Akasmaat Kuchh Kavitayen (Paperback)

Surendra Pant

Availability: In stock

Seller: KGPBOOKS

Qty:
160 +


  • Year: 2017

  • Binding: Paperback

  • Publisher: Amarsatya Prakashan

  • ISBN No: 978-81-88466-30-6

हिंदी कवियों ने अपने काव्य-मुहावरों को यदि रसिकतापूर्ण काव्यरूपों से श्रृंगारित किया है तो कुछ कवियों ने कविताओं को चीखने की स्वतंत्रता भी दी है। मगर इस संगह की कविताओं में पाठक पाएंगे कि कवि का सरोकार बृहत्तर मानवता की उपस्थिति करने में कई बार वह संप्रेषणीयता की रूप-सज्जा की भी परवाह नहीं करता। व्यापक जनहितों की आकांक्षाओं के बीच से अंकुरित इन कविताओं को सच्चे ईश्वर, खरे अध्यात्म तथा खनकदार वर्तमान की चाहत है, जो भोले-भाले लोक को उसकी निष्कपटता लौटा सके। ‘मदर टेरेसा’ पर केंद्रित कविता को पढ़कर हमें कवि की मानवगत अवधारणाओं का समूचा अहसास होता है।
पुलिस विभाग के अत्यंत महत्वपूर्ण एवं ‘संवेदनशील’ पद का निर्वहन करते हुए यह कवि समाज और राजनीति की ‘रणनीति’ में लाखों-लाख हंसते-रोते हैवानों-इंसानों के परम-चरम अनुभवों का साक्षी रहा है, इसीलिए ये कविताएं हमारे समय और समाज की धाराओं-उपधाराओं के रूप में कवि के सामने ‘पेशी’ पाकर शब्दांकित होती हैं। संभवतः इस अनुभवबहुलता ने कवि को किसी इकहरे विषय का मर्मज्ञ न रहने देकर, सर्वत्र का प्रवक्ता कवि भी बना दिया है। यह भी उल्लेखनीय है कि इस विविधता के बावजूद कवि का ध्यान अपने देश, संस्कृति और जन पर लगभग प्रत्येक कविता मंे कंेद्रीकृत हुआ है।
कहना न होगा कि इन कविताओं के नए तेवर का आगमन भले ही अकस्मात् रूप में हुआ है, मगर निश्चित ही इनका सृजन गहरी विचारशीलता के बाद ही संभव हुआ होगा।

Surendra Pant

सुरेन्द्र पंत
1 नवम्बर, 1946 को ठाकुरद्वारा, मुरादाबाद में जन्म ।  मेरठ कॉलेज से एम० ए० समाजशास्त्र की पढाई बीच से छोड़कर दिल्ली पुलिस की नियुक्ति स्वीकार की, परन्तु साहित्य और कलाओं से अपना नाता बराबर बनाए रखा ।
वर्षों से कविताएँ लिखकर अपने पास रखने का शोक तोडना पड़ा और 'पत्थरों पर टूटता जल' संग्रह के साथ हिंदी कविता की नव्यतम धारा में प्रवेश ।

Scroll