Filter selection

Author
Price

mere saakshatkaar series

  • grid
  • Mere Saakshatkaar : Rajendra Yadav
    Rajendra Yadav
    300 270

    Item Code: #KGP-858

    Availability: In stock


  • Mere Saakshatkaar : Kamleshwar
    Kamleshwar
    400 360

    Item Code: #KGP-777

    Availability: In stock


  • Mere Saakshatkaar : Devendra Satyarthi
    Davendra Satyarthi
    200 180

    Item Code: #KGP-548

    Availability: In stock


  • Mere Saakshatkaar : Himanshu Joshi
    Himanshu Joshi
    350 280

    Item Code: #KGP-616

    Availability: In stock


  • Mere Saakshaatkaar : Swayam Prakash
    Swayam Prakash
    380 304

    Item Code: #KGP-643

    Availability: In stock


  • Mere Saakshatkaar : Chandrakant Deotale
    Chanderkant Deotale
    350 315

    Item Code: #KGP-713

    Availability: In stock


  • Mere Saakshatkaar : Kedarnath Agrawal
    Kedar Nath Agrawal
    200 180

    Item Code: #KGP-544

    Availability: In stock


  • Mere Saakshatkaar : Shiv Murti
    Shivmurti
    380 342

    Item Code: #KGP-745

    Availability: In stock


  • Mere Saakshatkaar : Ramdarash Mishra
    Ramdarash Mishra
    275 248

    Item Code: #KGP-217

    Availability: In stock


  • Mere Saakshatkaar : Kedar Nath Singh
    Kedarnath Singh
    250 225

    Item Code: #KGP-2027

    Availability: In stock

    मेरे साक्षात्कार : केदारनाथ सिंह
    कवि केदारनाथ सिंह के साक्षात्कारों की यह किताब कविता के ज़रिए समकालीन जीवन में झाँकने की एक कोशिश है । इनसे गुज़रना अपने समय की बदलती हुई सौंदर्य-चेतना के खुले-अधखुले गलियारों से गुज़रना है । विगत पच्चीस वर्षों के लंबे अंतराल में लिए गए ये इंटरव्यू कवि की विकास-यात्रा को समझने की कुंजी भी देते हैं और उन मोड़ों-घुमावों की प्रामाणिक जानकारी भी, जिनसे होकर उसकी सृजन-यात्रा अविराम चलती रही है । यह एक रचनाकार की विश्व-दुष्टि के बनने और आकार ग्रहण करने की लंबी प्रक्रिया का दस्तावेज़ है-एक ऐसा कच्चा माल, जिसमें समकालीन कविता के इतिहास के रंग-रेशे तलाशे जा सकते हैं ।
    कवि केदारनाथ सिंह की कविताएँ समय के साथ संवाद करती हुई कविताएं हैं। यही वजह है कि उनकी कविताओं में एक तरह की प्रश्नाकुलता दिखाई देती है। ऐसी प्रश्नाकुलता, जो कहीं गहरे पैठकर पाठक को बेचैन करती है। यह देखना भी एक दिलचस्प अनुभव होगा कि अपनी कविताओं में निरंतर प्रश्न उपस्थित करने वाला कवि स्वयं प्रश्नों का सामना कैसे करता है ।
    समकालीन सर्जन-परिवेश में दिलचस्पी रखने वाले पाठकों के लिए एक संग्रहणीय दस्तावेज़ है यह किताब ।
  • Mere Saakshatkaar : Nagarjun
    Nagaarjun
    300 270

