब आज भी इस ख़ुशफ़हमी में मुबतिला हैं कि वो अपनी रचनात्मकता के द्वारा इस दुनिया को बदसूरत होने से बचा सकते हैं और समाज में पाई जाने वाली असमानताओं को दूर कर सकते हैं। उबैद सिद्दीक़ी की शाइरी का एक बड़ा हिस्सा इसी ख़ुशफ़हमी का नतीजा मालूम होता है:
    जाने किस दर्द से तकलीफ़ में हैं
    रात दिन शोर मचाने वाले
    ये सब हादसे तो यहां आम हैं
    ज़माने को सर पर उठाता है क्या
    आधुनिकता के जोश में हमारी शाइरी, ख़ास तौर पर ग़ज़ल ने समाजी सरोकारों से जो दूरी बना ली थी उबैद ने अपनी ग़ज़लों में इस रिश्ते को दोबारा बहाल करने का एक सराहनीय प्रयास किया है:
    धूल में रंगे-शफ़क़ तक खो गया है
    आस्मां तू कितना मैला हो गया है
    बहुत मकरूह लगती है ये दुनिया
    अगर नज़दीक जाकर देखते हैं
    सदाए-गिर्या जिसे एक मैं ही सुनता हूं
    हुजूमे-शहर  तेरे दरम्यां से आती है
    अपने विषयवस्तु और कथ्य से इतर उबैद की शाइरी अपनी मर्दाना शैली और अन्याय के खि़लाफ़ आत्मविश्वास से परिपूर्ण प्रतिरोध की भी एक उम्दा मिसाल है:
    शिकायत से अंधेरा कम न होगा
    ये सोचो रौशनी बीमार क्यों है
    मैं फ़र्दे-जुर्म तेरी तैयार कर रहा हूं
    ए आस्मान सुन ले हुशयार कर रहा हूं
    इस संग्रह के प्रकाशन से मैं बहुत ख़ुश हूं और उम्मीद करता हूं कि उबैद की शाइरी के रसास्वादन के बाद आप ख़ुद को भी इस ख़ुशी में मेरा शरीक पाएंगे।
    दशहरयार 
  • Bharat Mein Angrezi : Kya Khoya Kya Paya
    Tulsi Ram Sharma
    250 200

    Item Code: #KGP-9254

    Availability: In stock

    विदेशी भाषा एक नया संदेश और स्फूर्ति लेकर आती है, इस रूप में वरदान होती है। वही भाषा सतारूढ़ होकर हमारी भाषा, चिंतन शैली और जीवन-मूल प्रेरणाओं को विकृत या कुंठित करके हमारी अस्मिता को छीन लेती है, तब अभिशाप बन जाती है। अंग्रेजी को अपनाकर हमने क्या खोया क्या पाया यह लेखा-जोखा इस चर्चा में स्थान-स्थान पर संकेत रूप में उभरकर आता है।
    पुस्तक में भारतीय अंग्रेजी शिक्षा के तीन आयामों पर प्रकाश डाला गया है-
    1. 1793 से 1854 तक अंग्रेजी का प्रतिष्ठापन जिसके सूत्रधार थे चाल्र्स ग्रंाट और मुख्य कलाकार थे लार्ड मकाले।
    2. 1854 से 1947 तक जिसमंे अंग्रेजी के प्रचार-प्रसार की चर्चा है।
    3. 1947 के पश्चात् आज तक जिसमें अंग्रेजी के प्रभुत्व का छायांकन है।
  • Madhavi-Kannagi (Paperback)
    Chitra Mudgal
    80

