Das Pranidhini Kahaniyan : Akhilesh (Paperback)

Sushil Sidharth

Availability: In stock

Seller: KGPBOOKS

Qty:
250 +


  • Year: 2017

  • Binding: Paperback

  • Publisher: Kitabghar Prakashan

  • ISBN No: 978-93-81467-83-1

दस प्रतिनिधि कहानियां : अखिलेश 
'दस प्रतिनिधि कहानियाँ' सीरीज़ किताबघर प्रकाशन की एक महत्त्वाकांक्षी कथा-योजना है, जिसमें हिन्दी कथा-जगत् के सभी शीर्षस्थ कथाकारों को प्रस्तुत किया जा रहा है ।
इस सीरीज़ में सम्मिलित कहानीकारों से यह अपेक्षा की गई है कि वे अपने संपूर्ण कथा-दौर से उन दस कहानियों का चयन करें, जो पाठको, समीक्षकों तथा संपादकों के लिए मील का पत्थर रही हों तथा ये ऐसी कहानियाँ भी हों, जिनकी वजह से उन्हें स्वयं को भी कहानीकार होने का अहसास बना रहा हो। भूमिका-स्वरूप कथाकार का एक वक्तव्य भी इस सीरीज़ के लिए आमंत्रित किया गया है, जिसमें प्रस्तुत कहानियों को प्रतिनिधित्व सौंपने की बात पर चर्चा करना अपेक्षित रहा है ।
किताबघर प्रकाशन गौरवान्वित है कि इस सीरीज़ के लिए सभी कथाकारों का उसे सहज सहयोग मिला है। इस सीरीज़ के महत्त्वपूर्ण कथाकार अखिलेश ने प्रस्तुत संकलन में अपनी जिन दस कहानियों को प्रस्तुत किया है, वे हैं: चिट्ठी, शापग्रस्त, बायोडाटा, ऊसर, पाताल, मुहब्बत, जलडमरूमध्य, वजूद, श्रृंखला तथा अँधेरा।
हमें विश्वास है कि इस सीरीज़ के माध्यम से पाठक सुविख्यात लेखक अखिलेश   की प्रतिनिधि कहानियों को एक ही जिल्द में पाकर सुखद पाठकीय संतोष का अनुभव करेंगें ।

Sushil Sidharth

सुशील सिद्धार्थ 
 जन्म : 2 जुलाई, 1958, ग्राम भीरा , जिला सीतापुर ( उ.प्र. )
शिक्षा : हिंदी साहित्य में पी-एच डी.
प्रकाशित पुस्तकें : 'प्रीति न करियो कोय', 'मो सम कौन', 'नारद की चिंता (व्यंग्य संग्रह) ० 'बागन- बागन कहै चिरैया', ' एका' (अवधी कविता संग्रह)
संपादित पुस्तकें : 'श्रीलाल शुक्ल संचयिता', 'मेरे साक्षात्कार : शिवमूर्ति', 'मेरे साक्षात्कार : मन्नू भंडारी', 'दस प्रतिनिधि कहानियां : उषाकिरण खान', 'दस प्र तिनिधि कहानियां : ऋता शुक्ल', 'प्रतिनिधि कहानियां : चित्रा मुद्ल', 'हिंदी कहानी का युवा परिदृश्य' ( 3 खंड)
व्यंग्य और आलोचना में सक्रिय
कई समाचार-पत्रों व पत्रिकाओं में स्तंभ लेखन । पर्याप्त मीडिया लेखन
'उत्तर प्रदेश हिंदी संस्थान' से दो बार व्यंग्य और दो बार अवधी कविता हेतु नामित पुरस्कार । आलोचना के लिए 'स्पंदन सम्मान'
'व्यंग्य लेखक समिति' (वलेस) के राष्ट्रीय अध्यक्ष

Scroll