    Item Code: #KGP-15

    Availability: In stock


  • Mere Saakshatkaar : Mridula Garg
    Mridula Garg
    225 203

    Item Code: #KGP-870

    Availability: In stock


  • Mere Saakshatkaar : Maitreyi Pushpa
    Maitreyi Pushpa
    275 248

    Item Code: #KGP-312

    Availability: In stock


  • Mere Saakshatkaar : Ram Vilas Sharma
    Ram Vilas Sharma
    450 405

    Item Code: #KGP-712

    Availability: In stock


  • Mere Saakshatkaar : Prabhakar Shrotriya
    Prabhakar Shrotiya
    175 158

    Item Code: #KGP-2035

    Availability: In stock

    मेरे साक्षात्कार : प्रभाकर श्रोत्रिय
    मैं एक लेखक से अधिक एक मनुष्य होना श्रेयस्कर मानता हूँ। अध्यापन तो अपने में ही एक बादशाहत है, परंतु यहीं से हटकर प्रशासन में संयोगवश मुझे दूसरे नंबर पर नहीं रहना पड़ता । फिर वह भोपाल हो, कलकत्ता हो या दिल्ली । चाहा यही कि इन सर्वोच्च पदों की गरिमा को न गिरने दूं, लेकिन अपने को ऐसा ढालूँ कि इन पदों से उतरने पर मुझे ऐसा न लगे कि किसी पद पर था, जिस पर अब नहीं हूँ। और इस 'पद' का अर्थ मेरे लिए सिर्फ पाँव हो-जो अपनी ज़मीन पर टिका है ।
    मैं अकसर उन लोगों पर लिखना चाहता रहा हूँ जो चुनौती बनते है या उपेक्षित होते हैं । शमशेर बहादुर सिह की कविता पर इसीलिए लिखा। वह हिंदी के सबसे जटिल कवि हैं। मैथिलीशरण गुप्त को कोई कवि नहीं मान रहा था, तब उन पर एक पुस्तक अलग ढंग की लिखी । छायावाद के मूल्यांकन में जब बेहद बीहड़ता थी, तब छायावाद पर लिखा । प्रसाद पर लिखा, नरेश मेहता पर लिख रहा हूँ ।
    ० 
    पत्रिका के स्तरीय पाठक के अलावा भी पाठकों का एक वर्ग होता है, जो साहित्य के प्रति उत्सुक होता है । इसलिए कुछ ऐसी रचनाएँ भी होनी चाहिए, जिनके जरिए ऐसे पाठक पत्रिका में प्रवेश कर सकें, उनका संस्कार हो सके । पत्रिका के महत्त्व की एक कसौटी यह भी है कि वह कितनी प्रतिभाओं को सिरजती और प्रोत्साहित करती है । कई अच्छे लेखक पत्रिकाओं के निर्माण होते है ।
    ० 
    व्यावसायिक पत्रिकाओं से जुडी हुई संपादक की संस्था भी बहुत कमजोर हो गई है। पत्रिकाएं हमेशा संपादक के बलबूते पर ही निकलती और यशस्वी होती है । 'सरस्वती' से लेकर 'सारिका' और 'धर्मयुग' का यहीं इतिहास रहा है । लोकप्रिय पत्रिकाओं को भी दोयम और दृष्टिहीन संपादक नष्ट का देते हैं । 

    [प्रभाकर श्रोत्रिय द्वारा प्रश्नोंत्तर के कुछ अंश]
  • Mere Saakshatkaar : Ramesh Chandra Shah
    Ramesh Chandra Shah
    175 158

    Item Code: #KGP-2034

    Availability: In stock

    मेरे साक्षात्कार : रमेशचन्द्र शाह
    साक्षात्कार (इंटरव्यू या 'हाई टॉक") एक नई विधा है । नई विधा किसी ज़रूरत, किसी अनिवार्य माँग या चुनौती के दबाव से उत्पन्न होती है । इसीलिए उसमें नई संभावनाएँ भी देखी जा सकती हैं । किसी जमाने में रचना-प्रक्रिया को लेकर बली कौतूहल उपजा करता था : यह दौर भी बीत गया और उसकी जगह खुद रचनाकार को उसकी रचना से बाहर टोहने- पकड़ने तथा आमने-सामने की सीधी बातचीत के ज़रिए उसकी रचना-प्रक्रिया को ही नहीं, उसके व्यक्तित्व-निर्माण और सामाजिक-सांत्कृतिक-आध्यात्मिक अंत:क्रियाओं के भीतर झाँकने की प्रेरणा ने ले ली : उसके भीतर चल रहे अतिरिक एकालाप को भी एक जीवंत संवाद की तात्कालिक उत्तेज़नाओं के भीतर से प्रत्यक्ष करने की उत्सुकता ने । यह उत्युकता सहज-स्वाभाविक है : उसका अपना औचित्य, अपना आकर्षण और अपनी उपयोगिता भी है : उनके लिए विशेष रूप से, जिन्होंने 'साक्षात्कृत' लेखक की रचनाओं को सचमुच पढा है ।  किंतु जिन्होंने नहीं पढा है या बहुत कम पढा है, उन्हें भी पढ़ने के लिए प्रेरित किया जा सके-वैसी उत्सुकता लेखक के रचना-संसार के प्रति ये साक्षात्कार जगा सकें तो यह इस उपक्रम का अतिरिक्त लाभ होगा-दुहरी सार्थकता ।
    श्री शाह की बहुविध और बहुवचनी [किताबघर प्रकाशन' से ही प्रकाशित उनकी अनेक विधाओं की चुनी हुई रचनाओं के संकलन 'बहुवचन' का आधार लें तो] सृजनात्मकता की सम्यक् रीझ-बूझ को उकसाने में ये 'साक्षात्कार' सहायक और उपयोगी होंगे, ऐसी आशा-इन्हें पढ़ते हुए-सहज ही मन में  जगती है । इसलिए भी, कि लेखक से 'इंटरव्यू' लेने वालों में कई तरह की रुचियों और प्रवृत्तियों वाले सहृदय सामाजिक शामिल हैं : समानशील लेखक भी, पत्रकार और समाज-रचना के कार्यों से जुड़े हुए अन्य लोग भी।
  • Mere Saakshatkaar : Ashok Vajpeyi
    Ashok Vajpayee
    125 113