    Item Code: #KGP-7222

    Availability: In stock

    लगभग दो हजार वर्ष पुराना तमिल महाकाव्य ‘शिलप्पधिकारम्’ को विषय बनाकर मैं तुम्हारे लिए एक उपन्यास लिखना चाह रही थी। अचानक एक दिन एन. सी. ई. आर. टी. से डाॅ. रामजन्म शर्मा का फोन आया। उनका आग्रह हुआ कि ‘पढ़ें और सीखें’ योजना के अंतर्गत मैं बाल-पाठकों के लिए ‘शिलप्पधिकारम्’ को आधार बनाकर एक बाल-उपन्या लिखूं। किन्हीं कारणों से डाॅ. रामजन्म शर्मा के दुबारा आग्रह पर मुझे दूसरी पुस्तक लिखनी पड़ी। 
    पिछले वर्ष संयोग से कंेद्रीय हिंदी निदेशालय के नव-लेखन प्रशिक्षण शिविर में दक्षिण जाना हुआ। वहां कुछ मित्रों ने उलाहना दिया कि तमिल साहित्य की समृद्धि के बारे में उत्तर भारत के बाल-पाठक कुछ नहीं जानते। बस, इस उलाहने ने मुझे बेचैन कर दिया। पुरानी इच्छा जाग उठी। पाण्डिचेरी से लौटकर मैंने ‘माधवी कन्नगी’ तुरंत लिखना शुरू कर दिया। उपन्यास पूरा हो गया।
    —चित्रा मुद्गल
  • Adhunantik Bangla Kavita
    Om Nishchal
    300 270

    Item Code: #KGP-9013

    Availability: In stock

    अधुनांतिक बाँग्ला कविता
    हमारे समय में यदि आधुनिकता का बोलबाला रहा है तो आज उत्तर-आधुनिकता का । यह जानते हुए कि उत्तर-आधुनिकता उत्तर-औपनिवेशिक सोच का ही एक दूसरा नाम है, बुद्धिजीवियों ने इसके प्रत्याख्यान का कोई ऐसा सर्जनात्मक रुख नहीं अपनाया, जिससे भारतीय परिस्थितियों और पारिस्थितिकी के अनुरूप साहित्य का सृजन हो सके और हमारे समय की बहुलतावादी मानवीय सभ्यता केंद्रीय जगह हासिल कर सके । अभी तक न केवल बाँग्ला में, बल्कि सभी भाषाओं में महानगर-केंद्रीत और सत्ता-विमर्शों में भागीदार लेखको का वर्चस्व रहा है जिसके चलते लेखकों-कवियों की एक पीढी साहित्य में वैसे ही उपेक्षित रही है, जैसे आज भी हमारे विराट भौगोलिक क्षेत्रफल में साँस लेने वाली कई आवाजें अनसुनी हैं । 
    ऐसे कवियों की कविताओं को बाँग्ला और अंग्रेजी में प्रकाशित करने की पहल समीर रायचौधुरी व मलय रायचौधुरी न पिछले कुछ वर्षों से की है । पोस्ट माडर्न पोयट्री-2001 व पोस्ट माडर्न पोयट्री- 2003 के अलावा पोस्ट माडर्न बाँग्ला शार्ट स्टोरीज के संचयन भी उनकी इन्हीं कोशिशों का परिणाम है । मलय रायचौधुरी के भूखी पीढी के आंदोलन को हिंदी कवित्ता के पाठक भूले न होंगे । हिंदी में अधुनांतिक (उत्तर-आधुनिक) बाँग्ला कविता का संचयन पश्चिम बंगाल की लगभग छह सौ लघु पत्रिकाओं से किया गया प्रतिनिधिक चयन है। इनमें सच्चे अर्थों में आधुनिकता से मुक्त अधुनांतिक अवधारणा नींव रखी गई है ।  पहली बार हम देख पाते हैं कि बाँग्ला की मुख्य धारा के कवियों से अलग कवियों की एक बडी दुनिया है जो पूरे बंगाल में छिटकी हुई है और अपनी सांस्कृतिक विरासत और बहुविध जीवन-मूल्यों को एक नई पहचान दे रही है ।
    आज जबकि हमारी काव्यरूचियाँ पश्चिमी मानदंडों से परिचालित हैं आलोचना के मानदंड भी पश्चिमी और औपनिवेशिक हैं, संपादकों की दृष्टि में अधुनांतिक बाँग्ला कविता वैश्विक संवेदना की अभिव्यक्ति है । खंड-खंड और भेदवादी वृष्टि से देखे जाने के विपरीत मनुष्य ने सदैव समुचे विश्व को एक कविता के रूप में देखा है ।  इसलिए औपनिवेशिकता के साथ आयातित आधुनिकता ने साहित्य के लिए जो खाँचे तैयार किए, अधुनांतिक अवधारणा के कवियों को वे खांचे स्वीकार्य नहीं हैँ । वे सहज ही पारिस्थितिकी से अपना सघन रिश्ता बनाने वाले बहुलतावाटी, सह-अस्तित्ववादी तथा साहित्य में भी लेबल प्लेइंग फील्ड के हिमायती ऐसे कवि हैं, जिनकी आवाजें आज अनसुनी नहीं हैं । शिल्पगत चकाचौंध से अलग किन्तु अपने कथ्य में मार्मिक आधुनिक बाँग्ला कविता का यह चयन महत्त्वपूर्ण है ।

