Baazaar Mein Guriya

Sitesh Alok

Availability: In stock

Seller: KGPBOOKS

Qty:
190.00 171 + Free Shipping


  • Year: 2012

  • Binding: Hardback

  • Publisher: Parmeshwari Prakashan

  • ISBN No: 9789380048383

बाज़ार में गुड़िया
कवि, कहानीकार, उपन्यासकार डॉ. सीतेश आलोक ने पिछले तीस वर्षों में साहित्य की अनेक विधाओं में अपने अवदान द्वारा एक विशिष्ट स्थान प्राप्त किया है। वे उन कवियों में हैं जो लीक से हटकर नितांत अपनी शैली में अपने मन की बात कहने का साहस रखते हैं।
इनकी अनेक कविताएँ भारतीय भाषाओं के साथ ही अंग्रेज़ी में भी अनूदित होकर प्रकाशित होती रही हैं।
डॉ. आलोक के लिए कविता सायास रची जाने वाली कोई सामग्री न होकर सहज ही उपजने वाली अभिव्यक्ति है। ऐसी रचनाएँ नित्य नहीं उपजतीं... किसी साँचे में ढालकर नहीं बनाई जा सकतीं।
इस संग्रह की अनेक कविताएँ ‘आजकल’, ‘साहित्य अमृत’, ‘साक्षात्कार’, ‘विपाशा’ आदि कई पत्रा- पत्रिकाओं में प्रकाशित हो चुकी हैं।

Sitesh Alok

सीतेश आलोक 
प्रयाग वि. वि. से एम. ए., पी-एच. डी.; भातखंडे संगीत 
म. वि. (पुणे) से संगीत विशारद; क्वीन एलिज़ाबॅथ हाउस, ऑक्सफोर्ड की विज़िटिंग फलोशिप (1981-82)।
चित्रकला एवं पर्यटन में भी विशेष रुचि।
साहित्य की लगभग सभी विधाओं में लेखन, जो सभी प्रमुख पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित और रेडियो-टेलीविज़न द्वारा प्रसारित हुआ। अनेक रचनाएँ तमिल, पंजाबी, उड़िया, मराठी, गुजराती, तेलुगु, कन्नड़, भोजपुरी, असमिया तथा अंग्रेज़ी आदि में भी प्रकाशित।
प्रकाशन: महागाथा (उपन्यास); रेंगती हुई शाम, अंध सवेरा, नासमझ, तुम कहो तो..., मुहिम (कथा-संग्रह); कैसे-कैसे लोग, विचित्र (लघुकथाएँ); बच गया आकाश, यथासंभव, बाज़ार में गुड़िया, छोटा सा सपना, गाते गुनगुनाते (काव्य); सूरज की छुट्टी, चंदर का सुख, तपस्या, परिणाम और सोने की टिकिया (बाल साहित्य)।
अन्य: लिबर्टी के देश में, परनिंदा परमं सुखं, रामायण पात्र-परिचय, मानस मंगल, यथार्थ रामायण आदि।
हिंदी अकादमी दिल्ली से साहित्य सम्मान तथा कृति सम्मान; उ. प्र. हिंदी संस्थान से साहित्य भूषण तथा अनुशंसा सम्मान; केंद्रीय हिंदी संस्थान से राहुल सांकृत्यायन सम्मान; विश्व हिंदी सम्मेलन का राष्ट्रीय हिंदीसेवी सम्मान, भारतीय साहित्य परिषद, दिल्ली से कृति सम्मान आदि अनेक सम्मानों से विभूषित।

Scroll