    Item Code: #KGP-2037

    Availability: In stock

    मेरे साक्षात्कार : अशोक वाजपेयी
    देश के सर्वाधिक विवादास्पद संस्कृतिकर्मी, कवि और आलोचक अशोक वाजपेयी गत तीन दशकों से हिन्दी साहित्य और संस्कृति के परिदृश्य पर छाए हुए हैं। कविता और आलोचना के साथ-साथ समय साहित्य और कलाओं के प्रति बहुलतावाद के पक्षधर श्री वाजपेयी पर अब तक जितने वैचारिक हमले हुए हैं, वे यह सिद्ध करने के लिए काफी है कि उनको भूलकर स्वातंत्र्योत्तर साहित्य की बहस अधुरी रहेगी ।
    'मेरे साक्षात्कार' श्रृंखला की यह पुस्तक उन तमाम आरोपों और बहसों का एक दस्तावेज है जो गत तीस वर्षों में होती रहीं है । इनमें अशोक वाजपेयी ने बहुत सफाई से अपने पर लगाए जाते रहे आरोपों का खंडन किया है और साहित्य की सार्थक भूमिका को रेखांक्ति किया है । बातचीत में शामिल मुद्दे वहीं है जो वर्षो से साहित्यिक परिदृश्य पर उठते रहे है । इन मुद्दों में कला और साहित्य की स्वायत्तता तथा उसकी प्रजातांत्रिकता, कलादृष्टियों की लोकतांत्रिकता का सम्मान, साहित्य की समाज-सापेक्षता, कलावाद की जरूरत, कविता और विचार का द्वंद्व , उत्तर-आधुनिकता की उपादेयता और जीवन में साहित्य के सरोकार जैसे मुद्दे इस पुस्तक में बसी मुस्तैदी से उठाये गए है जिनका सटीक, सार्थक और दोटूक ज़वाब देते हुए अशोक वाजपेयी ने अपनी संघर्ष-यात्रा की सार्थकता प्रमाणित की है । पशिचमी अवधारणओं पर अपनी श्रेष्ठता सिद्ध करने वाले कथित आलोचकों को भी वे करारा झटका देते है जब कहते है कि 'उत्तर- आधुनिकता भरत में प्राक आधुनिकता है ।'
    अशोक बाजपेयी हिन्दी ही नहीं देश के दो-तीन ऐसे आलोचकों- भावकों में हैं जिनके लिए कलाओं का भी उतना ही मूल्य है जितना कि साहित्य का । पुस्तक में कई स्थलों पर संगीत, नृत्य, रूपंकर आदि कलाओँ पर बात करते हुए श्री वाजपेयी ने कलाओं की पारस्परिक्ता और मित्रता के कई ऐसे सूत्रों का भी खुलासा किया है जिनकी चर्चा हाल में अधिक मुखर हुई है । कहना चाहिए कि यह पुस्तक अपनी बेबाकी और उपादेयता के कारण उन सबको पसंद आएगी जो साहित्य को महज़ हथियार नहीं, संख्या भी मानते हैं ।
  • Mere Saakshatkaar : Bhishm Sahni
    Bhishm Sahni
    250 225