  • Yogkshem
    Rajendra Tyagi
    540 432

    Item Code: #KGP-286

    Availability: In stock

    योगक्षेम
    काफी विचार करने के उपरान्त मैंने गीता को उपन्यास के रूप में प्रस्तुत करने का निर्णय लिया । इस सम्बन्ध में अनेक विद्वानों के साथ विचार-विमर्श किया । कुछ ने मेरे विचार की सराहना की तो कुछ ने यह कहते हुए कि गीता स्वयं ही एक उपन्यास है, मेरे विचार को नकार दिया । कुछ का मत था कि विचार तो उचित है, किन्तु रचना में मौलिकता का अभाव रहने का खतरा है। समझाया उनका आशय गीता के मूलपाठ की सुरक्षा से था । गीता के मूलपाठ के साथ यदि छेड़छाड़ की गई तो उसका मूल स्वरूप ही नष्ट हो जाएगा और यदि मूलपाठ के साथ छेड़छाड़ नहीं की तो उपन्यास में मौलिकता का अभाव रहने की पूरी सम्भावना है । इस प्रकार यह मौलिक कृति नहीं कहलाएगी । उनकी आशंका अपने स्थान पर उचित थी किन्तु मेरे लिए चुनौती । चुनौती स्वीकारते हुए मैंने गीता पर आधारित उपन्यास ही लिखने का अन्तिम निर्णय लिया ।
    लक्ष्यप्राप्ति के लिए मैं चिन्तन-मनन में व्यस्त हो गया और महत्त्वपूर्ण दो विचार मेरे चिन्तन में अवतरित हुए । प्रथम-गीता के विभिन्न श्लोकों के सम्बन्ध में व्याप्त भ्रान्तियों का निराकरण ।  द्वितीय—गीता में निहित शिक्षा का आधुनिक परिप्रेक्ष्य में विस्तृत व्याख्या । इसके अतिरिक्त एक प्रमुख विचार यह था कि जब तक कृष्ण और अर्जुन के मध्य वार्तालाप चलता रहा, तब तक कुरुक्षेत्र के मैदान में युद्ध के लिए तत्पर सेनानायक व सैनिक क्या करते रहे ! मुझे यह अनुभव हुआ कि प्रथम दो विचार तो गीता को सरल व सर्वग्रासी बनाने में सहायक सिद्ध होंगे और अन्तिम विचार गीता की रोचक प्रस्तुति में सहायक सिद्ध होगा ।
    इस प्रकार गीता के मूलपाठ से खिलवाड़ न करते हुए अर्जुन व धृतराष्ट्र के माध्यम से गीता को सर्वग्राही व उपन्यास का रूप और विस्तार प्रदान करने का प्रयास किया गया है । -लेखक
  • Shaapit Log
    Bhagwati Sharan Mishra
    40 36

