Veshya

Ajay Kumar Singh

Availability: In stock

Seller: KGPBOOKS

Qty:
395.00 356 + Free Shipping


  • Year: 2011

  • Binding: Hardback

  • Publisher: Dolphin Books

  • ISBN No: 9788188588251

वेश्या
अच्छे समाज के निर्माण की प्रक्रिया में स्वयं समाज को अनेक अंतर्विरोधों से जूझना पड़ता है। समाज का उत्थान हर व्यक्ति द्वारा व्यक्तिगत लाभों के त्याग द्वारा ही सुगम बनता है। मनुष्य का स्वार्थी होना स्वाभाविक गुण है, जो उसे सीमित करता है। वही त्याग का आदर्श है, जिससे निर्माण एवं सृजन की प्रक्रिया प्रारंभ होती है। समाज जब अपने वेश्यापन को छोड़ आदर्श की ओर बढ़ेगा तभी हम सभ्य समाज का निर्माण कर सकेंगे।
आज के समय में समाज का बहुसंख्यक वर्ग निजी लाभ को समाज के लाभ से श्रेयस्कर समझता है। यह रीति ही हमें तृतीय विश्व के देशों का हिस्सा बनाती है। हमारी सोच प्रथम विश्व एवं द्वितीय विश्व के समाज के समान नहीं है। यही हमारा दुर्भाग्य है। ऐसे में कुछेक ऊँची सोच वाले लोग अंत में अपने को ठगा हुआ-सा महसूस करते हैं।

Ajay Kumar Singh

डॉ० अजय कुमार सिंह
जन्म : 28 जून, 1972
जन्म-स्थान : ग्राम : कंडाप, थाना : गौरीचक (पटना, बिहार)
शिक्षा : प्रारंभिक शिक्षा : उर्सुलाइन कॉन्वेंट, पूर्णिया, (बिहार) ०  माध्यमिक शिक्षा : जिला स्कूल, पूर्णिया (बिहार) ०  उच्चतर माध्यमिक—स्नातकोत्तर : अनुग्रह नारायण कॉलेज, पटना (बिहार) ०  डॉक्टरेट डिग्री : इतिहास विभाग, मगध विश्वविद्यालय, बोधगया (बिहार)
पूर्व प्रकाशित पुस्तकें : कॉन्ट्रेक्ट टाइम, बियोंड लाइफ, आशा

Scroll