Zanjeer Bol Uthi

Jaidi Zafar Raza

Availability: In stock

Seller: KGPBOOKS

Qty:
180.00 162 + Free Shipping


  • Year: 2011

  • Binding: Hardback

  • Publisher: Surabhi Prakashan

  • ISBN No: 9789380631073

ज़ंजीर बोल उठी
घटनाओं का कालक्रम में होना इतिहास नहीं बुनता। हाँ, घटनाएँ जब ठहरकर संवाद की स्थिति बनाती हैं और समय के भाल पर अपना निशान छोड़ जाती हैं तो इतिहास के अंकुर स्वतः फूट पड़ते हैं। डॉ जै़दी के कहानी-संग्रह ‘ज़ंजीर बोल उठी’ की चार-पाँच कहानियाँ शुद्ध ऐतिहासिक हैं। इनमें व्यथा भी है और आक्रोश भी। कारण यह है कि ये अपने समय की ज़मीनी सच्चाई और बुनियादी सवालों को उठाती हैं और तर्क एवं तथ्य की तलाश में वर्तमान से अतीत तक का सफ़र तय करती हैं। इनमें बौद्धिक संवादों की टकराहटों के बजाय समय की ओट में छुपी विसंगतियों को उधेड़ने की शक्ति है जो सियासी शतरंज की बिसात को उलटने का साहस रखती है। इन कहानियों के तेवर तीखे और तल्ख़ ज़रूर हैं, मगर साथ ही इन कहानियों में संवेदनारूपी सरिता का प्रवाह बड़ी सहज गति से बहता महसूस होता है, जो शब्दों पर विश्वास को बहाल और निराशा को आशा में बदलने में ख़ासा सक्षम है। ये कहानियाँ अपने ईमानदाराना प्रयास के चलते अरसे तक पढ़ने वालों की सोच में अटकी रहेंगी।

Jaidi Zafar Raza

जै़दी जाफ़र रज़ा
०  असली नाम: जाफ़र रज़ा
०  सैयद और जै़दी ख़ानदान और वंश का परिचायक
०  हिंदी, उर्दू और अंग्रेज़ी में विगत लगभग पचास वर्षों से लिखने का अनुभव
०  हिंदी में शैलेश जै़दी के नाम से आलोचक और कवि के रूप में चर्चित
०  दो दर्जन से अधिक कविता, शोध एवं आलोचना की पुस्तकें प्रकाशित
०  प्रेमचंद पर विशेष अधिकारी विद्वान् के रूप में विख्यात
०  सूफ़ी एवं भक्ति साहित्य पर विशेष कार्य
०  पहली बार कहानीकार के रूप में पंद्रह कहानियों की प्रस्तुति

Scroll