Bazmey Ghazal

Om Prakash Sharma

Availability: In stock

Seller: KGPBOOKS

Qty:
200.00 180 + Free Shipping


  • Year: 2013

  • Binding: Hardback

  • Publisher: Vandana Book Agency

  • ISBN No: 9788190193580

बज्मे-ग़ज़ल
उर्दू अदब में ग़ज़ल का क्षेत्र जितना व्यापक है, उतनी ही बडी तादाद उन शाइरों की भी  जिन्होंने ग़ज़ल को लोकप्रिय बनाया ।
गजल शब्द के अर्थ से आज लगभग सभी परिचित है, लेकिन आज के परिवेश में ग़ज़ल की परिभाषा बदली हुई दिखाई दे रही है । इस संकलन को तैयार करते हुए यह प्रयास रहा है कि ग़ज़ल के शाब्दिक अर्थ के अतिरिक्त, इसके बदले हुए रूप को भी पाठकों के सन्मुख रखा जाये। इसीलिए 'बज्मे-गजल' में संगृहीत ग़ज़लें कभी परम्पराओं में बंधी नज़र आयेंगी, तो कभी इनका रूप आज़ के ज़माने को छूता हुआ दिखाई देगा ।
उर्दू गजल आज जिस बुलन्दी पर पहुंच चुकी है, साहित्य की किसी दूसरी विधा का यहा तक पहुंच पाना शायद सम्भव नहीं; क्योंकि  गजल कहीं नहीँ जाती, बल्कि खुद-ब-खुद हो जाती है । ग़ज़ल सिर्फ इल्तिजा ही नहीं करती, ऐलान भी करती है, समझोता करना ही नहीं सिखाती, अधिकार प्राप्त करने के लिए लड़ना भी सिखाती है तथा सिर्फ फूल ही नहीं, अंगारे बरसाने का हौंसला भी देती है ।
इस संकलन से जहां अनेक पुराने शाइरों की गज़लें दी जा रही हैं, वहीं कुछ नये शाइरों की ग़ज़लें भी मौजूद हैं, जो आज लोगों के दिलों में घर कर रहे हैं।

Om Prakash Sharma

ओमप्रकाश शर्मा
जन्म: 27 नवम्बर, 1932, दिल्ली।
शिक्षा: दिल्ली विश्वविद्यालय से एम.कॉम. एवं एम.ए. (हिन्दी)।
योगदान: अनेक अंगरेजी पुस्तकों के हिन्दी अनुवाद और कई अन्य हिन्दी पुस्तकों का संकलन एवं सम्पादन।
प्रस्तुति: हस्तरेखाओं पर तीन विश्वप्रसिद्ध पुस्तकों का अनुवाद, जिनके लेखक हैं: सेंट जर्मेन, विलियम बैनहम तथा कीरो ०  एमिल लुडविग की पुस्तक नेपोलियन बोनापार्ट की जीवनी ०  प्रथम अश्वेत दक्षिण अफ्रीकी राष्ट्रपति नेलसन मैण्डेला की आत्मकथा ‘लांग वाक टु फ्रीडम’ का हिन्दी अनुवाद।
अन्य: उर्दू शायरी में विशेष रुचि तथा कुछ महत्त्वपूर्ण साहित्यिक ग्रंथों का प्रणयन।

Scroll