Filter selection

Author
Price

patriotism

  • grid
  • Bhartiya Sainikon Ki Veergaathayen
    Ram Kumar Bhramar
    350 315

    Item Code: #KGP-526

    Availability: In stock

    हिंदी में युद्ध-कथाओं के पाठक बहुत हैं, किन्तु युद्धकथाओं की संख्या उतनी नहीं है । कारण संभवत: यह  कि भारतीय मानस और उसका लेखक, युद्ध अथवा घटना क्रो लेकर स्तब्धता-बोध की जितनी अनुभूति करता है, उतनी उस बोध को दस्तावेजी तौर पर सुरक्षित करने में रुचि नहीं ले पाता । इस अरुचि का कारण यह भी हो सकता है कि वह संभवत: युद्ध-कथा को साहित्य का बहुत महत्वपूर्ण अंग नहीं मानता । पर मुझे लगता है कि साहित्य के बहुआयामी विधा-रूप में युद्ध-कथाओं का भी अपना एक महत्त्व है और उनसे राष्ट्रीय-बोध के साथ-साथ भूलों का भी इतिहास दर्ज होता रहता है । मैं जब-जब इस विचार और दृष्टि से उद्वेलित हुआ हूं, तब-तब मैंने इन रचनाओं को रचा । यह 'सामयिक साहित्य' होता है, मैं यह भी नहीं मानता, क्योंकि स्नेह-संबंधों में यदि शाश्वतता होती है तब युद्ध की पीडा अथवा राष्ट्रभक्ति की शहीदी में भी एक शाश्वत सत्य छिपा है  यह राष्ट्र-पूज़न है, अत: इस पूजन के फूल अपने पाठक-बंधुओं के लिए समर्पित करता हूं-शब्दपुष्पों का यह संग्रह देशभक्ति की महक देता रहे—इसी कामना के साथ ।
    —रामकुमार भ्रमर
Scroll