Ukaav

Kshitij Sharma

Availability: In stock

Seller: KGPBOOKS

Qty:
250.00 225 + Free Shipping


  • Year: 2006

  • Binding: Hardback

  • Publisher: Kitabghar Prakashan

  • ISBN No: 9788170167693

उकाव
'उकाव' पहाडी जिंदगी की गाथा है। एक मायने में उपन्यास की कथा पुरुष-नियंत्रण समाज द्वारा नारी पर थोपे गए उत्पीडक नियमों की भर्त्सना है । नैतिकता के इकहरे मानदंडों के कारण किन्हीं कमजोर क्षणों में हुई एक तथाकथित 'गलती' के प्रतिकार में श्यामा किस तरह सारा जीवन होम कर देती है, लेखक ने इस संघर्ष को इतने मार्मिक और प्रामाणिक ढंग से चित्रित किया है कि यह पहाडी औरत की जिंदगी का ही दस्तावेज बन गया है । कुमाऊँ के पहाडों का ग्रामीण जीवन जितनी अंतरंगता  और विविधता में इस उपन्यास में चित्रित हुआ है, यह बरबस रेणु और शैलेश मटियानी की याद दिला देता है । संभवत: किसी रचना का आंचलिक बनना इस बात पर निर्भर है कि वह किसी स्थान विशेष के लोगों का चित्रण करते हुए यहीं की भौगोलिक ही नहीं वक्ति सांस्कृतिक और मूल्यगत विशिष्टताओं को कितनी उत्कटता व सघनता से अभिव्यक्त करती है । इस संदर्भ में देखें तो 'उकाव' निश्चित ही एक आंचलिक रचना है, पर तब दुनिया की कौन-प्ती ऐसी रचना है जो इस बात से न पहचानी जाती हो कि उसमें कितनी गहराई और मजबूती से अपने समय और स्थान की पहचान छिपी है ?
सही मायनों में देखा जाए तो प्रेम, प्रतिकार, बलिदान और संघर्ष की यह गाथा अपनी भौगोलिक और सांस्कृतिक सीमाओं का अतिक्रमण करती हुई पहाडी औरत के ही नहीं बल्कि संपूर्ण भारतीय नारी के बहुआयामी व विराट, स्वरूप का दर्शन कराती है । और यही लेखक की सृजनात्मकता की कसौटी है ।
यह इत्तफाक नहीं है कि क्षितिज शर्मा लेखन की उस परंपरा के अधिक निकट पड़ते है जिसका स्रोत शैलेश मटियानी है । मटियानी जी की रचनाओं में पहाडी जीवन की झाँकी सबसे ज्यादा वास्तविक और प्रामाणिक ढंग से नजर जाती है । क्षितिज शर्मा उस परंपरा को आगे बताते हुए पहाडी गाँवों के संघर्षमय जीवन को जिस तरह से चित्रित करते है, वह मुझ जैसे तथाकथित पहाडियों के लिए भी एक 'रिबिलेशना से कम नहीं है ।
-पंकज बिष्ट

Kshitij Sharma

क्षितिज शर्मा
जन्म : 15 मार्च, 1950, गाम रिष्टना (मानिला) जनपद अलमोड़ा (उत्तरांचल)
कृतियाँ:- कहानी-संग्रह : 'ताला बंद है', 'समय कम है', 'गोरखधंधा', 'उत्तरांचल की कहानियाँ'; उपन्यास : 'उकाव', 'पगइंडियाँ'; बाल-उपन्यास : भवानी के गांव का बाधा', ‘पामू का घर’
पुरस्कार : 'उकाव' के लिए पहला आर्य स्मृति साहित्य सम्मान ०  'पगडंडियाँ' के लिए हिंदी अकादमी का साहित्यिक कृति सम्मान ० 'भवानी के गांव का बाघ' के लिए हिंदी अकादमी का बाल-साहित्य पुरस्कार और वर्ष 1987 के कृष्ण प्रताप स्मृति कथा पुरस्कार से सम्मानित

Scroll