    Item Code: #KGP-9223

    Availability: In stock

    शापित लोग
    ‘‘जय, समय भी कभी-कभी कितना महत्वपूर्ण होता है। हमारे समक्ष अब मात्र तीन घंटो का अंतराल है, सुबह होते ही मैं...।’’
    जय एक उसांस लेता है, ‘‘जानता हूं नीलू कि सुबह होते ही तुम एक नए प्रदेश की ओर चल दोगी। पराई बन जाओगी। पर पराई तो तुम अब से दो घंटे पूर्व ही हो गई नीलू, जब एक अनजाने, अनचीन्हे हाथ ने तुम्हारी मांग में सिंदूर भर दिया और एक जाना-पहचाना हाथ वहीं कहीं कांपकर रह गया।’’
    ‘‘जय!’’ नीलिमा जैसे चिल्लाती है।
    ‘‘हां नीलू, बात तुम्हें गहरे काट रही होगी, पर सत्य तो फिर सत्य ही रहेगा। तुम समय की बात कर रही थी न? माना वह बहुत शक्तिशाली होता है, बहुत समर्थ। पर उसे शक्ति और सामथ्र्य हम-तुम ही तो प्रदान करते हैं! आज अगर तुमने अपने अछूते ललाट पर अनचीन्हे हाथों का अभिसार नहीं स्वीकार किया होता तो आगे के चार घंटों का यह अंतराल हमारी पूरी जिंदगी का विस्तार होता...एक ऐसी जिंदगी का, जिसके रूप को गढ़ने संवारने की कल्पना में गत दो वर्षो का मेरा समय न जाने कैसे बीत गया।’’
    —इसी संग्रह से
  • Saadat Hasan Manto Ki Kahaniyan (Paperback)
    Narendra Mohan
    395 300

    Item Code: #KGP-04

    Availability: In stock

    सआदत हसल मंटो उर्दू के सर्वाधिक महत्त्वपूर्ण, चर्चित और विवादास्पद लेखक हैं। इस एक लेखक को लेकर जितनी चर्चाएं उठी हैं, उतनी अन्य किसी लेखक को लेकर नहीं। मंटो की खासियत है कि उसने नये विषयों पर ही नहीं लिखा, नये अन्दाजेबयां और नजरिये से भी लिखा। इस एक बात ने उन्हें अपने समय का ही नहीं, आज के समय का भी एक बड़ा कहानीकार बना दिया है।
    मंटो की कहानियां पाठकों की अन्तश्चेतना को बुरी तरह झकझोरने वाली, तिलमिला देने वाले विचारों तक ले जाने वाली हैं। यह बेचैनी महज व्यक्तिगत नहीं है, मुल्क और कौम की बेचैनी से जुड़ी हुई है जो कहानियों की मार्फत पाठकों तक सीधे पहुंचती है। उनकी कहानियों में गहरी मानवीय दृष्टि के साथ-साथ तीव्र आक्रोश और प्रतिकार भी है। हरारत और रोशनी, स्वप्न और दुःस्वप्न उनकी सृजनात्मक प्रेरणा के हिस्से हैं। इन कहानियों के जरिये मंटो हमें विसंगति-भरी जिन्दगी में जीने की शर्त का गहरा एहसास कराते हैं।
    सआदत हसन मंटो की कहानियां पुस्तक में मंटो के कथा-संसार में झांकने का, उनकी कहानियों को चुनकर, एक परिप्रेक्ष्य देकर हमारे सामने पेश करने का महत्त्वपूर्ण कार्य किया है हिन्दी के जाने-माने कवि, नाटककार और आलोचक डाॅ. नरेन्द्र मोहन ने। मंटो की सृजनात्मक प्रेरणा और संपादकीय दृष्टि में आश्चर्यजनक साम्य है-एक-दूसरी में खुलती गई हैं और उन्हें अलगाया नहीं जा सकता। इससे यह पुस्तक कहानियों का संकलन-भर नहीं रही है, एक दस्तावेज बन गई है।

