Avadh Narain Mudgal Samgra (2 Vols.)

Mahesh Darpan

Availability: In stock

Seller: KGPBOOKS

Qty:
750.00 675 + Free Shipping


  • Year: 2008

  • Binding: Hardback

  • Publisher: Kitabghar Prakashan

  • ISBN No: 9788189859510

अवधनारायण मुद्गल समग्र (2 खण्डों में)
'अवधनारायरए मुद्गल समग्र' में कवि-कथाकार  संपादक ही नहीं, एक सिद्धहस्त यात्रावृत्त लेखक, लघुकथाकार, साक्षात्कारकर्ता और अनुवादक के साथ-साथ श्री मुद्गल का विचारक रूप भी सामने आया है । आगरा, लखनऊ, मुंबई और दिल्ली जैसे शहरों में साहित्य और पत्रकारिता के रचनाकार- संपादक के अनुभव विविधरंगी रहे हैं । अपने समय की हलचल को बड़े संजीदा ढंग से देखने वाले\ श्री मुद्गल को समय के अनेक बड़े रचनाकारों व संपादकों का सान्निध्य तो मिला ही, वह उनके साथ रहते हुए भी स्वयं को उनसे अप्रभावित रख अपनी अलग राह बना सके । इस राह को पहचानना ही इस समग्र कृतित्व से होकर गुज़रना है। यहीं दैनिक जीवन के तनाव, इतिहास से मनुष्य का संबंध, देश-काल के भीतर और पार होती दृष्टि, सांस्कृतिक, राजनीतिक, सामाजिक व व्यक्तिगत प्रसंगों में भाषा का सहज आत्मीय स्वरूप और मिथकों के साथ-साथ दैनंदिन जीवन से आए प्रतीक एक नई रचना की दुनिया में ले जाते हैं, जो निरंतर  पास आने को आमंत्रित करती है । इस ग्रंथ का पाथ, एक तरह से एक विशिष्ट काल-खंड को तटस्थ दृष्टि से समझने का अवसर भी देता है । रचनाकार मुद्गल की यह सृष्टि विचार और विरार-सघर्ष की एक ऐसी दुनिया है, जिससे गुजरते हुए पाठक खुद को उसका एक सहयात्री पाता है ।

Mahesh Darpan


Scroll