    Item Code: #KGP-861

    Availability: In stock


  • Mere Saakshatkaar : Shyam Singh Shashi
    Shyam Singh Shashi
    300 255

    Item Code: #KGP-581

    Availability: In stock


  • Mere Saakshatkaar : Chitra Mudgal
    Chitra Mudgal
    335 285

    Item Code: #KGP-557

    Availability: In stock


  • Mere Saakshatkaar : Mohan Rakesh
    Mohan Rakesh
    225 203

    Item Code: #KGP-841

    Availability: In stock


  • Mere Saakshatkaar : Amrita Pritam
    Amrita Pritam
    250 225

    Item Code: #KGP-16

    Availability: In stock

    मेरे साक्षात्कार : अमृता प्रीतम
    पंजाबी और भारत के सर्वश्रेष्ठ साहित्यकारों में से एक, अमृता प्रीतम के साक्षात्कारों की यह किताब हमें उस अमृता से मिलाती है, जिसकी जात उसके ज़माने के हर दु:ख का आईना है । यह दु:ख चाहे निजी हो या दुनिया के किसी भी समाज में किसी भी इंसान का । यह भी ज़रूरी नहीं कि इसका संबंध उसके समय से हो । अत्याचार दूर कहीं अतीत में भी किसी के साथ हुआ हो, तो वह युगों और सदियों के फासले पर भी उसकी पीड़ा अपने भीतर महसूस करती है । इसी तरह अपने गम में उन्हें अपना साथी मानकर उनसे अपना दर्द बाँटती है । समकालीन साहित्यकारों के साथ, इतिहास के साथ, सूफियों के साथ अमृता ने जो बातचीत की है, उसमें समय या सोच का कोई फासला कहीं प्रतीत नहीं होता । यह किताब अमृता के जीवन के समस्त पहलुओं को अपने में समेटे हुए है । और आगाज़ से अंजाम तक अमृता के जीवन और सृजन का आईना बनकर अब आपके हाथों में है ।
  • Mere Saakshatkaar : Nirmal Verma
    Nirmal Verma
    195 176

    Item Code: #KGP-739

    Availability: In stock


  • Mere Saakshatkaar : Narendra Kohli
    Narendra Kohli
    215 194

    Item Code: #KGP-2033

    Availability: In stock

    मेरे साक्षात्कार : नरेन्द्र कोहली
    ऐसा कभी-कभी ही होता है कि आपका कोई पाठक, मित्र, समीक्षक, छात्र या कोई वास्तविक जिज्ञासु किसी प्रयोजन से या मात्र अपनी जिज्ञासा-शांति के लिए अपने सतह को कुछ छीलकर आपको तह तक नहीं तो कम से कम आपकी त्वचा के नीचे तक जानना चाहता है । वह लेखक के मानसिक संसार को उघाड़ना चाहता है । और मैंने प्रायः देखा है कि उस प्रकार की जिज्ञासा लिए हुए प्रश्नों का उत्तर मेरे पास भी बना-बनाया, तैयार नहीं होता । मुझे भी स्वयं अपने आप को टटोलना पाता है । अपने मानसिक संसार को पढ़ना पड़ता है । आश्चर्य होता से कि मैं तो स्वयं ही अपने आप को नहीं जानता था । नहीं जानता था कि मेरा 'स्व' क्या है । वे ऐसे प्रश्न होते हैं, जिनके माध्यम से लेखक स्वयं अपना आविष्कार करता है । अपने 'स्व' से परिचित होता है । उन प्रश्नों का उपकार मानता है कि उन्होंने उसे स्वयं अपने आप से परिचित कराया ।
    मेरा प्रयत्न है कि इस पुस्तक के माध्यम से कुछ ऐसे ही साक्षात्कार अपने पाठकों तक पहुंचा सकूँ । समय है कि वे उस लेखक नरेन्द्र कोहली को कुछ जान सकें, जो सामने पड़ने पर, मिलने-जुलने पर सामान्यत: आपसे मिलता नहीं है । वह नरेन्द्र कोहली अपने एकांत से है, जो सामान्यता सार्वजनिक रूप से सामने आना नहीं चाहता । आत्मीय जनों से मिलना और बात है और राह चलते लोगों को दिखना और । फिर भी...
    -नरेन्द्र कोहली
  • Mere Saakshatkaar : Vishnu Prabhakar
    Vishnu Prabhakar
    300 270

