Prachin Unani Kahaniyan

Rangey Raghav

Availability: In stock

Seller: KGPBOOKS

Qty:
340.00 306 + Free Shipping


  • Year: 2011

  • Binding: Hardback

  • Publisher: Kitabghar Prakashan

  • ISBN No: 9788170161585

प्राचीन यूनानी कहानियाँ
यूनानी संस्कृति का दिग्दर्शन कराने वाली ऐसी कहानियों का संग्रह, जो वहाँ के अतीत जीवन की अत्यंत रोचक झाँकी प्रस्तुत करती हैं ।

Rangey Raghav

रांगेय राघव 17 जनवरी, 1923 को जन्म आगरा में । मूल नाम टी०एन०बी० आचार्य (तिरुमल्लै नम्बाकम् वीर राघव आचार्य) । कुल से दाक्षिणात्य, लेकिन ढाई शतक से पूर्वज वैर (भरतपुर) के निवासी और वैर, बारौली गांवों के जागीरदार । शिक्षा आगरा में । सेंट जॉन्स कॉलेज से 1944 में स्नातकोत्तर और 1948 में आगरा विश्वविधालय से गुरू गोरखनाथ पर पी-एच०डी० । हिंदी, अंग्रेजी, ब्रज और संस्कृत पर असाधारण अधिकार । 13 वर्ष की आयु में लेखनारंभ । 23-24 वर्ष की आयु में ही अभूतपूर्व चर्चा के विषय । 1942 में अकालग्रस्त बंगाल की यात्रा के बाद लिखे रिपोर्ताज 'तूफानों के बीच' से चर्चित। साहित्य के अतिरिक्त चित्रकला, संगीत और पुरातत्त्व में विशेष रुचि थी । साहित्य की प्रायः सभी विधाओं में सिद्धहस्त थे । मात्र 39 वर्ष की आयु से कविता, कहानी, उपन्यास, नाटक, रिपोर्ताज के अतिरिक्त आलोचना, सभ्यता और संस्कृति पर शोध व व्याख्या के क्षेत्रों को 150 से भी अधिक पुस्तकों से समृद्ध किया । अपनी अद्भुत प्रतिभा, असाधारण ज्ञान और लेखन-क्षमता के लिए सर्वमान्य अद्वितीय लेखक थे। संस्कृत रचनाओं का हिंदी, अंग्रेजी में अनुवाद। विदेशी साहित्य का हिंदी में अनुवाद । 7 मई, 1956 को सुलोचना जी से विवाह। 8 फरवरी, 1960 को पुत्री सीमन्तिनी का जन्म। अधिकांश जीवन आगरा, वैर और जयपुर में व्यतीत । आजीवन स्वतंत्र लेखन । हिंदुस्तानी अकादमी पुरस्कार (1951), डालमिया पुरस्कार (1954), उत्तर प्रदेश सरकार पुरस्कार (1957 व 1959), राजस्थान साहित्य अकादमी पुरस्कार (1961) तथा मरणोंपराते (1966) महात्पा गांधी पुरस्कार से सम्मानित । विभिन्न कृतियाँ अन्य भारतीय और विदेशी भाषाओं में अनूदित और प्रशंसित । लंबी बीमारी के बाद 12 सितंबर, 1962 को मुंबई में देहांत ।

Scroll