  • Rang Basanti
    Pratap Sehgal
    150 135

    Item Code: #KGP-1913

    Availability: In stock

    रंग बसंत
    आजादी के आंदोलन के संभवत: ऐसे दो ही क्रांतिकारी महानायक है, जो सैक्टेरियन सोच से परे जाकर व्यापक स्तर पर सामाजिक एवं राजनीतिक विकास का स्वरूप सामने रखते है । किसी भी भारतीय से पूछिए, वह नेताजी सुभाषचंद्र बोस और भगतसिंह का नाम लेगा । प्रताप सहगल का ‘रंग बसंती' नाटक भगतसिंह के जीवन का आख्यान मात्र नहीं, बल्कि उसके समय को भी पूरी शक्ति एवं जीवंतता के साथ हमारे सामने रखता है । भगतसिंह अपने जीवनकाल में ही लीजेंड बन गया था । उसके क्रांतिकारी कृत्यों को तो बार-बार सामने लाया गया, लेकिन उसके समाजवादी चिंतन को हमेशा नेपथ्य में ही रखा गया । भगतसिंह न सिर्फ अपने एक्शन में, बल्कि अपनी सोच में भी एक रैडिकल व्यक्तिव के रूप में सामने आता है । प्रस्तुत नाटक भगतसिंह के इसी रूप को हमारे सामने रखता है ।
    नाटक का ढाँचा दृश्यों में बाँधा गया है, जो इसे बेहद लचीला बना देता है । मुक्ताकाशी रंगमंच हो या प्रेक्षागृह का मंच, शैली यथार्थवादी से या प्रतीकवादी- हर तरह से नाटक को खेलने की संभावनाएँ इसमें मौजूद हैं । बई बार मंचित होकर तथा साहित्य कला परिषद, दिल्ली द्वारा सर्वश्रेष्ठ नाट्यालेख के रूप में समादृत हो चुका 'रंग बसंती' नए रंग में पाठकों के हाथ में देते हुए सार्थकता का ही अनुभव किया जा सकता है । वस्तुत: गंभीर रंग-कर्म करने वालों के लिए यह एक उपहार है ।
  • Aadarsh Ghar-Parivaar Aur Mahilayen
    Sudha Gautam
    180 162

    Item Code: #KGP-187

    Availability: In stock

    'आदर्श घर-परिवार और महिलाएँ' पुस्तक में सुधा गौतम ने अपने अनुभवों के आधार पर जिन शीर्षकों के अंतर्गत जीवनोपयोगी महत्वपूर्ण बातों की जानकारी दी है, उनमें से कुछ शीर्षकों को यहाँ प्रस्तुत किया जा रहा है । आशा है, यह पुस्तक महिलाओं के साथ-साथ पूरे परिवार के लिए उपयोगी सिद्ध होगी :
    ० जिंदगी को खूबसूरत बनाने के लिए
    ० छोटी-छोटी बातों से न हो परेशान
    ० बाँधे रखें पति को
    ० कड़वी यादे भुला दें
    ० जब आप फोटो खिंचवाने जाएं
    ० आप और आपकी शारीरिक गठन
    ० आप और आपका परिधान
    ० आप और आपकी नींद
    ० वर्तमान में जीना सीखें
    ० यदि आपके घर में नौकर है
    ० आप और आपकी खरीदारी
    ० आप और आपके घर के कीड़े-मकोड़े
    ० आपकी बढती उम्र और आप
    ० बच्चों के सुन्दर भविष्य के लिए
    ० जब आप सफर पर जाएं
    ० जब आपके मेहमान आपके घर आएं
    ० आप और आपकी सेहत
    ० बच्चों के लिए नाश्ता 
    ० चमकदार त्वचा के लिए
    ० खूबसूरत होंठों के लिए
    ० त्वचा में निखार के लिए
    ० गर्मियों में आपका मेकअप
    ० मुँहासों से छुटकारा
    ० खूबसूरत बालों के लिए
    ० आपकी गर्दन रहे सुंदर
    ० धूप का चश्मा
    ० आप और आपके गहने
    ० आपके घर का फर्श
    ० महिलाएँ और रसोई
    ० आपके गरम कपडे
    ० कैसे छुड़ाएँ कपडों के दाग
    ० अपने बच्चों के मित्र बनिए
    ० जब बच्चा स्कूल जाने लगे
    ० जिद्दी बच्चा
    ० माँ-बेटी का रिश्ता
    ० बच्चे कैसे बनाएं अपनी अलग पहचान
    ० बच्चे अपना काम स्वयं करें
    ० बच्चे भोजन बेकार न करें
    ० शरारती बच्चों को कैसे सुधारें
    ० बच्चों के ज्ञानवर्द्धन के लिए
    ० जब आपका बच्चा आपसे दूर रहे
    ० छात्र और परीक्षा
    ० बच्चे कैसे रहें परीक्षा के दिनों में  तनावमुक्त
    ० कैसे लिखे प्रश्नों के उत्तर
    ० कैसे मिले परीक्षा में सफलता
    ० आपका कंप्यूटर
    ० आप और आपके छोटे बच्चे
    ० बच्चों की छोटी-मोटी तकलीफें
    ० घरेलू दवाइयाँ
    ० छोटी-छोटी काम की बातें