    Item Code: #KGP-2038

    Availability: In stock

    मेरे साक्षात्कार : विष्णु प्रभाकर
    गांधीवादी चिंतक, विचारक, लेखक विष्णु प्रभाकर ने जितना साहित्य रचा है, उससे कम बोला भी नहीं कहा जा सकता ।
    सन् '52 में विष्णु जी का पहला साक्षात्कार पदूमसिंह शर्मा 'कमलेश' ने लिया था । उसके बाद अब तक न जाने कितने वार्ताकारों ने विष्णु जी को अपने समय, समाज और यादों के पिटारे को आने पर बाध्य किया है ।
    वार्ताकार अपनी और से कुछ नया, कुछ महत्वपूर्ण जानने ही किसी विशिष्ट जन के पास जाता है, पर क्या हर बार ऐसा हो पाता है कि विशिष्ट जन कुछ अनकहा कह पाया हो ? प्रस्तुत पुस्तक में विष्णु जी के कई ऐसे साक्षात्कार है जिनके जवाबों ने तो पाठकों को चौंकाया ही, जिनके सवालों ने स्वयं विष्णुजी को भी कम हैरत में नहीं डाला । पुस्तक की भूमिका में उन वार्ताकारों का, उनके सवालों का और उनके सरोकारों का उल्लेख करना ही इस बात का पुख्ता  प्रमाण है कि वार्ताकार ने वार्तादाता को कितना मथा ।
    विष्णु प्रभाकर न सिर्फ गांधीवादी लेखक-चिंतक है, वे बांग्ला उपन्यासकार शरतचंद्र चट्टोपाध्याय के जीवनीकार, स्वतंत्रता संग्राम सेनानी, मसिजीवी, यायावर, नाटक, कहानी, उपन्यास, निबंध और साठित्य की विविध विधाओं के सर्जक हैं । स्वाभाविक है, विष्णु जी की वार्ताओं में न केवल हमारा निकट अतीत, विकट वर्तमान और संकटग्रस्त भविष्य उजागर हुआ है, साहित्य के सरोकार, एक लेखक का संधर्ष और साहित्य की धरोहर भी उजागर हुई है ।
    संकलित साक्षात्कार पाठक तक उतना कुछ थोंड़े में पहुंचाने में समर्थ हैं, जितना कुछ कई योगियों में दर्ज करने पर भी न पहुँच पाया होगा ।
  • Mere Saakshaatkaar : Malti Joshi
    Malti Joshi
    180 162

    Item Code: #KGP-1298

    Availability: In stock


  • Mere Saakshaatkaar : Vishnu Nagar
    Vishnu Nagar
    400 320

    Item Code: #KGP-629

    Availability: In stock


  • Mere Saakshatkaar : Khushwant Singh
    Khushwant Singh
    215 194

    Item Code: #KGP-538

    Availability: In stock


  • Mere Saakshatkaar : Vishvanath Prasad Tiwari
    Vishwanath Prasad Tiwari
    150 135

    Item Code: #KGP-2032

    Availability: In stock

    मेरे साक्षात्कार : विश्वनाथप्रसाद तिवारी
    इस पुस्तक में संकलित साक्षात्कार अपने समय के एक महत्त्वपूर्ण लेखक से साक्षात्कार तो हैं ही, संपूर्ण  साहित्य से भी साक्षात्कार हैं । खास तौर से समकालीन साहित्य से । स्वयं अपने बारे में दिए गए संकेतों के साथ लेखक ने रचना और आलोचना के बुनियादी सरोकारों को भी स्पष्ट किया है तथा अपने समकालीनों के बारे में भी उसने दो टूक प्रतिक्रियाएँ व्यक्त की है । इन प्रतिक्रियाओं में साहस के साथ संयम भी है और कथ्य के साथ तथ्य भी । लेखक क्योंकि किसी संघ या गुट में विश्वास नहीं करता, किसी दलीय विचारधारा का वह कट्टर अनुयायी नहीं है अतः कोई उसका अपना-पराया भी नहीं है । दूसरों की रचना ही उसके लिए प्रमाण है । वह इतना आत्मलिप्त भी नहीं है कि अपनी रचना की सीमाओं की पहचान न सके । इसलिए आत्मप्रशंसा और परनिंदा के लिए इन साक्षात्कारों में कोई जगह नहीं है । पूछे गए प्रश्नों के संतुलित, तर्कसंगत, सुलझे हुए और सीधे जवाब इन साक्षात्कारों की विशेषताएं हैं । इनको पढ़ते हुए बहुत; से पाठकों के मन की बहुत-सी धुंध साफ होगी, उनकी बहुत-सी उलझनों के सही और स्पष्ट उत्तर मिलेंगे । उन्हें महसूस होगा कि इन साक्षात्कारों को पढ़कर वे समृद्ध हुए हैं और उनके सामने सृजन और चिंतन की अनेक नई दिशाएं उभरी हैं जिधर वे सोच सकते हैं और चाहें तो चल भी सकते हैं।
  • Mere Saakshaatkaar : Shrilal Shukla
    Shree Lal Shukla
    190 171

