Aadhi Chutti Ka Itihas

Raj Kumar Gautam

Availability: In stock

Seller: KGPBOOKS

Qty:
140.00 126 + Free Shipping


  • Year: 2011

  • Binding: Hardback

  • Publisher: Kitabghar Prakashan

  • ISBN No: 9788170162759

आधी छुट्टी का इतिहास
हिंदी के चर्चित कथाकार राजकुमार गौतम की कहानियाँ समकालीन जीवन-स्थितियों  का गहरी इमानदारी से  उकेरती हैं । शहरी और  कस्बाई निम्न-मध्यवर्ग उनकी कहानियों में विशेष रूप से चित्रिन हुआ है, जो न तो किताबी है और न आयातित, बल्कि ठेठ हिंदुस्तानी हैं । यही कारण है कि राजकुमार गौतम की प्राय प्रत्येक कहानी किसी भी साहित्यिक वाद-विवाद से परे सामाजिक यथार्थ के विभिन्न स्तरों की खरी पहचान कराने में समर्थ है ।
आधी छुट्टी का इतिहास में राजकुमार गौतम की एक दर्जन कहानियाँ संगृहीत हैं । इनसे गुजरते हुए लगया कि इनका प्रत्येक कथा-चरित्र हमारे एकदम नजदीक है या शायद हमारा ही प्रतिरूप  है। इतना ही नहीं, इनमें उन निर्जीव  वस्तुओं को भी जुबान मिली है, जो हमारी रोज  की बुनियादी जरूरतों को पूरा करती  हैं और इसी बिंदु पर ये कहानियाँ मनुष्य की अभावग्रस्त जिंदगी, यातना और उसकी जिजीविषा को मार्मिक ढंग से उजागर करती  ।
टुटे-अधटूटे पारिवारिक रिश्तों और दायित्वों का बोझ ढोते, घर-दफ्तर के बीच चक्कार काटते तथा छोटी-छोटी इच्छाओं, खुशियों और उम्मीदों की पूर्ति के  लिए दिन- दिन  कितने ही चरित्र इन कहानियों में हैं, जो हमने बोलना-बतियाना चाहते  हैं, ताकि अपने जीवन पर पड़ते विभिन्न दबावों के प्रतिरोध की ताकत बटोर और सौंप  सकें । संक्षेप में, अपने सामाजिक परिवेश, उसके यथार्थ और अपनी लडाई के निजी मोर्चों की पहचान के लिए इन कहानियों को लंबे समय तक याद किया जाएगा ।

Raj Kumar Gautam

राजकुमार गौतम 
जन्म : 1 अगस्त, 1955 (कनखल, हरिद्वार)
शिक्षा : बी०ए० (मेरठ विश्वविद्यालय)
कृतियाँ-
कहानी-संग्रह : काल दिन ०  उत्तरार्द्ध की मौत ०  आधी  छुट्टी का इतिहास ०  दूसरी आत्महत्या ० आक्रमण तथा अन्य कहानियां ०  कब्र तथा अन्य कहानियाँ
उपन्यास : ऐसा सत्यव्रत ने नहीं चाहा था
व्यंग्य कथा-संग्रह : वरंच ०  अँगरेज़ी की रंगरेजी 
संपादित संग्रह : आठवें दशक  के कहानीकार, सीपियां
नाट्य रूपांतर : सूत्रगाथा (मूल  : मनीषराय)
सहयोगी कृतियाँ : अंतर्यात्रा (इंटरव्यू) ०  सामना (कहानियाँ) धीरेन्द्र अस्थाना तथा बलराम के साथ
अन्य : लगभग 60 संपादित पुस्तके,  सहयात्री लेखक; 'आधी छुट्टी का इतिहास' को हिंदी अकादमी, दिल्ली  द्वारा कृति पुरस्कार (1986); 'आक्रमण तथा अन्य कहानियाँ' को उत्तर प्रदेश हिंदी संस्थान द्वारा यशपाल पुरस्कार (1990) सैंकडों पुस्तकों/पत्रिकाओं पर लिखी गई समीक्षात्मक टिप्पणियों का विभिन्न स्तरीय पत्र- पत्रिकाओं में प्रकाशन

Scroll