  • Meri Saras Kavitayen
    Nisha Bhargva
    200 180

    Item Code: #KGP-9365

    Availability: In stock

    मन की बात
    हम सब हमेशा कुछ कहने को उत्सुक रहते हैं, सुनते कम बोलते ज्यादा हैं। वास्तव में देश की तरक्की जनता की खुशी बढ़ाती है लेकिन समस्याएं खुशी का घेराव करके खीझ पैदा करती हैं। हम अपने-अपने सुझाव देकर समस्याओं का समाधान मौखिक रूप से ही करने का प्रयास करते हैं किंतु हमारी आवाज वहां तक नहीं पहुंच पाती जहां तक पहुंचनी चाहिए इसलिए खीझ और झल्लाहट बढ़ती है। तनाव घर कर लेता है। मन की शान्ति के बहुत तरीके हैं उनमें से एक तरीका पढ़ना और सुनना है। कविताओं का लिखना मुझे जितना अच्छा लगता है उतना पढ़ना और सुनना भी। मुझे लगता है पठन-पाठन से भी मन की शुद्धि होती है। हास्य कविताएं न केवल तनाव कम करती है बल्कि मन में सरसता पैदा करती हैं खासकर तब, जब नकारात्मक स्थितियां हमें परेशान कर रहीं हों। मेरी कविताओं को पढ़कर अगर आपके चेहरों पर मुस्कान आ जाए तो आपके साथ-साथ मुझे भी सुकून मिलेगा। 
    ‘मेरी सरस कविताएं’ पुस्तक मैंने अपनी पूर्व प्रकाशित पुस्तकों ‘उधार की मुस्कान’, ‘अच्छे फंसे’, ‘चिकने घड़े’, ‘बंटाधार’ और ‘घनचक्कर’ में से चुनी हैं। इस पुस्तक को आप पढ़ेंगे तो मुझे लगेगा आपने मेरी पूर्व प्रकाशित पुस्तकों की एक झलक प्राप्त कर ली। लेखकों और कवियों को लिखने का जितना चाव होता है उतना ही इस बात का भी कि उनकी रचनाएं पाठकों तक पहुंचे, उनकी प्रतिक्रियाएं भी मिले। मैं भी ऐसा ही चाहती हूं।
    -निशा भार्गव
  • Mahaan Tatvagyani Ashtavakra
    Vinod Kumar Mishra
    295 266