    Item Code: #KGP-173

    Availability: In stock


  • Mere Saakshatkaar : Ramnika Gupta
    Ramnika Gupta
    240 216

    Item Code: #KGP-623

    Availability: In stock


  • Mere Saakshatkaar : Nemi Chandra Jain
    Nemichandra Jain
    150 135

    Item Code: #KGP-2088

    Availability: In stock

    मेरे सक्षात्कार : नेमिचन्द्र जैन
    'मेरे साक्षात्कार' श्रृंखला में वरिष्ट कवि, आलोचक और नाट्य चिंतक नैमिचन्द्र जैन की पुस्तक का महत्व इस बात में निहित है कि इसमें नैमिजी के व्यक्तित्व और कृतित्व के उन पक्षों पर प्रकाश पड़ता है जो प्रायः अलक्षित रहे हैं । नैमिजी हिंदी की सबसे बुजुर्ग पीढी में आते है और उन्होंने पिछले साठ-पैंसठ वर्षों  के साहित्यिक आंदोलनों, सांस्कृतिक परिवर्तनों और सामाजिक उथल-पुथल के न केवल करीब से देखा है वरन उसको जिया भी है; इसलिए यहाँ दिखाई देगा कि जिन प्रश्नों पर हम आज भी बात करने से कतराते रहे है, उनका सामना वे बहुत पहले कर चुके है । चाहे इप्टा के गठन का कल हो या बंगाल के अकाल का प्रश्न, चाहे तारसप्तक के प्रकाशन या संपादन का विवाद हो या ठप्पेदार आलोचना पर प्रहार, चाहे नाटयालोचन में फैले धुँधलके का प्रश्न  हो, चाहे व्यापक सांस्कृतिक विमर्श का-नैमिजी सब पर बात करते है और इस अनौपचारिकता के साथ कि उनका कहा गया एक-एक वाक्य सबक बनता जाता है । नैमिजी  अपने कृतित्व में जितने बेलाग है, उतने ही अपने व्यक्तित्व में भी खुले हुए । आप चाहें तो उनको साफ-साफ देख सकते है । अपने परिवार, उसकी समस्याएँ, स्वयं का संघर्ष और-समग्रता में हमारे समाज के एक-एक रहस्य को खेलते नैमिजी रचना और व्यक्ति के उस भेद को खोल देते है कि दोनों में कहीं कोई गुत्थी  न है और न होनी चहिए ।
    साहित्य, रंगकर्म, संस्कृति के अनेक असुविधाजनक प्रश्नों सहित व्यापक वैचारिक विमर्शों  के माध्यम से नैमिजी ने जो स्थापनाएँ की है वे शब्द के लिए उतनी ही महत्त्वपूर्ण है जितनी कर्म के लिए । जीवन के अनेक अनुभव यहाँ मानो एक ऐसा जल-स्रोत बन गए है जो हर मौसम में शीतलता देता है । साक्षात्कार अनौपचारिक और पूर्णतया संवाद की शैली में है, इसलिए पुस्तक से गुज़रते हुए पायेंगे कि आप भी इस बातचीत में शामिल होते जा रहे है । साहित्य और संस्कृति को परखने, अतीत को देखने और भविष्य की वैचारिकता को आधार देने की दिशा में पुस्तक का महत्व निर्विवाद रूप से प्रमाणित होता है ।
  • Mere Saakshaatkaar : Vidya Sagar Nautiyal
    Vidya Sagar Nautiyal
    250 225

