Alikhit Adikhat

Ganga Prasad Vimal

Availability: In stock

Seller: KGPBOOKS

Qty:
125.00 113 + Free Shipping


  • Year: 2008

  • Binding: Hardback

  • Publisher: Arya Prakashan Mandal

  • ISBN No: 9788188118564

अलिखित-अदिखत
कविताएँ शब्दों से बनती हैं, किन्तु शब्दों से परे वे एक दूसरी दुनिया ही का अहसास कराती है । एक अर्थ में महत्तम कविताएं अर्थ से परे बिंबन की एक अलग पद्धति विकसित करती हैं । इस मायने में वे न सिर्फ शब्दों को विचलित करती है, बल्कि गढ़े गए ढाँचों को तोड़ती हैं और भाषागत प्रतीतियों से घोर असहमति द्योतित करती है । मोटे तौर पर कहा जा सकता है कि सृजन की तमाम विधाओं में कलाओं की तरह कविताएँ एक नया ही वस्तुरूप प्रस्तुत करती है । ऐसा नहीं कि सभी कविताएँ यह काम करती हों-हमारे समाजों में परंपरागत शिल्प की, खुद को दोहराने वाली कविताओं का ज़मावड़ा ज्यादा होता है-पर कभी-कभी परंपरागत शिल्प से भी सृजन के आगामीपन की दस्तक मिलती है। निष्कर्ष यह कि कविता चाहे जिस शिल्प में रची जा रही है, अगर वह प्रचलित रूपों को तोड़ती चलती है तो उसमें वह भावी आहट, धीमे ही सही, सुनाई देती है, जो भाषा और व्याकरण के लिए जाती बनकर सामने जाती है ।
अलिखित-अदिखत की कविताएं पाठकों काव्य-रसिकों में कुछ ऐसी ही अपेक्षाएं जाग्रत करने की अनुगूँज ध्वनित करती है, जिन्हें सृजन की जोखिम-भरी टकराहट के बीच महसूस किया जा सकता है...

Ganga Prasad Vimal

गंगाप्रसाद विमल हिमालय के एक छोटे-से कस्बे में, 1939 में जन्मे गंगाप्रसाद विमल ने अनेक विश्वविद्यालयों में शिक्षा पाई । एक-चौथाई शताब्दी अध्यापन करने के बाद वे 1989 में भारत सरकार के केंद्रीय हिंदी निदेशालय के निदेशक नियुक्त किए गए । साथ ही साथ उन्होंने सिंधी भाषा की राष्ट्रीय परिषद और उर्दू भाषा की राष्ट्रीय परिषदों का काम भी संभाला । विश्व की अनेक भाषाओं में उनकी कहानियों के अनुवाद प्रकाशित हुए हैं । 'न्यूडायमेंशंस', 'मेडिटिरेनियन रिव्यू', 'वैस्टर्न ह्यूमेनिटीज रिव्यू', 'द न्यू रेनेंया', 'क्वैरी', ‘प्रिन्य इंटरनेशनल', 'इस्टर्न होराइ्जन' आदि विश्वप्रसिद्ध पत्रिकाओं में उनकी कहानियों का प्रकाशन हुआ है । लंदन के फॉरेस्ट बुक्स ने उनकी कविताओं और कहानियों का एक बृहद संकलन कुछ वर्ष पहले प्रकाशित किया था । अब तक हिंदी में उनके ग्यारह कहानी-संग्रह प्रकाशित हुए हैं । इसके साथ ही चार उपन्यास तथा सात कविता-संग्रह व विश्व की अनेक कृतियों की उनके द्वारा अनुदीत पुस्तकें प्रकाशित हुई हैं । हाल ही से उनके उपन्यास 'मृगान्तक' पर एक अंतर्राष्ट्रीय फिल्म "बोक्षु : द मिथ' का निर्माण हुआ है, जिसका प्रदर्शन अंतर्राष्टीय फिल्म महोत्सव में किया गया। अनेक राष्ट्रीय-अंतर्राष्ट्रीय सम्मानों से अलंकृत गंगाप्रसाद विमल जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय के प्रोफेसर-पद से सेवामुक्त होकर लेखन में सक्रिय है ।

Scroll