    Item Code: #KGP-148

    Availability: In stock

    महान तत्त्वज्ञानी अष्टावक्र 
    असली ज्ञान शास्त्रों में नहीं है, बल्कि मनुष्य के अंदर है । शास्त्रों की रचना तो मनुष्य ने विभिन्न सन्दर्भों व परिस्थितियों में की है । इनमें विरोधाभास भी मिलेंगे । असली ज्ञान-शक्ति तो मनुष्य के अंदर छिपी है । यदि मनुष्य अपने आपको पहचान ले तो वह परमात्मातुल्य हो जाता है ।
    "परमात्मा किसी सातवें आसमान पर विराजमान नहीं है । यह सारी सृष्टि परमात्मा का ही दृश्य रूप है । इसकी सेवा और विकास ही ईश्वर की सच्ची आराधना है ।"
    "मोक्ष के पश्चात् व्यक्ति किसी दूसरे लोक में नहीं जाता, वह इसी संसार में करता रहता है, पर उनमें लिप्त नहीं होता ।"
    प्रस्तुत पुस्तक में अष्टावक्र के जीवन व दर्शन, जो 'अष्टावक्र गीता' के नाम से प्रसिद्ध है, का रोचक व प्रेरक वर्णन है । लेखक ने इसके वैज्ञानिक पहलुओं पर भी प्रकाश डाला है ।
  • Khushboo Udhaar Le Aye
    Upendra Kumar
    50 45

    Item Code: #KGP-1902

    Availability: In stock

    खुशबू उधार ले आए
    उपेन्द्र कुमार की ग़ज़लों का 'हिन्दीपन' एक ओर 'उर्दू' की फारसीयत से अलगाता है तो दूसरी ओर गजल के व्यापक भारतीय परिप्रेक्ष्य को सबल बनाता है, जिसका अनुकरण पाकिस्तान के ग़ज़लकार भी करते है । डॉ० शेरजंग गर्ग ने ठीक ही कहा है कि उपेन्द्र की कहन में वैविध्य है जो उन्हें बहुत-से ग़ज़लकारों से सर्वथा अलग का देता है । 
    -डॉ० गंगाप्रसाद विमल
    हबीब जालिब की तरह उपेन्द्र कुमार भी व्यवस्था से लड़ते और कारावास में डाले गए इंसान की वेदना को शिद्दत से महसूस करते है :
    वो कैदी चुप था लेकिन गुनगुनाया
    बजी जंजीर की जब इक कड़ी थी
    उपेन्द्र के पास शे'र कहने का सलीका भी है और कल्पना को इस्तेमाल करने का फन भी । 
    -ज्ञानप्रकाश विवेक
    उपेन्द्र के पास शायद किसी चालाक अनुभवी कवि का शिल्प-कौशल नहीँ है, यह अच्छी बात है अन्यथा उनकी रचनाओं में कथ्य की प्रमुखता नहीं रह पाती । अनगढ़ यथार्थ का विशाल भंडार परोसती उपेन्द्र कुमार की ग़ज़लें पाठकों को अपने आसपास को सतर्कता से देखने को मजबूर करेंगी, ऐसा विश्वास है ।
    - विजय किशोर मानव
    न तो उपेन्द्र जी उर्दू ग़ज़ल की रिवायतों की रौ में बहे है और ना ही उन्होंने अपनी ग़ज़लों पर हिन्दी का ‘कवितापन हावी होने दिया है । उनकी ग़ज़लों की बुनावट और उनकी प्रकृति गीतों से अलग है । इसीलिए उनमें गजलियत की मौजूदगी का अहसास बना रहता है । सोजो-साज़ (वेदना और संगीतात्मकता) हूँ तो कविता मात्र के आधार तत्त्व माने जाते है, मगर इनके बरौर तो ग़ज़ल का काम ही नहीं चल सकता । ग़ज़ल में रोमानिया की चाशनी भी ज़रूरी है । उपेन्द्र जी ने ग़ज़ल की इन खूबियों को न केवल समझा है, बल्कि इनसे अपनी ग़ज़लों को बखूबी सँवारा भी है ।
    - बालस्वरूप राही
  • Main Or Mera Man
    Dr. Sharad Nagar
    480 432