    Item Code: #KGP-635

    Availability: In stock


  • Mere Saakshatkaar : Shiv Prasad Singh
    Shiv Prasad Singh
    100 90

    Item Code: #KGP-2024

    Availability: In stock

    मेरे साक्षात्कार : शिवप्रसाद सिंह
    शिवप्रसाद सिंह स्वीकार करते हैं कि "मैं भाव और रूप को अपनी क्षमता पर बाँध सकने की कोशिश में कुछ भी उठा नहीं रखता । उनका यह भी मानना है कि सत्य तो साक्षात् देखा होने पर भी भाषा की गुंजलक में अँट नहीं पाता । अधूरे सपने पूरे मानसिक ताप में जब पिघलते हैं तो सही क्षण पहचानकर उन्हें भी में डालना, शीतल करना और फिर बाहर निकालकर चमक दे देना कलाकार की तपस्या है । उसकी डाई (साँचा) विश्व के किसी भी अन्य कथाकार-रचनाकार से मेल नहीं खाती, न तो कहीं से कोई सादृश्य ही रखती है, यहीं वैयक्तिक स्वतन्त्रता रचनाकार की निजी धरोहर और यही उसके मन की प्रतिबद्धता भी ।
    साक्षात्कारों में अक्सर प्रस्तुतकर्ता की अपनी समझ रूपायित होती है, पर जो पाठक प्रश्न के साथ जुड़े हो उन्हें उत्तर से भी जुड़ना लाजिम नही है । शिवप्रसाद सिंह कहते है कि प्रेमबंधन को चटकाकर तोड़ने पर गाँठ पड़ना अनिवार्य है । जुड़ना बिना ग्रंथि के संभव नहीं होता, पर इससे धीरे-धीरे धागा छोटा होता रहता है । उसे अगर पहली स्थिति में लाना हो तो गांठें खोलिए और तब वह धागा वस्तु-जगत को प्रेम की डोर से बाँध लेगा ।
    यह नई पुस्तक साक्षात्कारों पर केंद्रित है जिसमें उनके समवयस्क या नई पीढी, समकालीन पीढी से जुड़े रचनाकारों, पत्रकारों के प्रश्नों के उत्तर है । शायद इनमें से कोई प्रश्न आपका भी हो, तो उत्तर पर सोचिए--
  • Mere Saakshaatkaar : Nasera Sharma
    Nasera Sharma
    350 315

    Item Code: #KGP-664

    Availability: In stock


  • Mere Saakshatkaar : ShrInaresh Mehta
    Shree Naresh Mehta
    245 221

    Item Code: #KGP-871

    Availability: In stock


  • Mere Saakshatkaar : Manager Pandey
    Manager Pandey
    125 113

    Item Code: #KGP-541

    Availability: In stock


  • Mere Saakshaatkaar : Kunwar Narain
    Kunwar Narayan
    235 212

    Item Code: #KGP-9049

    Availability: In stock


  • Mere Saakshatkaar : Mamta Kaliya
    Mamta Kalia
    200 180

    Item Code: #KGP-558

    Availability: In stock


  • Mere Saakshatkaar : Pooran Chandra Joshi
    Pooran Chandra Joshi
    150 135

    Item Code: #KGP-2031

    Availability: In stock

    मेरे साक्षात्कार : पूरनचन्द्र जोशी
    वरिष्ठ समाजशास्वी प्रोफेरुवृर फूनचद्ध जोशी के साथ पिछले बीस वर्षों के सऊक्षात्कार इस स्थापन में पाठकों के लिए प्रस्तुत है । यह संकलन वास्तव में साक्षात्कार के माध्यम से आजादी की आधी सदी में भारतीय समाज की दूरगामी महत्त्व की प्रक्रियाओं और परिवर्तनों, उनके अंतर्सबंधों और अंतर्द्धंद्वों, उपलब्धियों और संभावनाओं, आग्रहों और अवरोधों पर प्रकाश डालता है । साथ ही बीसवीं सदी के अंत और इक्लीसवीं सदी की पूर्व संध्या पर नए गतिशील क्षितिजों और दिशाओं का भी संकेत देता है । यह अकादमिक समाज के लिए नई दृष्टि और व्याख्याएँ प्रस्तुत करता है, तो जिज्ञासु और प्रबुद्ध नागरिको के लिए भारत के बदलते परिदृश्य और परिप्रेक्ष्य को भी आलोकित करता है ।
    यह संकलन यदि नई दृष्टि और जानकारी देता है तो पाठकों को अपने लिए सोचने को प्रेरित भी करता है और उनमें अपने दायित्व का बोध भी जाता है ।
    'मेरे साक्षात्कार' में योगदान उन श्रेष्ठ पत्रकारों और लेखकों का भी है जो विचारशील प्रश्चकर्ताओं के रूप में प्रोफेसर जोशी की बहुआयामी दृष्टि और वर्तमान भारत की समस्याओं पर उनकी गहरी सोच और चिंतन-प्रकिया को पाठकों तक सम्प्रेषण। में सफल हुए हैं।
    पुस्तक तीन खंडों में विभाजित है : ( 1) आधी सदी का सफर, (2) नई चुनौतियां नया एजेंडा, (3) कुछ वक्तव्य । प्रथम दो खंडों में प्रोफेसर जोशी से साक्षात्कार प्रश्न और उत्तर क्या प्रस्तुतियों के रूप में दिए गए है । तीसरे खंड में कुछ महत्त्वपूर्ण सामयिक विषयों पर प्रोफेसर जोशी के विचार कुछ वक्तव्यों के रूप में प्रस्तुत है ।
  • Mere Saakshaatkaar : Govind Mishra
    Govind Mishra
    400 360