    Item Code: #KGP-7851

    Availability: In stock

    मैं और मेरा मन जीवन के एक विलक्षण साधक और रसिक की कलम से निकली हुई यादों, बातों, दास्तानों और दस्तावेज़ों का अनूठा सम्मिश्रण है। इस पुस्तक में हम मिलते हैं एक ऐसे सर्जक से जो अपनी गहरी से गहरी तकलीफें भूलने की कोशिश करता तथा तमाम जगहों और लोगों को दिए हुए अपने वायदों को निभाता हुआ उनके इतिहास और भूगोल को, उनकी बातों और वि़फस्सों को जिलाए रखने के काम में पूरे यव़फीन और मोहब्बत से जुटकर अपने जीने की ख़ुराक ढूँढ़ता है।
    डॉ. शरद नागर के मन में समाए इन लोगों और लोकों के किस्सों में हमें मिलते हैं घने पारिवारिक रिश्ते, गली-मोहल्लों के यादगार चित्रा और चरित्रा तथा अनदेखे पूर्वज। साथ ही हमें मिलती हैं बीसवीं सदी के सामाजिक इतिहास की कुछ ऐसी बारीकियाँ जिनके आज की पाठ्यपुस्तकों में पहुँचने की नौबत ही नहीं आती-जैसे, 1918 के इन्फ्ऱलूएन्ज़ा के प्रकोप की दिल को दहला देने वाली यादें; आगरा में बसे गुजराती नागरों के मोहल्लों-टोलों की भूली-बिसरी आवाज़ें; आज़ादी की जंग के दौर में मिले सृजन और सौहार्द के संस्कार; मैकॉले की नीति का शिक्षा और सामाजिक स्तरीकरण पर प्रभाव; समाज के बदलते उसूलों और खुलती-कसती बेड़ियों के बीच औरतों की स्थिति ही नहीं, बल्कि उनका श्रम, उनकी रचनात्मकता, उनकी जंग; तथा भारतीय रंगमंच के इतिहास से जुड़े कुछ महत्त्वपूर्ण पड़ाव।
    शरद जी एक साहित्यकार और ज़िंदगी तथा समाज की तहों में गहरे उतरकर रमने वाले आराधक और कलाकार के रूप में अमृतलाल नागर के बहुत बड़े उपासक थे। इस पुस्तक में प्रस्तुत उनका लेखन अमृतलाल नागर जी को लेखक और पिता के रूप में बड़े निराले ढंग से जिलाता है। हम न केवल लेखक बनने से जुड़ी अमृतलाल नागर जी की निजी और उनके परिवार की अनेक संघर्ष यात्राओं को पहचान पाते हैं बल्कि आज़ादी के पहले के तीन दशकों में और आज़ादी के बाद के चार दशकों में साहित्य और रंगमंच समाज से किस व़फदर गुँथकर अपनी दिशाएँ खोज रहे थे, उसका अहसास भी हमें ख़ूब होता है।
  • Jeet Ki Raah
    Swed Marten
    200 180

    Item Code: #KGP-857

    Availability: In stock

    पुस्तक में स्वेट मार्डन जैसे महान् व्यक्तित्व के आधुनिक विचारों के साथ भारतीय संस्कृति एवं परंपराओं से प्रेरित विचारों का मिला-जुला संगम है, ठीक गंगा-यमुना की भाँति पावन व पवित्र । एक जोर से विद्धान् स्वेट मार्डेन की विचाररूपी गंगा एवं दूसरी ओर से भारतीय विचारों की सरिता यमुना का जल आकर मिल गया है इस 'जीत की राह' में।
    इस पुस्तक का वास्तविक शीर्षक है 'जीत की राह', परंतु इससे
    अधिक आकर्षक है 'स्वेट मार्डन : सूक्तियाँ व प्रेरक विचार'।  इस पुस्तक
    में स्वेट मार्डन की तीन पुस्तकों क्रमश 'The Conquest of Worry', 'He can who think he can', 'To succeed in Life' में से उनकी
    सूक्तियाँ व प्रेरक विचार संगृहीत किए गए हैं।
  • Mere Saakshatkaar : Maheep Singh
    Mahip Singh
    160 144

    Item Code: #KGP-529

    Availability: In stock