    Item Code: #KGP-760

    Availability: In stock


  • Mere Saakshaatkaar : Mannu Bhandari
    Mannu Bhandari
    350 315

    Item Code: #KGP-678

    Availability: In stock


  • Mere Saakshatkaar : Amrit Lal Nagar
    Amritlal Nagar
    490 417

    Item Code: #KGP-478

    Availability: In stock


  • Mere Saakshatkaar : Leeladhar Jaguri
    Leeladhar Jaguri
    175 158

    Item Code: #KGP-2036

    Availability: In stock

    मेरे साक्षात्कार : लीलाधर जगूडी
    हर दशा में इंटरव्यू ज्यादातर बोलकर ही देने होते हैं और अमूमन यह सुकून रहता है कि जो बोला गया है, वह लिख लिया गया है या अंकित हो गया है; क्योंकि एक लेखक शायद बोलकर उतना अलग नहीं हो सकता जितना लिखे जाने के बाद अलग हो सकता है । अलग होना माने मुकर जाना नहीं बल्कि रचनात्मक रूप में अपनी किसी विचाराभिव्यक्ति से मुक्त होना है । मुझे कभी-कभी पूरा ब्रह्मांड भागता हुआ टेप लगता है और इसमें ग्रह-नक्षत्रों की आपसी दूरी और दिन-रात भी बड़े-बड़े पॉज की तरह दिखाई देते हैं । इतने सारे अवकाश के बावजूद धूलकणों की तरह मूझे भी कहीं अंकित होने के लिए अपने लायक स्पेस की खोज करनी होती है ।
    सोचना और बोलना एकसाथ हो जाए तो सोच के बोलों की भी सार्थकता और बढ़ जाए । सोच की बोली-भाषा, लिखी और सँजोई जाए तो विचार की भी टहनियाँ व फुनगियाँ स्पष्ट होती चली जाती हैं ।
    बोलना भले ही अकेले भी हो उकता है, लेकिन वह बोलना कम बड़बड़ाना ज्यादा होता है । अपने बोले हुए को आलोचनाविहीन होकर खुद ही सुनना, उस एक ही बोलने-सुनने वाले को और भी अकेला कर  देता है । इसलिए बोले हुए को सुनने वाला और लिखे हुए को पढ़ने वाला कोई दूसरा जरूर चाहिए ।
    शब्द की चित्रात्मवक्ता लिपि से लेकर अर्थरंजन तक फैली दिखती है । अंतर्सगीत, नृत्य, नाट्य और रंगबोध भी शब्द के व्यवितत्व की विशेषताएँ हैं । इसीलिए शब्दों को जितने प्रकार की वाक्य संगतियों में  जितनी बार लिखते हैं उतनी बार जाने हुए को फिर से जानने का और अनजाने को पहली बार जानने का मौका मिलता है ।
    कभी यह भी लगता है कि लिखना और बोलना दोनों ही, जो कुछ अब तक अनुभव किया, आत्मसात किया--उसी की पुनर्रचना है । जो अच्छा बोलना जानते हैं कभी-कभी उनका बोलना ही लिखने जैसा हो  जाता है । शरद ऋतु की प्रवाहपूर्ण स्वच्छ नदी के जल में विस्तार के साथ-साथ गहराई भी साफ दिखाई देती है । फर्क इतना ही है कि लिए हुए में पकड़े जाने का डर है; बोले हुए को बोलने वाला भी दुबारा नहीं पकड़ सकता ।
  • Mere Saakshatkaar : Bhawani Prasad Mishra
    Bhawani Prasad Mishra
    280 252

    Item Code: #KGP-413

    Availability: In stock


  • Mere Saakshatkaar : Maheep Singh
    Mahip Singh
    160 144

    Item Code: #KGP-529

    Availability: In stock


Scroll